ब्लॉगसेतु

girish billore
358
एक व्यक्तित्व जो अंतस तक छू गया है । उनसे मेरा कोई खून का नाता तो नहीं किंतु नाता ज़रूर था । कमबख्त डिबेटिंग गज़ब चीज है बोलने को मिलते थे पाँच मिनट पढ़ना खूब पङता था । लगातार बक-बकाने के लिए कुछ भी मत पढिए ,1 घंटे बोलने के लिए चार किताबें , चार दिन तक पढिए, 5 मिनट...
girish billore
358
तनवीर जी की पोस्ट हटाई सृजनगाथा ने रायपुर से वेब पर प्रकाशित होने वाली सृजनगाथा के संपादक जी ने सत्यनिष्ठ होने का परिचय देकर साहित्य और न्याय का समर्तन किया और तनवीर जाफरी के नाम से प्रकाशित मेरी रचना "जीवन की बंजर भूमि में " लिंक ये थे => http://www.srijangatha.c...
girish billore
358
JEEVAN KEE BANJAR BHOOMI ,को दूसरे नाम से सृजनगाथा ने छापा या लेखक तनवीर ने छपवाया ये और बात है मुख्य मामला तो ये है कि मैंने साहित्यिक चोरी के खिलाफ़ पूरी ताक़त से मैंने आवाज़ उठाई ,मेरे करीब के लोग मुझे नसीहत देते नज़र आ रहे हैं। "तनवीर जाफरी ने बताया कि सृजनगाथा...
हर्षवर्धन त्रिपाठी
644
( इलाहाबाद विश्वविद्यालय का पहला अंतराष्ट्रीय पुरातन छात्र सम्मेलन 16-17-18 फरवरी को हुआ। किसी वजह से इसमें मैं जा नहीं पाया। इस पुरातन छात्र सम्मेलन की पत्रिका के लिए मुझसे भी विश्वविद्यालय में मेरे विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दिनों के बारे में लेख मांगा गया था। जो...
Arvind Mishra
423
मित्रों ,मेरी यह विज्ञान कथा नवनीत के ताजे ,फरवरी ,०८ अंक मे छपी है ,आप की सेवा मे प्रस्तुत है - मनचाही संतान ``हैलो, मैं डॉ0 आशुतोष निगम बोल रहा हूँ , क्या यह जेनटिक कम्पनी का मुख्यालय है ? ´´``जी हाँ , म...
 पोस्ट लेवल : विज्ञान कथा
rashmi prabha
42
माँ के गर्भ मेअभिमन्यु ने चक्रव्यूह मे जाना सीखानिकलने की कला जानेउससे पहले , निद्रा ने माँ को आगोश मे लियाभविष्य निर्धारित कियाचक्रव्यूह उसका काल बना !मेरी आंखें, मेरा मन , मेरा शरीरमंत्रों की प्रत्यंचा पर जागा हैतुम्हारे चक्रव्यूह को अर्जुन की तरह भेदा हैमेरी आशा...
संजीव तिवारी
268
जगार : हल्बी महागाथाछत्तीसगढ की राजधानी रायपुर के मोतीबाग में विगत कई वर्षों से जगार उत्सव का आयोजन किया जाता है । जिसमें उपस्थित होने के सुअवसर भी प्राप्त हुए, विगत रविवार को टैक्नोक्रेट रवि रतलामी जी एवं संजीत त्रिपाठी जी से मुलाकात में चर्चा के दौरान जगार उत्सव...
rashmi prabha
42
शान्त नदी,घनघोर अँधेरा,एक पतवार और खामोशी-यात्रा बड़ी लम्बी थी!ईश्वर की करुणाएक-एक करके पतवारों की संख्या बढ़ी ,कल-कल का स्वर गूंजाखामोशी टूटीअँधेरा छंटने लगायात्रा रोचक बनीप्यार की ताकत नेकिनारा दिखायाउगते सूर्य को अर्घ्य चढाया .................
अविनाश वाचस्पति
127
एम एम एस ने किया तहस नहसक्या करें बहस ?
 पोस्ट लेवल : एम एम एस त्रिपद्म बहस
हर्षवर्धन त्रिपाठी
644
देश के बीमारू राज्यों में अगुवा उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए इससे अच्छी खबर नहीं हो सकती है। ASSOCHAM को अब उत्तर प्रदेश में संभावनाएं दिख रही हैं। देश के दो सबसे बड़े उद्योग संगठनों में से एक ASSOCHAM की ताजा स्टडी रिपोर्ट कह रही है कि उत्तर प्रदेश उद्योगों के लिह...
 पोस्ट लेवल : employment Uttar Pradesh industry