ब्लॉगसेतु

सभी को यथायोग्यप्रणामाशीषबेवकूफी का सौन्दर्यअपने आस पास का फैला वो यथार्थ।  जिसे आप देखते तो थे मगरउसे उस नजर से देखना चूक गये थे जिस नजर से अनूप शुक्ला उसे देखते हैं।आप अचरज में पड़ जायेंगे। अरे, इसे ऐसे भी सोच सकते हैं क्या, औरफिर पढ़ कर कहेंगे कि हाँ, सोच तो...
 पोस्ट लेवल : 1653
शुक्रवारीय अंक मेंआप सभी काहार्दिक अभिवादन--------गुरूदेव रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा रचित गीत 'जन गण मन..' को संविधान सभा ने 24 जनवरी 1950 को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार किया। यह गीत सबसे पहले 27 दिसंबर 1911 को कलकत्ता में हुए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवे...
 पोस्ट लेवल : 1652
सादर अभिवादन। आज देश के महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती है। देश के लाड़ले सपूत को हमारा शत-शत नमन। चित्र साभार :गूगल इस अवसर पर नेताजी को समर्पित मेरी एक पुरानी रचना-            &n...
 पोस्ट लेवल : 1651
।।भोर वंदन।।"शुभ्र आनन्द आकाश पर छा गया,रवि गा गया किरण गीत ।श्वेत शत दल कमल के अमल खुल गये,विहग-कुल-कंठ उपवीत ।चरण की ध्वनि सुनी, सहज शंका गुनी,छिप गये जंतु भयभीत ।बालुका की चुनी पुरलुगी सुरधुनी;हो गये नहाकर प्रीत..!!"-सूर्यकान्त त्रिपाठी निरालाकुछ सहज, साकार...
 पोस्ट लेवल : 1650
सादर अभिवादनघूमते-घूमतेआज फिर एक बन्द ब्लॉग पर नज़र गईभावुक हो गई मैंउस ब्लॉग का नाम हैआई लव्ह यू माँऔर तआज़्ज़ुब..सारी रचनाएं माँ पर ही आधारित हैचुन लाई हूँ कुछ रचनाएं..(1)बहू ने आइने में लिपिस्टिक ठीककरते हुऐकहा -:"माँ जी, आपअपना खाना बना लेना,मुझे और इन्हें आज ए...
 पोस्ट लेवल : 1649
सोमवारीय विशेषांक मेंआप सभी का स्नेहिलअभिवादन---///---"अंधा बाँटें रेवड़ी पुनि-पुनि अपने को देवे"एक लोकोक्ति जिसमें निहित अर्थ स्वार्थी और भ्रष्टाचारी परिदृश्य को उजागर करता है।अंधा बनकर रेवड़ियाँ बाँटने की परंपरा का कोई सटीक इतिहास तो ज्ञात नहीं है किंतु मेरा ऐसा अन...
 पोस्ट लेवल : अंधा बांटे 1648
जय मां हाटेशवरी......मेरी प्रस्तुती का दिन आते-आते.....मौसम फिर बरफीला हो जाता है.....आज भी बर्फ की संभावना है.....लाइट तो कल से ही गुल है......कुछ बैकप से ही काम चलाते हुए....पेश है....मेरी पसंद.....विरोध का चेहरा या महिलाएं बनीं मोहरा ?दिलों में विरोध की आग गली -...
 पोस्ट लेवल : 1847
सभी को यथायोग्यप्रणामाशीषऑडियो : अंतिम चित्र'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में पांडेय बेचन शर्मा उग्र की कथा मूर्खा का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आ...
 पोस्ट लेवल : 1646
शुक्रवारीय अंक मेंआप सभी कास्नेहिल अभिवादन------रांगेय राघव17जनवरी 1923 - 12 सितंबर1962---------हिंदी,अंग्रेजी,ब्रज और संस्कृत के ज्ञाता "तिरूमल्लै नंबाकम वीर राघव आचार्य।"कहानी, उपन्यास, आत्मकथा, रिपोर्ताज जैसी विधाओं के ज्ञाता, हिंदी साहित्य को  समृद्ध...
 पोस्ट लेवल : 1645
सादर अभिवादन। बच्चे ने कहा-मुझे पुस्तकालय ले चलो,पिता ने कहा-ऑनलाइन पढ़ो!अब सड़क सुरक्षित नहीं। -रवीन्द्र सिंह यादव आइए अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें-मोहिनीअट्टम......प्रोफ़ेसर गोपेश मोहन जैसवाल पद-धारी साहित्यकार की लीला, अपरम्पार है,...
 पोस्ट लेवल : 1644