ब्लॉगसेतु

 एकै रहै देवरानी जिठानी। जिठानी के घर रही सम्पन्नता, औ बिचारी देवरानी रही गरीब। तो देवरानी बिचारी, जेठानी के घर करती रहै – घर का काम काज। औ उनके घर से जौन कुछो मिल जात रहै, उहिसे अपने बच्चन का पेट पालती रहै। अब एक दिन पडी, संकठै। अब उनके घरै मा तो कुछ रहै ना,...
 पोस्ट लेवल : ganesh chaturthe kathaa
 पूरा दिन चिलचिलाती धूप में काम करने के बाद, ऐसा कौन सा ऐसा मजूर होगा जो मजदूरी पा कर खुश ना होता हो। एक मजदूर सुबह से शाम तक हाड तोड मेहनत यही सोचते सोचते करता है कि जब दिन ढले वह आटा, नमक, तेल और चार पैसे हाथ में ले घर में जायगा, तभी तो उसकी घरवाली चूल्हा जल...
 बॉलीवुड और हिंदी एक दूसरे के पर्याय है जब बॉलीवुड की बात होती है तो हमारे मन में एक ऐसी तस्वीर उभरती है जिसने सभी भाषा के क्षेत्रों व सीमाओं को तोड़ते हुए हिंदी को जन सुलभ और लोकप्रिय भाषा के पद पर आरूढ़ करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई । भारतीय सिनेमा जगत को प...
 माँ, भाभी, बहन को देखकरकुंवारेपन से ही देखने लगती हैस्वप्नजब वो भी करेगी व्रतअपने पति के लिये होते ही सुहागनकरने लगती है कामनासुहाग के अमर होने कीसहर्ष सप्रेमबुनती है कवचदीर्घायु कासौभाग्य कासमृद्धि काकभी पुत्र कभी पति कभी परिवार के लिएकरती है उपवास...
 पोस्ट लेवल : #male #female #vrat
मै आज चुपचाप देख रही हूँ, अपनों को, अपनों की प्रतिक्रियाओं को। आज ना मेरे मोबाइल की घंटी नही बज रही है ना ही मेरी डोर बेल, हाँ सुबह से कोई सौ सवा सौ नोटीफिकेसन्स आ चुके हैं, मेरे फेसबुक, ट्वीटर, इन्स्टाग्राम पर भी लगातार कुछ मैसेजेस आ रहे हैं। मेरे आस पास दो चार मा...
 पोस्ट लेवल : #twitter #whatsapp #emotions #facebook
  आज से पहले मैने ना इस दिवस के बारे में सुना था, ना ही पढा था, किंतु जब अखबार में इस दिवस के बारे में पढा तो कुछ सोचने पर मजबूर अवश्य हो गयी। कई सारी घटनाएं याद आने लगी, खास कर कई फिल्मी हस्तियों( दिव्या भारती, जिया खान, इंदर कुमार, कुशल पंजाबी जैसे कई नाम इस...
प्यार के गीत गाते रहोहर हाल मुस्कुराते रहो ॥जीत हार से होकर परे ।जश्न ए खुशी मनाते रहो ॥छोड़ परेशानी जमाने की ।तराने नये गुनगुनाते रहो ॥गिरा दीवारें जात पात की ।गिरों को गले से लगाते रहो ॥बढ़ता चल,चलना ही जिंदगी ।ठहरों को बात ये बताते रहो ॥चमकना तन ही काफी नहीं ।मै...
 पोस्ट लेवल : #Relation #duniya
आखिर क्या है सम्बंध सगे- सम्बंधी मेंया बिना संबंध के हीरहते हैं एक साथजैसे रहते हैं कई बार लोगया दोनों है एक दूसरे के पूरकक्या ये मिलकर बनाते हैं परिधिजिसमें समा सकते हैंसारे रिश्तेइक ऐसी परिधिजिसमें कुछ रिश्ते बंधे तो हैंसम्बन्ध की डोर सेमगर हैंभावहीन...
 पोस्ट लेवल : friends people society relations
मिल जाता हैजन्म के साथ हीबहुत कुछ By Default लडकी के हिस्से आती है सहनशीलता, ममता, त्याग  और घर की इज्जत  लडके को मिल जाती है घर जायजाद की चाभी कुछ भी करने की आजादी By Defaultसमय के साथ, पलते बढते है दोनो और इस बढते बचपन से कुछ और मिलता है By Default अब...
 पोस्ट लेवल : शक्ति स्त्री समाज
 समझ नहीं आता हम किधर देखें| तड़पता जिगर या तेरी नज़र देखें|| मिलन रुखसती तो दस्तूर जग का| मुड़ मुड़ कर क्यों सूनी डगर देखें|| धूप छांव दोनों&nbs...
 पोस्ट लेवल : #duniyadari #Relation #duniya