ब्लॉगसेतु

 अपनी  क़ब्रों  के   ज़मीदार   बने   बैठे  हैं,बेनियाज़ी  में  भी   दिलदार   बने   बैठे  हैं।उन  को  ग़द्दारी की ऐनक से न  देखो प्यारे,जो  अज़ल  से&nb...
 पोस्ट लेवल : " मेहदी हल्लौरी "
 हर इरादा मोहब्बत का नाकाम आया हैराहें अपनी जुदा हुई हैं वो मकाम आया है।सुना है दोस्ती से बड़ा कोई रिश्ता नहीं होतामेरे दुश्मनों में दोस्तों का ही नाम आया है।वो ख़त जो हमने लिखेथे उनको बेकरारी मेंजवाब में हमारी मौत का फरमान आया है।गुनाह ए इश्क दोनों ने ही किया...
 पोस्ट लेवल : पावनी जानिब
नेज़ों पे दौड़ने का हुनर ढूंढता रहाहमको हमारे बाद सफ़र ढूंढता रहा..जब साथ थे तो संजीदा वो ही था और न मैंवो मुझको और मैं उसको मगर ढूंढता रहा..सूरज ख़रीद डाले हैं लोगों ने और मैंताउम्र जुगनुओं में सहर ढूंढता रहा..होने को यूं तो नाम वसीयत में था मगरएक बाप अपना लख्ते जिगर...
 पोस्ट लेवल : सचिन अग्रवाल
 अपनी मोहब्बत को इक नाम यह भी दे दो-ये अजनबी सी आंखों का समर्पण है बसना तुम हो, ना मैं हूं, ना जमाने की भीड़-हम दोनों के बीच खड़ा गूंगा दर्पण है बस।क्या दूं, क्या है, पास मेरे बताओ तो जरा-मेरा तो हर ख्वाइश तुझ पर अर्पण है बस।सुनो जरा, समझो मुझे, झांक कर देखो त...
 पोस्ट लेवल : "अजनबी"
 नजरो से अपनी पिलाइये तो जरा।हस कर करीब मेरे आइये तो जरा।।क्यूं रूठे है सनम आप हमसे।क्या वजह है बताइये तो जरा।।दिल है मेरा कांच का सनम।इस पर रहम खाइये तो जरा।। टूटकर बिखर न जाऊं कहीं।दिल की दिल को सुनाइये तो जरा।। प्यासे ही रह गये जाकर मयखाने।थोड़ी ह...
 पोस्ट लेवल : प्रीती श्रीवास्तव
कुछ मेरी भी सुनती जाओऔर कुछ अपने सवाल कहोअब मिले हो कितने सालों बादकैसे गुज़रे ये साल कहोमेरे भी दिल की कुछ सुन लोकुछ अपने भी हालात कहोरहने दो ज़ुल्फों को यूँ हीतुम ऐसे ही सब बात कहोतुम देखो मत मेरी आँखों मेंबस ज़रा अपनें जज़्बात कहोथोड़ा तकल्लुफ तो लाज़िम हैपर बार बार म...
आयकर अधिकारी ने एक बुज़ुर्ग करदाता को अपने कार्यालय में बुलाया...करदाता ठीक समय पर पहुंच गया, अपने वकील के साथ... आयकर अधिकारी : आप तो रिटायर हो चुके हैं, हमें पता चला है कि आप बड़े ठाट- बाट से रहते हैं, इसके लिए पैसे कहां से आते हैं...?  करदाता : जुए...
इस आत्महत्या के युग मेंकैसे खिलते हैं फूलमंडराते हैं भँवरेगाती है कोयलइस आत्महत्या के युग मेंकैसे नदी जाकरमिलती है सागर सेकैसे लहरें मचलती हैंचाँद को छूना चाहती हैंइस आत्महत्या के युग मेंकैसे खिलते हैं फूलमंडराते हैं भँवरेगाती है कोयलइस आत्महत्या के युग मेंकैसे नदी...
रंग-बिरंगे पर फड़काती, तितली जब बगिया में आती सब बच्चो के मन को भाती,  सब बच्चो का जी ललचाताफूलो के ऊपर मंडराती, पत्तों के पीछे छिप जाती रंगत कैसे इतनी पाती नहीं किसी को भी बतलातीजी में आता उसे पकड़कर हम अपने घर में ले आए ...
 पोस्ट लेवल : जखीरा चंचल तितली
यदि भारत और चीन में युद्ध होता है तो किस देश का ज्यादा नुकसान होगा?जहां तक भारत और चीन की तुलना की बात है तो चीन बेशक कागजों में मजबूत है पर मैं चीन की अन्य शत्रु देशों से उसके मोर्चों के आधार पर विवेचना करुंगा।थल सेनाअगर भारत और चीन की थल सेना की बात की जाए तो चीन...