ब्लॉगसेतु

अलविदा 2020 एक ऐसा वर्ष जिसने इंसान को उसकी हकीकत समझा दी ।एक ऐसा साल ज़िसे कोई याद नहीं करना चाहेगा फिर भी कई नस्लो तक याद आयगा क्यू की इसने हमारे हजारों अपनो को हमसे  छीन लिया ।  ना जाने कितनो को बेरोजगार कर दिया बर्बाद कर दिया ।
 पोस्ट लेवल : 2020 alwida
ना किसी से ईर्ष्या ना किसी से कोई होड़ मेरी अपनी मंज़िलें मेरी अपनी दौड़ |जी हाँ मेरे जीने का अंदाज़ अक्सर कुछ लोगों को अलग सा लग तो सकता है लेकिन सच यह है की मैं जिस बात में ख़ुशी महसूस करता हूँ वही काम करता हूँ बस ख्याल इतना रखता हूँ यह ख़ुशी किसी और को तकलीफ पहुं...
 पोस्ट लेवल : Editorial
बहु को उसके ससुराल वाले मायके क्यों नहीं जाने देते ?अक्सर सुनने में आता है की फुलांन साहब अपनी बहु को उसके मायके नहीं जाने देते या कम जाने देते है या फ़ोन से बात भी नहीं करने देते | यहां मैं बता दूँ की मैं उनकी बात नहीं कर रहा जो ज़ालिम क़िस्म के सास  स...
 पोस्ट लेवल : Editorial सास ससुर love marriage
डार्विन ने स्पेंसर के नए वाक्यांश "स्वस्थतम की उत्तरजीविता" का इस्तेमाल सबसे पहले 1869 में प्रकाशित किए गए ऑन द ऑरिजिन ऑफ़ स्पीशीज़ के पांचवें संस्करण में किया था लेकिन पूरी दुनिया में अपने स्वास्थ  के प्रति जागरूक रहने वाले कम ही मिला करते हैं और इसके ही...
होशियार कहीं यह हमदर्द आपके लिए सिरदर्द न बन जाएँ | हमारे समाज में यह दस्तूर आम है की कहीं कोई बीमार हुआ और उसकी खबर आपके चाहने वालों आप हमदर्दों तक गयी तो हाल चाल पूछने के फ़ोन आना शुरू हो जाता है | देखने में यह अच्छा तरीक़ा है और भाई यही अच्छे समाज की पहचान भी...
 पोस्ट लेवल : featured Editorial
इमाम हुसैन की शहादत को नमन करते हुए हमारी ओर से श्रद्धांजलि… धर्म कोई भी हो जब यह राजशाही,बादशाहों,  का ग़ुलाम बन जाता है तो ज़ुल्म और नफरत फैलाता  है और जब यह अपनी असल शक्ल मैं रहता है तो, पैग़ाम ए इंसानियत "अमन का पैग़ाम " बन जाता है | यही कर्...
 पोस्ट लेवल : Editorial
हज़रत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के पिता हज़रत इमाम अली अलैहिस्सलाम व आपकी माता हज़रत फ़तिमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा हैं। आप अपने माता पिता की द्वितीय सन्तान थे। आप हजरत  मोहम्मद  साहेब  के  छोटे  नवासे   भी हैं हज़रत इमाम हुसैन अ...
 पोस्ट लेवल : Religion and Spirituality Editorial
आज के ज़माने में किसी की पीठ पीछे बुराई करना एक आम बात है और मित्र अपनी वफादारी का सुबूत देने के लिए आपके पास आ के वो सब बताते हैं की कौन आपके पीठ पीछे आपके बारे में क्या कह रहा था ? देखने में तो ऐसा लगता है की यह जो आपको खबर दे रहे हैं यह आपके शुभचिंतक है लेकि...
 पोस्ट लेवल : Editorial
आज मैं जो कुछ भी हूँ अपने पिताजी के कारण हूँ इज़्ज़त की शान की ज़िन्दगी दी |  आज फादर्स डे है और जिनके पिता नहीं रहे उन्हें  भी अपने बाप को याद करते  देखा गया है क्यूंकि किसी के जाने के बाद उसकी अहमियत समझ में ज़्यादा अच्छे से आती है |  ...
 पोस्ट लेवल : बाप parents fathers day
सबसे पहले तो आप सभी को पूरी सेहत के साथ हमेशा स्वस्थ रहने की दुआओं के साथ योग अंतराष्ट्रीय दिवस 2020 की बहुत बहुत शुभकमनाएं | स्वस्थ शरीर, मन और आत्मा योग से ही संभव है अंतराष्टीय योग दिवस  हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के प्रस्ताव पे हर वर...
 पोस्ट लेवल : yoga