ब्लॉगसेतु

वक़्त जब करवट बदलता है गम चुपके से रास्ता बदल लेता है ज़मीन पर गिरा हुआ भी उठ कर खड़ा हो जाता है आंधी तूफ़ान भी कुछ नहीं बिगाड़ पाता है दुश्मन दोस्त नज़र आने लगता है टूटी किश्ती से भी किनारा मिल जाता है© डा.राजेंद्र तेला,निरंतर453-14-2--08-2014वक़्त ,ज़िंदगी,शायरीDr.Rajen...
 पोस्ट लेवल : वक़्त selected ज़िंदगी शायरी
जीना आ जाता तो मौत से डर नहीं लगता हर दिन कुछ पल बेचैन नहीं होता ना हँसना रुकता ना मन में खौफ होता बेफिक्र जीता रहता खुदा की इबादत डर से नहीं मन से करता    © डा.राजेंद्र तेला,निरंतर452-13-26--08-2014जीवन,मृत्यु,इबादत,खुदा,ज़िंदगी,शायरीDr.Rajen...
कल रात झुग्गी बस्ती में आग लग गयी सैकड़ों झुग्गियां जल कर राख हो गयी गरीबों की चीखें अमीर के फार्म हाउस में हो रही आतिश बाज़ी में दब गयी जश्न में शामिल लोगों की हँसी देर रात तक फिजा में गूंजती रही© डा.राजेंद्र तेला,निरंतर451-12-25--08-2014गरीब,अमीर ,जीवन,Dr.Rajendra...
 पोस्ट लेवल : जीवन अमीर गरीब selected
अकेलापनभ्रम का दूसरा रूप हैअकेलेपन में स्वयं से बात करनायादों में खो जाना स्थितियों परिस्थितियों को तोलनाअकेलेपन को दूर करता भी हैअकेलेपन में धकेलता भी कोई नहीं चाहता अकेला रहे फिर भी कभी कभी अकेलापन भी चैन देता है भीड़ के साथ रहने से उत्पन्न कुंठा से मुक...
 पोस्ट लेवल : अकेलापन