ब्लॉगसेतु

कहानी सुरंग अशोक गुप्ता  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); शहर के इस महंगे नर्सिंग होम में जो मरीज़ अंतिम साँसें ले रहा है, वह मैं हूँ।कोमा में आ गया हूँ। मौत अब कितने हाथ दूर रही मुझसे..? और मौत के हाथ भी तो बहुत लम्बे हैं..। जो...
वंदना राग - नावेल: बिसात पर जुगनू - अंशलोग परगासो के पैरों में छिपकर अक्षत-चावल यूँ ही सरका देते थे कि अब करिश्मा हो ही जाए। उनके नज़रों के सामने से हटने के बाद परगासो अपने पैरों की ठोकर से सब बिखेर देती थी। ‘हट्ट इससे कोई करिश्मा होगा? करिश्मा तो गैंती को तलवार की...
संजीव की कहानी 'सौ बार जनम लेंगे' एक किरदार जो हमारे आसपास होता है लेकिन हमें उसकी महत्ता नहीं दीखती. उस किसी किरदार की कहानी गढ़ना, एक रेखाचित्र खींच देना, उसे हमेशा के लिए शब्दों में ढाल देना एक कहानीकार का योगदान होता है. यह सवाल उठ सकता है कि कौन कहानीकार अ...
 पोस्ट लेवल : कहानी संजीव Kahani Sanjiv
Krishan Chander Stories in Hindi: कालू भंगी— कृष्ण चंदर / कृश्न चन्दरकरामात है यह कहानी. हो सकता है आपको कृश्न चन्दर की उर्दू लेखनी के कारण थोड़ी दिक्कत हो पढ़े जाने में. लेकिन भरोसा रखिये, कहानी पढ़ने के बाद आपको पता चलेगा कि एक संजीदा कथाकार अपने साहित्य से किस...
कहानी कहने के इस शशिभूषण द्विवेदी तरीके को कहानी लिखने की कोशिश में जुटे लेखकों को समझना चाहिए. छोटी-सी सम्पूर्ण कहानी  'बॉर्डर'! शशिभूषण द्विवेदी की कहानी — बॉर्डर बहुवचन, अंक: 60 (जनवरी-मार्च 2019) से साभारबॉर्डर शब्द का जिक्र आते ही जाने क्यों हमा...
Raj Jat Yatra Ki Bheden मार्मिक और सच्चे लेखन से तर किरण सिंह की कहानी 'राजजात यात्रा की भेड़ें' किरण सिंह के साहित्य लेखन में वह कुछ है जो इस पाठक को हर बार झकझोर देता है. इस पाठक को लगता है कि वह अगर फिल्म निर्माण करता तो अवश्य किरण सिंह के लिखे की फिल्म...

जिस समय की कोपल पीढ़ी मंटो को ढूंढ ढूंढ कर पढ़ रही हो उसे और परिपक्व दोनों ही को मंटो की कहानी 'एक प्रेम कहानी' आज वैलेंटाइन डे पर पढ़ाने की सोच है जो आपके लिए यह लायी है...भरत एस तिवारी
पंडित हरिप्रसाद चौरसिया: ध्यान की बांसुरी साथ में हैं कृतिका जंगिनमथ बांसुरी, सस्किया राव दे हास सेलो, रूपक कुलकर्णी बांसुरी, सिद्धार्थ सरकार वायलिन, जीन क्रिस्टोफ- बांसुरी और तबले पर राशिद मुस्तफा।24-03-2019, पद्म विभूषण पंडित हरिप्रसाद चौरसिया ने कहा, 'हम आई...
सिगिरिया श्रीलंका: रावण का वास वहां नहीं तो फिर कहाँ है?— अंकिता जैनकौन जाने कि इतिहासकारों के लिखे जिस वर्तमान इतिहास को हम पढ़ रहे हैं उससे पहले भी कोई इतिहासकार इस महल के असल राजा का इतिहास गढ़ गया हो जो अब हमारे लिए कहीं उपलब्ध नहीं. पर क्या लिखे गए कुछ पन्नों के...
मार्क्सवाद का अर्धसत्य के बहाने एकालाप— पंकज शर्माअनंत ने पूरी दुनियाभर के जनसंघर्षों को एक नया आयाम प्रदान करने वाले महानायक के निजी जीवन संदर्भों के हवाले से उन्हें खलनायक घोषित कर दिया और भारतीय सामाजिक परंपरा के परिप्रेक्ष्य में उनका मूल्यांकन करने के फिराक में...