ब्लॉगसेतु

आशावादी बात लिखोलिखने में क्या जाता हैसुन्दर सेल्फ़ी चेंप दोदिखने में क्या जाता हैगेहूँ की एक घून ही हैपिसने में क्या जाता हैतवा चढ़ी जो रोटियाँसिंकने में क्या जाता हैजमीर जमीर मत करोबिकने में क्या जाता हैबहती है जब गर्म हवातपने में क्या जाता हैअक्षर अक्षर मंजरीछपने...
 पोस्ट लेवल : कविता ग़जल सभी रचनाएँ
ओ मधुरमासआओ ढूँढने चलेंप्यारे बसंत कोपवन सुहानी मन भायीमिली नहीं फूलों की बगियास्वर कोयल के कर्ण बसेछुपी रही खटमिट्ठी अमियायादों के पट खोल सखेले उतार खुशियाँ अनंत कोओ कृष्ण-रासता-थइया करवाओनर्तक बसंत कोमन देहरी पर जा सजीभरी अँजुरी प्रीत रंगोलीमिलन विरह की तान लिएप्...
 पोस्ट लेवल : नवगीत गीत
देसी आम"आज मन बहुत उदास है प्रिया| अपना देश छोड़ तो आए, पर लग रहा कि कितना कुछ पीछे छूट गया, " प्रियम ने कोरों पर छलक आए आँसुओं को छुपाने का असफल प्रयास करते हुए कहा|"देखो भाई, इतने दुखी मत हो| जीवन हमें गति का पाठ पढ़ाती है| गतिशिलता में कुछ पाते हैं और कुछ खोते भ...
 पोस्ट लेवल : लघकथा
9 हंस दोहा 14 गुरु और 20 लघु वर्ण 112 112 2 12 11 22 1121 211 11 2 21 2 112 11 2 21 बगिया इतराती फिरी, चहकी आज उमंग। भावन लगते हैं सभी, जब हों अपने संग।। इहलौकिक होने लगे, परिजाती मकरंद। आखर पुखराजी हुए, रचते ग़ज़लें छंद।। पद पाकर जो नम्र हैं, उन सा कौन महान। लो अनुभ...
दोहों के प्रकार - 8 - नर दोहा।दोहों के तेईस प्रकार होते है।वैसे 13-11के शिल्प से दोहों की रचना हो जाती है जिनमें प्रथम और तृतीय चरण का अंत लघु गुरु(12) से तथा द्वितीय और चतुर्थ चरण का अंत गुरु लघु(21) से होता है।दोहे में कुल 48 मात्राएँ होती हैं।आंतरिक शिल्प की बात...
 पोस्ट लेवल : दोहे दोहा छंद छंद दोहा
शीर्षक : तटस्थरमा को अपना तटस्थ व्यवहार बहुत पसंद था। बड़ी से बड़ी बहस में भी वह अपना कोई मत प्रकट न करती और चुप्पी साध लेती। इसलिए वह सबकी प्रिय बनी रहती। आज फिर से एक नई बहस छिड़ी थी। कॉलेज में कमिटी के प्रेसिडेंट का चुनाव होना था। इस चुनाव में दोनों प्रतिद्वंदी , र...
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
शीर्षक: उसे क्यों नहीं     एक ही महानगर में दोनों भाई-बहन अलग अलग घरों में रहते हुए अपनी अपनी नौकरियों में व्यस्त थे। भाई के पास माँ कुछ दिनों के लिए आई थी। वीकेंड में माँ ने बेटी के यहाँ जाने का मन बनाया था। सरप्राइज़ देने के ख्याल से वह बेटे के साथ...
 पोस्ट लेवल : लघुकथा
दोहे तेइस प्रकार के होते हैं...पिछले पोस्ट में तीन प्रकार के दोहे प्रकाशित हैं|4- श्येन दोहा19 गुरु और 10 लघु वर्ण22 2 11 2 12 ,22 2 2 212 2 12 121 2, 222 1121भोले फूल समेटते, प्यारी- प्यारी गंध।ज्यों ही हवा चली वहाँ, टूटे हैं अनुबंध।।1यादों की परछाइयाँ, यादों की ह...
 मैं वापस आऊँगा      हवाई जहाज ने टेक ऑफ़ के बाद स्थिर रफ़्तार पकड़ ली थी| जल्द ही श्वेत बादलों को टक्कर देती हुई ऊँची उड़ान भरने लगी|पूरे आठ घंटे का सफर था|      आज घर से निकलने के कुछ देर पहले पिता जी सीढ़ियों से गिर गये थे| कोई...
 पोस्ट लेवल : कहानी
वक़्त==============ये वक़्त भी क्या शय हैकितना कुछ समेटतीकितना कुछ बिखेरतीजाने कितने वादे किएसपनों की टेकरी मेंजाने क्या क्या इरादे दिएकहीं झंझावात देतीकहीं खुशियों को मात देतीवो मरज़ी रही उसी कीकुछ सुनहरे कुछ रुपहलेमित्रों से मुलाकात देतीइतिहास भी उसी से हैकई राज भी...
 पोस्ट लेवल : कविता सभी रचनाएँ