ब्लॉगसेतु

आज फेस बुक पर दिन में एक पोस्ट पढ़ी। लब्बोलुआब था :एक कांग्रेसी सोच के व्यक्ति मेरठ से सेवानिवृत्त हुए हैं। किसी बड़ी पोस्ट पर रहें हैं। नेपाल भूकम्प के लिए आप मोदी को कुसूरवार ठहराते हुए कहते हैं :'यथा राजा तथा प्रजा ' ये भूकम्प मोदी की करनी का फल है।कहने को ये सज्ज...
पंद्रह जनवरी १९३४ में जो भूकम्प बिहार -नेपाल में आया था रिख्टर पैमाने पर उसकी तीव्रता 8. २ आंकी गई थी इसका केंद्र पूर्वी नेपाल में माउंट एवरेस्ट के १० किलोमीटर दक्षिण में था इसमें मुंगेर और मुज़्ज़फ़रपुर ,बिहार ,भारत के नगर , तथा नेपाल का काठमांडू ...
पंद्रह जनवरी १९३४ में जो भूकम्प बिहार -नेपाल में आया था रिख्टर पैमाने पर उसकी तीव्रता 8. २ आंकी गई थी इसका केंद्र पूर्वी नेपाल में माउंट एवरेस्ट के १० किलोमीटर दक्षिण में था इसमें मुंगेर और मुज़्ज़फ़रपुर ,बिहार ,भारत के नगर , तथा नेपाल का काठमांडू ...
 लिखी पटकथा का आकस्मिक दुखांतराजस्थान के दौसा जिले का एक राजपूत किसान  गजेन्द्र सिंह जंतर -मंतर ,दिल्ली में आयोजित 'आप 'की रैली में फांसी पर झूल गया। ये फांसी स्वेच्छया थी अथवा उकसाने की प्रेरणा से ये जांच का विषय है। और जो लोग केज़रीवाल गिरोह को अच्छी तरह...
प्राचीन भारत में वैदिक ज्योतिष  वेदांग का एक अप्रतिम अंग रहा है। 'ज्योतिषा' का अर्थ है खगोलीय प्रकाश ,दीप्ति (आकाशीय पिंडों का विज्ञान है ज्योतिष ऐसा भी कहा गया है ,संस्कृत मूल का एक शब्द है जिसका अर्थ लगाया गया चमक ,सितारों की चमक ,कांतिमान। )....
प्राचीन भारत में वैदिक ज्योतिष  वेदांग का एक अप्रतिम अंग रहा है। 'ज्योतिषा' का अर्थ है खगोलीय प्रकाश ,दीप्ति (आकाशीय पिंडों का विज्ञान है ज्योतिष ऐसा भी कहा गया है ,संस्कृत मूल का एक शब्द है जिसका अर्थ लगाया गया चमक ,सितारों की चमक ,कांतिमान। )....
कुत्ता सेकुलर नहीं होता है। मौसम आता है तो पीछे से सूंघता भी है सेकुलर होने की कोशिश नहीं करता। आदमी बारह महीना तीसों दिन पीछे से सूंघता ही रहता है। कुत्ता झूठ नहीं बोलता। भौंकता है तो भौंकता है विशुद्ध रूप या फिर पूंछ हिलाता है। आदमी भौंकता है तो फिर रुकता नह...
पप्पूजी उवाच :ये सूट बूट वाली सरकार है.……पप्पूजी उवाच :ये सूट बूट वाली सरकार है.…… । पूछा जा सकता है पिछली कार्यशील यूपीए की सरकार क्या दिगंबर थी ?वस्त्र नहीं पहनती थी ?और आज क्या सूट बूट विशेष परिधान का द्योतक रह गया है।आम बात है सूट और बूट का पैरहन।&nbs...
जिस तरह भारत में कन्या भ्रूण हत्या के  चलते लड़कियाँ  गायब होती रहीं हैं और आज हरियाण जैसे राज्यों में मध्यप्रदेश एवं इतर गरीब राज्यों से उन्हें दहेज़  देकर ब्याहता बनाकर लाया जा रहा है उसी प्रकार गौ मांस के बेहद के निर्यात के चलते जल्दी...
सप्तपदी के सब प्रण पूरे कर, उनका घर तो सवारां है,पर हर आहट पर मेरी उन्हे भूल, मुझको ही पुचकारा हैमुझे सुलाने की खातिर, कितनी राते तो जागी तू है हीपर मै सो भी जाऊं तब भी तूने, घन्टो मुझे निहारा हैसारे घर का प्यारा मै था, सबकी आखों का तारा भी मै थापर जब भी चोट लगी तो...