ब्लॉगसेतु

                                                                    &n...
                                                                    &n...
                                                                    &n...
                                                                    &n...
                                                                   &nb...
                                                                   &nb...
                       घर में खूब तैयारी की गई थी । दरवाजे पर रंगोली बनी थी । बाहरी रेखा पर शुद्धिकरण का प्रयास कुछ इस तरह से किया गया था कि स्वच्छता भी खुल कर दिखाई दे और स्वागतम् के उभरे अक्षर हार्द...
 पोस्ट लेवल : बाबू teer-a-nazar भ्रष्टाचार
                                      ट्रेन स्टेशन पर आ लगी थी । उन्होंने खिड़की से बाहर झांका । अगवानी के लिए कोई उपस्थ...
                  वह जैसे ही ढाबों के सामने पहुँचा, ढाबे वाले उस पर टूट पड़े । उसे लगा कि उसकी खुशी के भी फूट पड़ने का यही वक्त है । क्यों न लपककर दोनों हाथों से इस वक्त को ही लूट लूँ । वह लूटने के लिए थोड़ा और...