ब्लॉगसेतु

रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : कहानी
रविशंकर श्रीवास्तव
5
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
sanjiv verma salil
6
दोहे -मुक्तक अजर अमर अक्षर अजित, अमित असित अनमोल।अतुल अगोचर अवनिपति, अंबरनाथ अडोल।।*रहजन - रहबर रट रहे, राम राम रम राम।राम रमापति रम रहो, राग - रागिनी राम।।*ललित लता लश्कर लहक, लक्षण लहर ललाम।                  &nbsp...
 पोस्ट लेवल : दोहे मुक्तक
sanjiv verma salil
6
नवगीत*लगें अपरिचितसारे परिचितजलसा घर मेंहै अस्पृश्य आजकल अमिधानहीं लक्षणा रही चाह मेंस्वर्णाभूषण सदृश व्यंजनाबदल रही है वाह; आह मेंसुख में दुःख को पाल रही हैश्वास-श्वास सौतिया डाह मेंहुए अपरिमितअपने सपनेकर के कर मेंसत्य नहीं है किसी काम कानाम न लेना भूल राम काकैद च...
 पोस्ट लेवल : नवगीत
sanjiv verma salil
6
छंद सलिला :संजीव*कीर्ति छंदछंद विधान:द्विपदिक, चतुश्चरणिक, मात्रिक कीर्ति छंद इंद्रा वज्रा तथा उपेन्द्र वज्रा के संयोग से बनता है. इसका प्रथम चरण उपेन्द्र वज्रा (जगण तगण जगण दो गुरु / १२१-२२१-१२१-२२) तथा शेष तीन दूसरे, तीसरे और चौथे चरण इंद्रा वज्रा (तगण तगण जगण दो...
 पोस्ट लेवल : कीर्ति छंद
sanjiv verma salil
6
कार्य शालाछंद-बहर दोउ एक हैं २*गीतफ़साना(छंद- दस मात्रिक दैशिक जातीय, षडाक्षरी गायत्री जातीय सोमराजी छंद)[बहर- फऊलुन फऊलुन १२२ १२२]*कहेगा-सुनेगासुनेगा-कहेगाहमारा तुम्हाराफसाना जमाना*तुम्हें देखता हूँतुम्हें चाहता हूँतुम्हें माँगता हूँतुम्हें पूजता हूँबनाना न आयाबहान...
 पोस्ट लेवल : छंद-बहर दोउ एक हैं २
राजीव सिन्हा
139
    जागता है खुदा और सोता है आलम।     कि रिश्‍ते में किस्‍सा है निंदिया का बालम।।     ये किस्सा है सादा नहीं है कमाल।।     न लफ्जों में जादू बयाँ में जमाल।।     सुनी कह रहा हूँ न देखा है हाल।।     फिर भी न शक के उठाएँ सवाल।।     कि किस्‍से पे लाजिम है सच का असर।।  ...
sanjiv verma salil
6
कार्य शालाछंद-बहर दोउ एक हैं ३*मुक्तिकाचलें साथ हम(छंद- तेरह मात्रिक भागवत जातीय, अष्टाक्षरी अनुष्टुप जातीय छंद, सूत्र ययलग )[बहर- फऊलुं फऊलुं फअल १२२ १२२ १२, यगण यगण लघु गुरु ]*चलें भी चलें साथ हमकरें दुश्मनों को ख़तम*न पीछे हटेंगे कदमन आगे बढ़ेंगे सितम*न छोड़ा, न छो...
 पोस्ट लेवल : छंद-बहर दोउ एक हैं ३
sanjiv verma salil
6
दोहा सलिला *अक्षर मिलकर शब्द बन, हमें बताते अर्थ.मिलकर रहें न जो 'सलिल', उनका जीवन व्यर्थ.*मन में क्या?, कैसे कहें? हो न सके अनुमान.राजनीति के फेर में, फिल्मकार कुर्बान.*सही-गलत जाने बिना, बेमतलब आरोप.लगा, दिखाते नासमझ, अपनों पर ह...
 पोस्ट लेवल : दोहा सलिला
Rohit Mewada
111
हेलो दोस्तों इस ब्लॉग में मैं आपको बताने वाला हु Network Marketing क्या है और इसमें सही क्या है गलत क्या है और इससे कैसे आप पैसा कमा सकते हो। Table of ContentsWhat is Network Marketing ?Why Network Marketing is growing ?Positive of Network marketingNegative...
 पोस्ट लेवल : Hindi Me Help