ब्लॉगसेतु

rashmi prabha
30
आज मैं आपको प्रकृति कवि सुमित्रानंदन पन्त जी से मिलवाने समय के उस बिन्दू पर ले चलती हूँ,जहाँ मुझे नहीं पता था कि वे कौन हैं ,उनकी महत्ता क्या है !नन्हा बचपन,नन्हे पैर,नन्ही तिलस्मी उड़ान सपनों की और नन्ही-नन्ही शैतानियाँ- उम्र के इसी अबोध,मासूमियत भरे दिनों में मैं...
girish billore
90
..............................
 पोस्ट लेवल : चर्चा
seema sachdeva
769
कृष्ण - सुदामा (खण्ड - २)हर्षित है उसका मन ऐसेमिल गया हो नव जीवन जैसेजैसे ही दामा ने कदम बढ़ायाकृष्ण को भी वो याद था आयाबोले रुक्मणी से तब कृष्णायाद आ रहा मुझे सुदामागुरुकुल के हम ऐसे बिछुड़ेऔर फिर अब हम कभी न मिलेकृष्ण ऐसे बतियाते जातेदामा की बात बताते जातेहँस देत...
अविनाश वाचस्पति
130
मित्रों बतलायेंकौन सा आई पॉडया एम पी 3 या 4प्‍लेयर लिया जायेजो बातचीत, कार्यवाही रिकार्डिंग भी करे औरजिस पर देख सकेंवीडियो भी।बैटरी ज्‍यादा, साख भी होएफएम सिर्फ सुनें ही नहींरिकार्ड भी कर सकेंस्‍पीकर्स भी हो सकतेहों अटैचचाहें तो उसका प्रयोगनुक्‍कड़ गोष्‍ठी में भीकर...
sangeeta swarup
181
वृथा ही मैंने चाहत के कुसुम चुन लिए ,जिनमें कोई गंध नही थी ।मात्र मन लुभाने का हुनर था। कुछ ताज़गी थी ,कुछ रंग थे जिन्हें देख कर मन हुआ कि उठा कर अंजुरी भर लूँ ,और मैं -मंत्रमुग्ध सी मन की अंजुरी भर लायी ।पर थे तो पुष्प ही न मुरझा गए कुम्हला कर हो गए बेरंग से ,और अ...
Amit K Sagar
442
[प्रणाम] समूची दुनिया में हमारे मुल्क ने आतंक की भयावह त्रासदी को जितना अधिक झेला है , उतना शायद विश्व के किसी और देश ने इस पीड़ा को नही झेला है । आतंकवाद की समस्या समूची सभ्यता के लिए एक बड़ी चुनौती बनती जा रही है । वास्तव में अब ये वक्त आ गया है कि समूची दुनिया...
girish billore
360
मित्र ............जी सादर अभिवादन आपका ख़त मिला . मेरी सेहत ठीक है कोई बुखार ताप नहीं है मज़ा आ गया . ख़त का मज़मून और लिफाफा भा गया बिना प्रयास के मेरा नाम विवादों के आकाश में छा गया नाम तो हुआ मेरा भी मेरे शहर का भी सच्चे सहज प्रयासों को धक्का लगा कर आप ने ज...
 पोस्ट लेवल : ख़त ईमानदारी
Amit K Sagar
442
भारत की गरीबी दुनिया के दुसरे मुल्को में कई बार बेची जाती है। आज भी दुनिया के अमीर देशों में लोगो की यह मानसिकता है कि भारत एक पिछड़ा हुआ देश है। जिस गरीब की गरीबी को बेचकर दौलतमंद और अधिक दौलतमंद हो जाते हैं। वो गरीब सिर्फ़ गरीबी पर अपने आँसू बहा सकता है । गरीब...
Amit K Sagar
442
भारत की आध्यत्मिक धारा में एक क्रन्तिकारी प्रवाह का नाम है आचार्य रजनीश । ओशो ने हमेशा समय से आगे की बात की है । उनकी दृष्टि में आतंक की समस्या का गहरा सम्बन्ध हमारे अन्तर्मन से से अवचेतन से है । वर्ष १९८६ में उरुग्वे में दिए एक प्रवचन में ओशो ने आतंकवाद की समस्या...
Amit K Sagar
442
अभिनेता और ब्लॉगर अमिताभ बच्चन ने मुंबई में हुए आतंकवादी हमले पर अपना दर्द संवेदना और गुस्से का इज़हार अपने ब्लॉग में किया । DAY 217Prateeksha, Mumbai November 26/27, 20081:23 amMUMBAI UNDER TERRORIST ATTACK !! SEVERAL LOCATIONS BOMBED AND TERRORISTS FIRING ALL...
 पोस्ट लेवल : ***बिग बी के ब्लॉग से