ब्लॉगसेतु

एक ग़ज़ल : रोशनी मद्धम नहीं करना---रोशनी मद्धम नहीं करना अभी संभावना हैकुछ अभी बाक़ी सफ़र है तीरगी से सामना हैयह चराग़-ए-इश्क़ मेरा कब डरा हैंआँधियों सेरोशनी के जब मुक़ाबिल धुंध का बादल घना हैलौट कर आएँ परिन्दे शाम तक इन डालियों परइक थके बूढ़े शजर की आखिरी यह कामना हैहो ग...
चाय?कितनी किस्मेंजानती हूं मैं चाय की ?तो सुनो - नहीं मुझे चाय का क्लासिफिकेशन  !मुझे ये भी नहीं पता कि चाय का सइटिफिक नाम  क्या है ?चाय की फॅमिली किंगडम और रैंक क्या है ?- क्यों ???- क्यूंकि चाय मेरा पहला और क...
एक ग़ज़ल : गर्द दिल से अगर--गर्द दिल से अगर उतर जाएज़िन्दगी और भी  निखर जाएकोई दिखता नहीं  सिवा तेरेदूर तक जब मेरी नज़र जाएतुम पुकारो अगर मुहब्बत सेदिल का क्या है ,वहीं ठहर जाएडूब जाऊँ तेरी निगाहों मेंयह भी चाहत कहीं न मर जाएएक हसरत तमाम उम्र रहीमेरी तुहमत न...
--रंग-मंच है जिन्दगी, अभिनय करते लोग।नाटक के इस खेल में, है संयोग-वियोग।।--विद्यालय में पढ़ रहे, सभी तरह के छात्र।विद्या के होते नहीं, अधिकारी सब पात्र।।--आपाधापी हर जगह, सभी जगह सरपञ्च।।रंग-मंच के क्षेत्र में, भी है खूब प्रपञ्च।।--रंग-मंच भी बन गया, जीवन का जंजाल।...
एक व्यंग्य : तालाब--मेढक---- मछलियाँ गाँव में तालाब । तालाब में मेढकऔर मछलियाँ ।और मगरमच्छ भी । गाँव क्या ? "मेरा गाँव मेरा देश ’ही समझ लीजिए।मछलियों ने मेढकों को वोट दिया और ’अलाना’ पार्टी बहुमत के पास पहुँचते पहुँचते रह गई । गोया क़िस्मत की देखो ख़ूबी ,टूटी कहा...
ग़ज़ल : लगे दाग़ दामन पे--लगे दाग़ दामन पे , जाओगी कैसे ?बहाने भी क्या क्या ,बनाओगी कैसे ?चिराग़-ए-मुहब्बत बुझा तो रही होमगर याद मेरी मिटाओगी कैसे ?शराइत हज़ारों यहाँ ज़िन्दगी केभला तुम अकेले निभाओगी कैसे ?नहीं जो करोगी किसी पर भरोसातो अपनो को अपना बनाओगी कैसे ?रह-ए-इश्क़...
होली पर एक ठे भोजपुरी गीत : होली पर....कईसे मनाईब होली ? हो राजा !कईसे मनाईब होली..ऽऽऽऽऽऽ आवे केऽ कह गईला अजहूँ नऽ अईला ’एस्मेसवे’ भेजला ,नऽ पइसे पठऊला पूछा न कईसे चलाइलऽ खरचा अपने तऽ जा के,परदेसे रम गईला कईसे सजाई रंगोली? हो राजा !कईसे सजाई रंगोली,,ऽऽऽऽऽ मई...
ए चांद ये सुना हैतुम जिहादी हो गए होचौदहवीं के चांद थे तुमअब ईद के  ही हो गए हो !!तुम  तो थे  प्रीतम  कीरचना का  सुंदर मुखड़ासुना है मुफलिसी कीरोटी भी हो गए हो !चौदहवीं के चांद थे तुमक्यों  ईदके ही हो गए होनीले से नभ पे तुम तोतारों में...
सुनोO' Henry की कहानी'The last leaf' तो  पढ़ी ही होगी तुमने !मैं Jhonsy सीअब भी प्रतीक्षारत हूंतुम्हारे भीतर के usचित्रकार  Brehman की ...अब जब किमैं अपने भीतरफ़ैल चुके निराशा केनिमोनिया से मर रही हूंशैनेः शैने..सुनो brehmanक्या कूचीउठाओगे तुम ?...
बला सा रूप तेरा, मेरी नज़रों में समाना, बिन बताए फिर तेरा मुझे  मेरे दिल में  उतरना।इन सब से तेरा  अनजान  होना ,               कमबख्त मुझे तुझ से एक तरफा प्यार का होनाचांद सा चेहरा तेरा उस पर जुल्फों...
 पोस्ट लेवल : इश्क एक तरफ़ा मोहब्बत