ब्लॉगसेतु

TALENTED ANJANA JHA STARTED LEARNING THE NUANCES OF KATHAK UNDER THE GUIDANCE OF GURU SHRI SUKH DEV SINGH KUSHWAH AT A TENDER AGE OF 8.  LATER SHE WAS ADMITTED IN THE PRESTIGIOUS KATHAK KENDRA, NATIONAL INSTITUTE OF KATHAK DANCE, NEW DELHI, WHERE SHE RECEIVED...
All India SEARCH for committed ACTORS for LEAD and                                                    &nb...
 पोस्ट लेवल : Job Amitabh Bachchan
मित्रो दुनियां में केवल मुदिता शेष होगी.. मुदिता का अर्थ “प्रफ़ुल्लता के साथ जीवन जीना” ही तो है.. इस प्रफ़ुल्लता का अर्थ सदा ही रचनात्मकता की दिशा में उठता क़दम ही है. यही प्रफ़ुल्लता विश्व का कल्याण करने के लिये "महत्वपूर्ण-टूल" है.  जो...
 पोस्ट लेवल : अध्यात्मिक चिंतन
मित्रो,        सप्रेम हरि स्मरणआज़ सावन का प्रथम सोमवार है. हिंदूओं के लिये एक पावन माह का पावन दिन है.  मुस्लिम रमज़ान के हरियाले आध्यात्मिक अनुष्ठान में व्यस्त हैं. सबका उद्देश्य ईश्वरीय तत्व से साक्षात्कार कर उसका सानिध्य ही...
केवल सुव्यवस्था न संदेश भी तो है बच्चों की भाषा बोलना और समझना ज़रूरी है                     मध्य-प्रदेश में कुपोषण से निज़ात पाने एक ऐसी अनोखी कार्ययोजना सामने आई है जिसने एक रास्ता दिखा दिया कि कुपोष...
चित्रगुप्त सर्वप्रथम प्रणम्य हैं परात्पर परमब्रम्ह श्री चित्रगुप्त जी सकल सृष्टि के कर्मदेवता हैं, केवल कायस्थों के नहीं। उनके अतिरिक्त किसी अन्य कर्म देवता का उल्लेख किसी भी धर्म में नहीं है, न ही कोई धर्म उनके कर्म देव होने पर आपत्ति करता है। अतः, निस्संदेह...
 पोस्ट लेवल : salil sanjiv chitrgupt maharaj
तुम मेरे साथ / गिरीष बिल्लोरे 'मुकुल'एक अकेला / गिरीष बिल्लोरे 'मुकुल'तुमसे अक्सर / गिरीष बिल्लोरे 'मुकुल'हां !! मुझे याद हैं / गिरीष बिल्लोरे 'मुकुल'तुमसे मिलकर / गिरीष बिल्लोरे 'मुकुल'सवालों का बोझ / गिरीष बिल्लोरे 'मुकुल'तुम जो हासिये पर / गिरीष बिल्लोरे 'मुकुल'...
निक वुजिसिस4 दिसम्बर 2012 को ब्रिसडन आस्ट्रेलिया में जन्में निक वुजिसिस  का जीवन सबसे सम्पन्न जीवन कहा जाए तो ग़लत नहीं है. निक वुजिसिस  विश्व का वो बेहतरीन हीरा है जिसे तराशने का काम ईश्वर ने खुद निक में आक़र किया. इस तथ्य की पुष...
     सवाक सिनेमा के सौ बरस पूरे तो हुए पर सिनेमाई संगीत के मायने ही बदल गये . आज़ आपको साठ सत्तर के दशक का सिनेमाई संगीत याद होगा. किंतु बेहद बुरी दशा है हिंदी फ़िल्म संगीत की. बकौल गायक आभास जोशी-"फ़िल्में अब गायकों के लिये अनुकूल नहीं रह गईं ह...
 श्री यंत्र  समकालीन परिस्थितियों के लिये अत्यंत आवश्यक है       .यश-धन-धान्य जनित ऐश्यवर्य बोध से बहुधा अहंकार का तिमिर  जन्म लेता है. आराधना संपृक्तता की ओर अग्रसरित करती है.आराधना ढोंग नहीं.. वरना वनवासी राम का सर्वका...