ब्लॉगसेतु

सादर  अभिवादन। देखो संतुलन बनाकर चल रहे हैं, वे चालाक हथियार व्यापारी देश;दो देशों में तनाव ख़ूब बढ़ जाय,हम भी समझ सकते हैं यह वेश। -रवीन्द्र आइये पढ़ते हैं आज की पसंदीदा रचनाएँ- जीवन यात्रा......कैलाश शर्मा बढ़े हाथ उनको ठुकराया,अपनो...
 पोस्ट लेवल : 1560
।।प्रातःवंदन।।तुम्हारी फाइलों में गाँव का मौसम गुलाबी हैमगर ये आंकड़े झूठे हैं ये दावा किताबी हैउधर जम्हूरियत का ढोल पीते जा रहे हैं वोइधर परदे के पीछे बर्बरीयत है ,नवाबी हैलगी है होड़ - सी देखो अमीरी औ गरीबी मेंये गांधीवाद के ढाँचे की बुनियादी खराबी हैअदम गोंडवीक्...
 पोस्ट लेवल : 1559
आज की प्रस्तुति सचमुच अच्छी लगेगी आप सबकोसच ही कह रही हूँअंदाजा लगाइए..बातों में वक्त जाया न करते हुएचलें रचनाओं की ओर....सूरज संग संवाद..!! .....हाँ पहली बार देखा था सूरज कोसिसकते हुए...!!दंभ से भरे लाल गोलाकार वृत्त मेंसालों से अकेले खड़े हुए..!!हमारे कोसे ज...
 पोस्ट लेवल : 1558
स्नेहिल अभिवादन---------त्योहार का अर्थ होता है उमंग,उल्लास, खुशी,रंग,खुशबू,प्रेम,स्नेह अपनों का साथ और नियमित, एक ढर्रे से बंधी दिनचर्या में बदलाव, बदलाव जो नवीन ऊर्जा का संचरण करके मन मस्तिष्क और जीवन के प्रति अनुराग उत्पन्...
 पोस्ट लेवल : 1557
जय मां हाटेशवरी....पांच पर्वों का महा-पर्व दिवाली आने वाला है.....इस लिये आज की इस हलचल का प्रारंब इस खूबसूरत  *प्रेरक प्रसंग---* से.....*एक माँ अपने पूजा-पाठ से फुर्सत पाकर अपने विदेश में रहने वाले बेटे से विडियो चैट करते वक्त पूछ बैठी-*"बेटा! कुछ पूजा-पाठ भी...
 पोस्ट लेवल : 1556
पद्मश्री डॉ. उषा किरण खान:-सन् ४० के रामगढ़ कैम्प का वाक़या है -- पृथ्वीराज नामक गांधीजन थे, उनकी खटखट सुमनजी नामक साथी से चलते चलते बहुत बढ़ गई। उन्होंने बड़े तैश में आकर बापू से कहा कि वे उसके साथ काम न करेंगे, दोनों को एक ही विभाग बाँटा हुआ था। बापू के कारण पूछा...
 पोस्ट लेवल : 1555
स्नेहिल अभिवादन----------आज सबसे पहले हम बात करेंगेहमक़दम के संदर्भ में।इस बार का विषय हैदीवालीऔर रचनाएँ संपर्क फॉर्म की बजाययशोदा दी के ई-मेल पर भेजना है।मेल आई डी दाहिनी ओर है★★★★★★फेसबुक से एक तस्वीर मुझे मिली हैआप भी देखिये और अगर संभव हो तोइस तस्वीर के संदर्भ म...
 पोस्ट लेवल : 1554
सादर अभिवादन।              आज उत्तर भारत का सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण त्योहार करवा-चौथ बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। जीवनसाथी की दीर्घायु की मंगलकामनाओं और आस्था व समर्पण से जुड़ा यह पर्व समाज में रौनक और उत्साह भरता है। करवा-...
 पोस्ट लेवल : 1553
।।प्रातः वंदन।।"शैशव के सुन्दर प्रभात का मैंने नव विकास देखा।यौवन की मादक लाली में जीवन का हुलास देखा।जग-झंझा-झकोर में आशा-लतिका का विलास देखा।आकांक्षा, उत्साह, प्रेम का क्रम-क्रम से प्रकाश देखा।"सुभद्राकुमारी चौहानकण- कण में बसती जिंदगी के नवभाव, नवप्रीत की आशाओं...
 पोस्ट लेवल : 1552
सादर अभिवादनव्यवधान एक आया थासंदेह था कि प्रस्तुति बनेगी या नहींपर, उड़ गया संदेह हवा मेंचलिए चलें लिंक की ओर..प्यार ...कामिनी सिन्हा"प्यार" शब्द तो एक है लेकिन इसके रूप अनेक है माँ बाप से प्यार ,भाई बहन का प्यार, पति- पत्नी का प्यार, दोस्तों का प्यार, प्रेमी- प्रे...
 पोस्ट लेवल : 1551