ब्लॉगसेतु

सृजन एवं अभिव्यक्ति की दृष्टि से हिंदी दुनिया की अग्रणी भाषाओं में से एक है। हिन्दी सिर्फ एक भाषा ही नहीं बल्कि हम सबकी पहचान है, यह हर हिंदुस्तानी का हृदय है। हिन्दी को राष्ट्रभाषा  किसी सत्ता ने  नहीं बनाया, बल्कि भारतीय भाषाओं और बोलियों के बीच संपर्क...
हिंदी को वैश्विक स्तर पर पहचान दिलाने में लखनऊ की संस्था परिकल्पना का अहम स्थान है।  विश्व के 11 देशों में  ‘‘ब्लॉगोत्सव‘‘ और ‘‘अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी उत्सव‘‘ का आयोजन कर चुकी यह संस्था हिन्दी भाषा को अंतर्राष्ट्रीय स्वरूप देने की दिशा में बड़ा काम कर रही ह...
लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ एवं चर्चित साहित्यकार व ब्लॉगर श्री कृष्ण कुमार यादव को प्रशासनिक एवं सामाजिक क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिये उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने विधायी एवं न्याय मन्त्री श्री बृजेश पाठक की अध्यक्षता मे...
अपने लखनऊ ने काफी प्रगति की है। यहाँ की तहजीब और नफासत की बात ही निराली है। लखनवी अंदाज की बात भी खूब होती है। परंतु कुछ बातों पर ध्यान दिया जाये तो वाकई इसे और भी खूबसूरत, स्मार्ट सिटी और सिटीजन फ्रेंडली बनाया जा सकता है। मैंने अभी तक दुनिया के 8 देशों की यात्रा क...
संस्कार और संवेदना मानव समाज की रीढ़ हैं। सामाजिक व्यवस्था के सुचारु संचालन हेतु युवा पीढ़ी में इनका संचरण जरुरी है। सोशल मीडिया के इस दौर में जहाँ हर कोई अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त करने के लिए भी कट-पेस्ट का सहारा ले रहा है, वहाँ संस्कारों को बचाकर रखना जरुरी हो गया...
जिंदगी के प्रवाह में कुछेक शहरों का आपकी जिंदगी में अहम स्थान होता है, मेरे लिए यह शहर इलाहाबाद है। एक ऐसा शहर जो कभी विद्यार्थियों के लिए अध्ययन का स्वर्ग था। कक्षा 12 पास करते-करते लोगों के मन की उड़ान अपनी कैरियर की महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए अनायास ही इ...
नहीं मांगता, प्रभु, विपत्ति से,मुझे बचाओ, त्राण करोविपदा में निर्भीक रहूँ मैं,इतना, हे भगवान, करो।नहीं मांगता दुःख हटाओव्यथित ह्रदय का ताप मिटाओदुखों को मैं आप जीत लूँऐसी शक्ति प्रदान करोविपदा में निर्भीक रहूँ मैं,इतना, हे भगवान,करो।कोई जब न मदद को आयेमेरी हिम्मत ट...
मेहनत को पहचान मिले,मजदूरों को सम्मान मिले,जो ऊंच-नीच की खाई भर दे,काश ऐसा कोई इन्सान मिले !!***********श्रमिक दिवस-मजदूर दिवसInternational Labours Day
वर्ष 2001 में जब सिविल सर्विसेज में हमारा चयन हुआ था तो उस समय सिविल सेवाओं में जवाहर नवोदय विद्यालय के विद्यार्थियों का प्रतिनिधित्व लगभग शून्य ही था। वक़्त के साथ नवोदयी विद्यार्थियों ने सिविल सेवाओं में भी अपनी सफलता के परचम फहराने आरम्भ किये और इस वर्ष 2018 में...
जोधपुर की धरती कहने को तो मरुस्थली है, पर साहित्यिक-सांस्कृतिक रूप से काफी समृद्ध है। यहाँ आने पर तमाम साहित्यकारों से मुलाकात हुई। हाल ही में हमारे आवास पर हुई एक मुलाकात की ग्रुप फोटो : प्रसिद्ध समालोचक और संपादक डॉ. रमाकांत शर्मा, रिटायर्ड जज और वरिष्ठ साहित्यका...