ब्लॉगसेतु

साभार-hazrat-ji-md-shakeel-bin-hanifएक गधा जिद कर बैठाजीवन में कुछ करना है,जो भी हो, उपाय करोउसको टॉपर ही बनना है ।                                    मैंने उसको लाख मनाया&nbs...
            साभार-hindustantimes   चोरों की महासभा का आयोजन किया गया था । इसमें हर वो बंदा आमंत्रित था, जो कर्म से चोर हो, लेकिन उसकी आत्मा उसे चोर कतई न मानती हो । हर तरह के चोर बुलाए गए थे । नामी चोर भी-बेनामी चोर भी,...
बिन पढ़-लिख जो पास हो गयाधाकड़ उसको कहते हैं,रिजल्ट आने पर जो जेल गयाटॉपर उसको कहते हैं ।                                मसि-कागज को कभी न छूता           ...
            साभार - oneindia.com   जो कभी अभूतपूर्व हुआ करते थे, वे अब भूतपूर्व हो चुके हैं । जिस समाजवादी स्टाइल में वे मोदक-मेवा के मनमोहक रसभोग उड़ाया करते थे, उस पर अब मुसीबतों की मार-ही-मार है । वे भी क्या दिन थे, ज...
चित्र साभार- Cosmo Times   आज रोज जैसा नजारा नहीं है किले के बाहर । हमेशा मंथर गति से चलने वाला निकटतम आस-पास का परिवेश आज कुछ गतिमान है । न केवल कुछ ज्यादा लोग चले आए हैं, बल्कि अभी भी चले आ रहे हैं । दोपहर होते-होते अर्द्ध-निद्रा को प्राप्त हो जाने वाले...
आँखों में है स्याही कैसीकैसी मदिरा और साकी है,अभी सांझ होने वाली हैपूरी रात अभी बाकी है ।                                    आँखों में जादू उतरा है       ...
                     चित्र साभार- cariblah.wordpress.com      अचानक जैसे ही टीवी चैनलों ने ब्रेकिंग न्यूज चलाना शुरू किया, मेरे कुछ पल के आराम को...
मरु का-सा है सूखा आँगनकैसे सावन की पड़ी फुहार है?कुछ तुम ही बतलाओ राहीमेरे मन पर पड़ा तुषार है ।                                    जिस  राह  तुम चलते जाते&nbsp...
चित्र साभार - cartoon baotinforum.com    पहलू-दर-पहलू बदलने के बाद भी मुझे नींद नहीं आई थी । अंततः बिस्तर छोड़कर कमरे से बाहर निकल आया था । इधर मेरे कदम तेज हुए थे, उधर तेज हवा का झोंका आकर टकराया था मेरे बदन से । अगले ही पल मैं पार्क में था । नींद...
 पीछे मुड़कर देख रहे तुमदो कदम आगे बढ़ने पर,कौन राह चला  आता हैजीवन तज  मरने  पर ।                  कदम बढ़ाए  जाते  हो तुम                 ...