ब्लॉगसेतु

सादर अभिवादन..आज के ब्लॉग का नाम हैदिल की कलम से...आइए पढ़ें इस ब्लॉग की रचनाएँअब न लिख सकूँगी...प्रेम मे डूबे हुए मैं गीत अब न लिख सकूँगी...मैं मिलन की चाशनी में शब्द लिपटे न चखूँगी...हो भले चिर यौवना सौंदर्य की प्रतिमा भले हो...मैं समेटे कोख मे श्रृंगारिता अब न र...
 पोस्ट लेवल : 1586
स्नेहिल अभिवादन--------किसने मेरी पलकों पे तितलियों के पर रखेआज अपनी आहट भी देर तक सुनाई दी- बशीर बद्रदिल पर दस्तक देने कौन आ निकला है किस की आहट सुनता हूँ वीराने में -गुलज़ार कालजयी रचना ज़नाब मिर्जा गालिबइस दिल को किसी की आहट की आस रहती है, निगाह को...
 पोस्ट लेवल : 1585 आहट
स्नेहिल नमस्कारआज हिमांचल मे बिजली गुल हैसूचना आई है..भाई कुलदीप जी नहीं आएँगे सो आजहम हैं और कल सखी श्वेता जी रहेंगी...एक चिन्तन...दहेज़ में बहू क्या लायी..ये सबने पूछा..लेकिन एक बेटी क्या क्या छोड़ आई..किसी ने सोचा ही नहीं.---–--कवयित्री बतौर गृहणीहमेशा एक झाड़ू एक...
 पोस्ट लेवल : 1584
हार से रार नहीं खाना खार सीखा,सार पर विरोध पर पर मार सीखा,कामना भावना साधना साध लेनाभावार्थ तमाभार विजय वार सीखा एक हार जो हर जीत से बड़ी हैकि उसका जीतना ,शायद उसे ही अच्छा न लगे ।मेरी शिकस्त को सोंचकर उसकी आंखें भर जाएंशायद कल उसको भी लगे कि निर्दोष था मैं,औरन ही क...
 पोस्ट लेवल : 1583
स्नेहिल अभिवादन-------बंधनमुक्त,धरा पर खींचीं सीमाओं से परे,गगन में अपने पर फैलाये उड़ते,वृक्षों में रहने वाले हमारी सृष्टि की खूबसूरत कृति है पक्षी। मरे जीवों को साफ करने में,खुले में फेंके अनाजों की सफाई में, खाद्य श्रृंखला में, पारिस्थितिकी संतुलन मे,बी...
 पोस्ट लेवल : 1582
सादर अभिवादन।चलो दर्पण पर जमीं हुई धूल साफ़ करने का मुकम्मल मन बनायें,पहले दर्पण में देखने भावशून्य चेहरे को कोमल भावों से सजायें।  -रवीन्द्र आइये आज की पंसदीदा रचनाओं पर नज़र डालें-  इन खामोशियों में...श्वेता सिन्हा ...
 पोस्ट लेवल : 1581
सादर अभिवादनआज पम्मी सखी वापसी की यात्रा पर हैकहा है देर हो जाएगीतो आज भी हमारी ही पसंद..चलिए रचनाओँ की ओर...मेरे सहयात्री ...रश्मि प्रभामन को बहलानेऔर भरमाने के लिएमैंने कुछ ताखों परतुम्हारे होने की बुनियाद रख दी ।खुद में खुद से बातें करते हुएमैंने उस होने में प्र...
 पोस्ट लेवल : 1580
सादर अभिवादनकोई हल्ला नहींकोई खून-खराबा भी नहीक्या सच में सब को खूब भायापंचमूर्ति का फैसलापर ये भी बहुत खूबकि..राम पर या राम मंदिर परकोई रचना नहीं अब तककोई नहीं कह रहा किमंदिर वहीं बनाएँगेजय श्री राम...चलिए..चलें रचनाओं की ओर...सौंदर्य की साधना ...नितीश तिवारीकाली...
 पोस्ट लेवल : 1579
स्नेहिल नमस्कार-----–वाद-विवाद में विष घना ,बोले बहुत उपाधमौन रहे सबकी सहे, सुमिरै नाम अगाधकबीरदास के इस दोहे मेंं निहित सार मौन की संपूर्ण व्याख़्या है।मौन का सरल अर्थ शांति।वह अवस्था जहाँ भावों को वाणी से प्रकट नहीं किया जाता  है।विराट सृष्टि के कण-कण में व्य...
 पोस्ट लेवल : 1578 मौन
जय मां हाटेशवरी.....सर्वोच-न्यालय  का ऐतिहासिक     फैसला....अयोध्या में  विवादित स्थल पर बनेगा राम मंदिर.... मुस्लिम पक्ष को वैकल्पिक  जमीन.....सदियों पुराना विवाद सुलझ गया.....ये भारत की  अखंडता के लिये अति आवश्यक था......
 पोस्ट लेवल : 1577