ब्लॉगसेतु

सुनीता शानू
0
जैसा कि मैने अपनी पिछली पोस्ट में लिखा था,कि ४ तारीख तक आप सब मुझे अपना नाम कवि या श्रोता के रूप में दर्ज करवा दें...तो अभी तक जिन लोगो ने अपना नाम ई-कविता , अनुभूति व हिन्द-युग्म गुगलसमूह मेल के जरिये प्रेषित किया है , और जिन्होने चिट्ठे पर आकर दर्ज करवाया हैसभी क...
 पोस्ट लेवल : गौष्ठी-आयोजन
हर्षवर्धन त्रिपाठी
0
पाकिस्तान में कितने लोकतांत्रिक तौर पर चुने गए जनप्रतिनिधियों ने सत्ता संभाली और कितने तानाशाहों ने इस मुल्क पर राज किया। या फिर कितनी बार चुनाव हुए और कितनी बार वहां तख्त पलट कर-आपातकाल लगा। दोनों की ही गिनती लगभग बराबर ही निकलेगी। यहां तक कि लोकतांत्रिक सरकार से...
कुमार मुकुल
0
चर्चित कवि मंगलेश डबराल को जब आयोवा यात्रा के दौरान भयानक दांत दर्द ने परेशान किया, तो जांच के बाद डाक्‍टरों ने पूछा कि आपकी अक्‍लदाढ़ उखाड़नी होगी, तो मंगलेश ने इस पर चुटकी लेते कहा - अगर अक्‍लदाढ़ उखड़वाना ही इलाज है तो मैं उसे स्‍वदेश में ही उखड़वाउंगा। और भारत...
हर्षवर्धन त्रिपाठी
0
ज्यादा आशंका इसी बात की है कि 7 नवंबर को अदालत से बौराए विधायक अनंत कुमार सिंह को जमानत मिल जाए। और, वो अपने शाही बंगले में पहुंचकर फिर से कानून और लोकतंत्र को अपनी जेब में रखने का अहंकार दिखाने लगे। पत्रकार पिटे औऱ जमकर पिटे। इस पिटाई ने बिहार में कानून व्यवस्था क...
अनीता कुमार
0
फ़िरंगीहाल ही में एक उपन्यास पढ़ा,"फ़िरंगी", सुरेश कांत जी ने लिखा है और 1997 में ग्रंथ अकादमी , नई दिल्ली से प्रकाशित हुआ था। ये उपन्यास मैं ने दूसरी बार पढ़ा है, और उतने ही मजे से पढ़ा जैसे पहली बार पढ़ा था। आज कुछ इसी के बारे में।उपन्यास जितना रोचक है उतना ही आखें खोल...
 पोस्ट लेवल : लेख
सुनीता शानू
0
हमें तो मालूम ही न था कि ऎसी गज़ब कुश्ती होगी...बाईस पहलवान कवियों जिनमें दो अन्य कवियित्रीयाँ भी होंगी...सबने मिलकर हम पर अपनी कविताओं के साथ आक्रमण कर डाला...मगर हम भी डट कर उनका मुकाबला करते रहे....लेकिन भैया हमारे साथ ऎक नाईन्साफ़ी हो गई हमारी प्रतियोगी कविता जो...
 पोस्ट लेवल : हास्य-व्यंग्य
महेश कुमार वर्मा
0
हमें अपनी मंजिल को पाना हैहर चुनौती को स्वीकारना हैराह में चाहे जो भी बाधा आएदुश्मन चाहे लाखों कांटा बिछाएहरेक बाधा को तोड़ना हैहमें अपनी मंजिल को पाना है
 पोस्ट लेवल : लक्ष्य कविता
हर्षवर्धन त्रिपाठी
0
Thursday, October 11, 2007किसी राज्य में भ्रष्टाचार और अपराध की जड़ें मजबूत होने से किस तरह का नुकसान होता है, इसका उत्तर प्रदेश से बेहतर उदाहरण शायद ही कोई और राज्य है। वैसे तो, उत्तर प्रदेश पिछले दो दशकों से किसी मामले में शायद ही तरक्की कर पाया हो लेकिन, पिछले प...
 पोस्ट लेवल : मुलायम राज
हर्षवर्धन त्रिपाठी
0
Sunday, September 30, 2007उत्तर प्रदेश में जिस्म बेचकर सिपाही की नौकरी मिली। ये सब उस समय हुआ जब मुलायम सिंह यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। पुलिस भर्ती घोटाले की जांच में अब तक का ये सबसे चौंकाने वाला और शर्मनाक तथ्य सामने आया है। मामले के जांच अधिकारी शैलजाक...
 पोस्ट लेवल : मुलायम राज
हर्षवर्धन त्रिपाठी
0
Wednesday, July 25, 2007उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती राज्य के विकास के लिए केंद्र सरकार से 80 हजार करोड़ रुपए मांग रही हैं। वो भी अखबारों में विज्ञापन देकर। शायद ये पहली बार हो रहा है कि कोई मुख्यमंत्री केंद्र सरकार से राज्य के विकास के लिए विज्ञापन के जरिए...
 पोस्ट लेवल : विकास की राह