ब्लॉगसेतु

नमस्ते दोस्तों, कुछ कुछ पंक्तियां सालों पहले की लिखी मेल के ड्राफ्ट में दर्ज थीं। आज देखीं तो सोचा कि इन्हें ठीकठाक आकार में ढालकर शेर बनाया जाए। करीब दस मिनट की मशक्कत के बाद ये तीन कुछ मिसरे हो सके। अखबार में काम करता हूं। इस समय आॅफिस जाने का अलार्म बज उठा है। इ...
 पोस्ट लेवल : mother poetry Poem on mother
प्रतीक चित्र। साभार: गूगलमित्रों, लालकिले की तस्वीरें देखिए, ये हिंसा के बीज बोने वाले किसान नहीं हो सकते। हमारे वरिष्ठ कवि दिनेश जी की पंक्तियां हैं-हमेशा तन गए आगे जो तोपों की दहानों केकोई कीमत नहीं होती है प्राणों की जवानों केबड़े लोगों की औलादें तो कैंडल मार्च क...
प्रतीक चित्र।अतुल कन्नौजवीशुरू होती है जब दहलीज सावन के महीने कीवो इक आदत सी पड़ जाती है उन आंखों से पीने कीमुहब्बत तोड़कर दिल जब हमें कमजोर करती हैखुदा हमको नई ताकत भी दे देता है जीने की।।ये किस दहलीज और दीवार पे सर मारता हूं मैंक्यों अपने आप को गम में डुबोकर मारता...
 पोस्ट लेवल : Love shayari in hindi love shayari
हिंदी गज़ल|| Hindi Gazalअगर मुमकिन नहीं है फिर ये दावा कौन करता हैकोई भी फैसला उसके अलावा कौन करता हैउन्हें तो छींक पर भी दाद मिलती है जमाने कीहमारे शेर पर वाह—वाह, वा—वा कौन करता हैकिया है इश्क मैंने इसलिए मालूम है सबकुछमुहब्बत कौन करता है दिखावा कौन करता है।।&nbsp...
- अतुल कन्नौजवीCute Love Shayari For Girlfriend-Boyfriend, Best Love Sms Quotesसजा से तुम नहीं डरना मेरा दिल कैदखाना हैमोहब्बत इश्क का मुजरिम यहां सारा जमाना है,सनम तुमने अगर मुझसे कभी जो वेबफाई कीतुम्हें तारीख पर दिल की अदालत रोज आना है।।---------------------...
प्रतीक चित्र।Love Shayari in Hindiमुहब्बत में तुम्हारा ही लबों पर नाम आया है,भ्रमर की गुनगुनाहट का कली पर रंग छाया है।यहां हर बज्म तेरे नाम से गुलजार होती है,तुम्हारी मुस्कुराहट को गजल हमने बनाया है।।--------------------------तुम्हारे साथ जो गुजरे वो लम्हे हम नहीं...
 पोस्ट लेवल : Love shayari in hindi hindi shayari for girlfriend
प्रतीक चित्र। Love Shayari in Hindi मुहब्बत में तुम्हारा ही लबों पर नाम आया है,भ्रमर की गुनगुनाहट का कली पर रंग छाया है।यहां हर बज्म तेरे नाम से गुलजार होती है,तुम्हारी मुस्कुराहट को गजल हमने बनाया है।।--------------------------तुम्हारे साथ जो गुजरे वो लम्हे हम नही...
प्रतीक चित्र।  (साभार) -अतुुुल कन्नौजवीरात भी रफ्ता रफ्ता गुजरने को है, रौशनी आसमां से उतरने को है,बैठने फिर लगीं तितलियां फूल पर, खुशबू—ए—गुल फजां में बिखरने को हैजैसे मौसम बदलने को हलचल हुई, था अजब सा नजारा कोई जादुईदेखकर दिल मचलता रहा...
 पोस्ट लेवल : latest nazm Poetry on moon moon shayari chand par geet
 -अतुल कन्नौजवीइश्क़ ही काफ़ी है इक जान वार देने कोगुजरता वक्त है सबकुछ गुजार देने कोफरिश्ते सीढ़ियां लेकर छतों पे चढते रहेफलक से चांद सितारे उतार देने को,अजीब खेल है दुनिया बनाने वाले काजिंदगी देता है इक रोज मार देने कोसुकून दे दिया रातों की नींद भी दे दीबचा ह...
- अतुल कन्नौजवीऐ फलक थोडी जगह मुझको भी दे तारों के बीचअब मुझे अच्छा नहीं लगता जमींदारों के बीचसच कई दिन तक रखा रहता है बाजारों के बीचझूठ बिक जाता है पलभर में खरीदारों के बीचमुल्क में हरेक सूबे में, यहां तक हर जगहबेवकूफों की हुकूमत है समझदारों के बीचइक बचाती जिंदगी...