ब्लॉगसेतु

...कितनी यादें छिपी हैं उनकी खामोश आंखों में,डर लगता है कहीं उफ़क न पड़ें मेरे आने से ।--------------हर्ष महजन
 पोस्ट लेवल : Azaad Shayari
...करता रहा उम्र-भर नफरत जिस शख्स से,जुदा हुआ तो कतरा इक मेरी आँखों में था,यत्न तो किये थे मैने कि उसे भूल ही जाऊँ, मगर क्या करूँ वो दिल की सलाख़ों में था ।----------------हर्ष महाजन
 पोस्ट लेवल : Azaad Shayari मुक्तक
फिल्मी जगत की कुछ कही अनकही बातें ।***********************************इस सीरीज में हम बात करेंगे फिल्मी जगत में घटी कुछ ऐसी घटनाओं की जिनकी जानकारी सिर्फ कुछ विरले ही लोगों के पास होगी । औऱ जहां तक उन हस्तियों की बात है जिनके बारे में घटनाओं का ज़िक्र है संभवत: वही...
 पोस्ट लेवल : अनकही
...आज सूना हो गया दिल तेरे फिर* जाने के बाद,सोचता हूँ होगा फिर क्या तेरे फिर आने के बाद ।-------------------------हर्ष महाजन*बदल2122-2122-2122-212
 पोस्ट लेवल : Azaad Shayari
...क्यूँ न अश्कों का साथी बनूँ हमसफर,जी रहा  बिन तेरे ज़िन्दगी का सफर । आओ ठहरो तसव्वर में कुछ देर सँग,हिज़्र कैसे सहूँ कैसे दूँ ये खबर ।हर्ष महाजन212/212/212/212
 पोस्ट लेवल : मुक्तक
...आओ चढ़ा के रंग.. होली... .का मिला करें,दिल में जगा के प्यार को आओ...दुआ करें ।नीला हो या पीला हो या हो रसंग अब लाल,रिश्तों में सब मिला के नया सिलसिला करें ।हर्ष महाजन
 पोस्ट लेवल : Holi Qatta
दोस्तो आपकी अदालत में एक नज़्म पेशे खिदमत है उम्मीद है इसे अपने प्यार से ज़रूर नवाजेंगे ।अगर अच्छी लगे तो दो शब्द ज़रूर कहियेगा ।------------------अटूट रिश्ता (नज़्म)वो दोस्ती का जज़्बा कभी दिखा न सका,दुश्मन तो था मगर दुश्मनी निभा न सका ।कुछ एक फसाने हकीकत में बदले ज़रूर...
 पोस्ट लेवल : Nazms/Kavita
...यूँ न आंखों से बातें किया कीजिये,इश्क़ का यूँ सबक न दिया कीजिये ।हम तो नादान हैं प्यार में कुछ सनम,तुम खबर कुछ तो दिल की लिया कीजिये ।गम की ग़ज़लें चलें अश्क़ तुम थाम कर,टूटे दिल को न यूँ ही सिया कीजिये ।हम तो डरते हैं बदनामी से शहर में,इश्क का तुम ज़िकर न किया कीजिय...
 पोस्ट लेवल : Ghazals
...काश आज भी......पुराना जमाना होता,तुझ संग मेरा भी....इक अफसाना होता ।कुछ भी बदल लेते..हाथों की लकीरों में,पर ज़िन्दगी का सफर खूब सुहाना होता ।----------------हर्ष महाजन
 पोस्ट लेवल : Qatta