ब्लॉगसेतु

 - डॉ. गायत्री  थक गई हूं अब मैं चलते-चलते रूक गई हूं कुछ कहते-कहते मन में उठा है प्रश्नों का बवंडर झुक गई हूं मैं उठते-उठते   तेरी जीत, मेरी हार सब स्वीकार है मेरे तर्क, तेरे कुतर्क, तेरा सम्मान, मेरा अपमान शक, तिरस्कार और झूठा दिखावे का प्यार क्...
 पोस्ट लेवल : indian woman male ego kavita hindi poetry
- डॉ. गायत्री जिंदगी में कई ऐसे मौके आते हैै, जब हम हार मानना अधिक पसंद करते है और हार मान भी लेनी चाहिए क्योंकि तर्क-कुतर्क, ज्ञान-अज्ञान, अमीर-गरीब, ऊंच-नीच इन सबसे अधिक जरूरी है आत्मसम्मान। अपने स्वाभिमान या आत्मसम्मान को गिरवी रखकर जितने से बेहतर है हार जा...
 पोस्ट लेवल : gang rape Indian girl gayatri sharma
- डॉ. गायत्री उसे चाहिए खुला आसमानमत करो उसे पिंजरों में कैदवो सुंदर है पर आपकी सोच बदसूरत हैउसे आसमान की और आपको पिंजरे की जरूरत हैपरिंदों को चाहिए खुला आसमानभरने दो उन्हें ऊंची-ऊंची उड़ानसोने के जो पिंजरे आपको है भातेनन्हें परिंदे को वो जरा न सुहाते आप उ...
 पोस्ट लेवल : freedom nature poetry hindi poetry dr. gayatri sharma
- डाॅ. गायत्री शर्मा जिंदगी में मानव के अस्तित्व को बचाने की जद्दोजहद वर्षों से बदस्तूर जारी है परंतु मानव हर प्रयास करते-करते यह विस्मृत कर देता है कि उसके विनाश का एकमात्र बड़ा कारण वह स्वयं ही है। मानव प्रजाति के अस्तित्व से लेकर अंत तक, जीवन के हर छोटे-बड़े...
मैंने नदी से पूछा, नदी- तेरा गाँव कहाँ है? दिल को जहाँ सुकून मिले वो पीपल की छाँव कहाँ है? नदी बोली- मैं जहाँ रूकती हूँ, वहीं मेरा गाँव है। मेरी ठंडक का अहसास ही, पीपल की छाँव है।  मेरे किनारे पर ही बसते है घाट, मंदिर और बस्तियाँ अपार।&nbsp...
 पोस्ट लेवल : nature poem कविता प्रकृति
- डाॅ. गायत्री शर्मा अमृत अर्थात ‘अमरत्व प्राप्ति का माध्यम‘। आजादी की अमरता को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए और स्वतंत्रता की मशाल को चिरकाल तक हमारे दिलों में प्रज्जवलित रखने के लिए मनाए जा रहे आजादी के अमृत महोत्सव का शुभारंभ 12 अप्रैल 2021 को स्वतंत्र भारत के...
मोदी के आने से अच्छे दिन आने वाले है नहीं बल्कि अच्छे दिन आ चुके है। चोरों के खिलाफ देश के चौकीदार बने मोदी ने इमरान की सत्ता को हिलाकर रख दिया है। वायु में अभिनंदन का झंडा गाड़कर अब भारत-पाक को शाह रूपी थल बम
ये कैसी आजादी है?मिलकर भी अधूरी सी...कुछ कमी से भरीनन्ही गुलामी में लिपटी आजादीभ्रष्टाचार के रंग चढ़ीमंहगाई से महंगी औरटैक्स से वजनदार आजादीकुछ छिनी भ्रष्ट राजनीति नेकुछ विदेशी घुसपैठियों नेशेष ले गया काश्मीर और पाकिस्तानअब बची है शेष देश को अखंडित रखने की आसविद्रो...
असम में एनआरसी (नेशनल रजिस्टर आॅफ सिटीजंस) का मुद्दा अब पूरी तरह से राजनीतिक रंग ले चुका है। कांग्रेस चुनावी मौसम का फायदा उठाकर इस मुद्दे को भुना रहा है। आश्चर्य की बात तो यह है कि असम में बांग्लादेशीघुसपैठियों की संख्या हजारों में नहीं बल्कि लाखों में है। आँकड़ों...
फिल्म 'संजू' : एक आतंकी का महिमामंडन- डॉ. गायत्री शर्मा'संजू' फिल्म का जिस तरह से प्रचार-प्रसार किया गया था,उसे देखते हुए मेरे मन में भी इस फिल्म को देखने की उत्सुकता जागी लेकिन जब मैंने यह फिल्म देखी, तब मेरे सारे अरमान धराशायी हो गए। इस फिल्म की कहानी संजय दत्त न...