ब्लॉगसेतु

वर्चस्व के लिए वर्चस्व के लिए अँधेरे उजाले मेंद्वन्द्व हो गया सवेरे उजाला रात को अन्धेरा जीतताद्वन्द्व की सूचना चाँद सूरज को मिली दोनों की त्योरियां चढ़ गयी अविश्वास में भोएं तन गयी चाँद सूरज ने उजाले अँधेरे को बुला कर फटकारा फिर स्नेह से समझाया देते हम हैं वर्चस्व...
 पोस्ट लेवल : जीवन good नफरत प्रजा नेता
Positive ThoughtIf the thoughtIs positiveThe intent rightEvery new dayBecomesA good dayRemaining calmIn difficultiesCool in agonySmiling moreThan cryingMakes lifeEasy and rosyDr.Rajendra Tela,NirantarPositive thought,intent,life, 13-02-05-2015Dr.Rajendra Tela"Niran...
 पोस्ट लेवल : Positive thought Life intent
मेरे" मैं" ने मुझ को मारामेरे" मैं" ने मुझ को मारामैं ही जीता ,मैं ही हारामैं ही ज्ञानी मैं ही अज्ञानीकिसी और को क्या दोष दूंजब तक रहेगा "मैं" साथ मेरेपल पल मारेगा मुझेजी कर भी जी ना सकूंगाहर पल रोता रहूँगाकुंठाओं के जाल सेकभी ना निकल सकूंगाआज तक समझ ना पायाकैसे पी...
तन्हा होते हुए भी तन्हा नहीं हूँ===================तन्हा होते हुए भीतन्हा नहीं हूँदिन में उजालासाथ देता हैरातों में चांदनीसाथ निभाती  हैमन के अँधेरे कोकम करती हैयादों कोकाबू में रखती हैंनिराशा के भंवर मेंडूबने से बचाती हैंहर सुबह ज़िंदगी कोनयी उम्मीद सेसरोबार र...
 पोस्ट लेवल : जीवन निराशा उम्मीद book
रास्ता बदल लेते हैं लोग साथ चलते चलते रास्ता बदल लेते हैं लोगअपने से पराया बन जाते हैं लोगशक की दीवारें खींच देते हैं लोगचेहरे से नकाब उतार देते हैं लोगरिश्तों से यकीन उठा देते हैं लोगडा.राजेंद्र तेला,निरंतर10-02-05-2015दोस्त,रिश्तेDr.Rajendra Tela"Nirantar" "निरंत...
 पोस्ट लेवल : दोस्त रिश्ते book
कर्म फल =======बचपन में कर्म सेमुंह चुराता रहाखेल कूद मेंसमय बिताता रहाजवानी में जोशसर पर चढ़ गयाइच्छाओं का दासबन गयाहोड़ के मकड़ जाल मेंफंस गयाना इच्छाएं पूरी हुईना जोश बाकी रहाहोश आया तब तकबुढ़ापा आ गयाअब बचपन कोयाद कर के रोता हैकर्म से ही फल मिलता हैअब समझ आ गय...
कुंठा मुक्त जीता हूँ श्रेष्ठ हूँ भी नहींश्रेष्ठता की चाह भी नहीं श्रेष्ठता के मापदंडों पर खरा उतरने का ना सामर्थ्य ना निपुणता मेरे पास ना ही प्रशंसा के लिए चाटुकारिता अपना कर आत्मा को ठेस पहुंचाना संभवजैसा भी हूँ प्रसन्न हूँना किसी से होड़ना ईर्ष्या द्वेष त्रुटियों...
 पोस्ट लेवल : जीवन श्रेष्ठ book
काशकाश गुलाब सामहक सकतासदा बहार साखुश रह सकताछुइ मुई साशरमा सकतापलाश साहँस सकताकमल साखिल सकतालता सामचल सकतावृक्ष बन करजी सकताहर मौसम मेंझूमता रहताहर मन कोभा सकताडा.राजेंद्र तेला,निरंतर07-02-05-2015जीवनDr.Rajendra Tela"Nirantar" "निरंतर" की कलम से.....
 पोस्ट लेवल : जीवन
तितलियाँकुछ दिनों कीज़िंदगीमें भी लुभाती हैंतितलियाँरंग बिरंगे लिबास मेंजलवा दिखाती हैंतितलियाँहर फूल परजान लुटाती हैंतितलियाँज़िंदगीकैसे जीनी चाहिएसिखाती हैंतितलियाँखामोशी सेदुनिया में आती हैंतितलियाँख़ामोशी से जाती हैंतितलियाँडा.राजेंद्र तेला,निरंतर06-02-05-2015तितल...
 पोस्ट लेवल : तितलियाँ
प्रेम ही जीवन हैकल रात चाँद जब बादलों के पीछे छुपने लगा चांदनी भी घर की दीवारों को छू कर सिमटने लगी  बोझिल हृदय से उसे यूँ घर के दरवाज़े से लौटने का उलहाना दे दियाचन्द्रमा के अस्तित्व में मेरा अस्तित्व हैप्रेम का प्रतीक हैप्रेम ही जीवन हैकह कर चन्द्रमा के साथ च...