ब्लॉगसेतु

लाखों का सामान खरीदा,हर बार की तरह दिवाली पर,नहीं खरीदा एक भी दीपक,दीपक बिना दिवाली कैसी.....जगमग है घर आंगन,रंगीन लड़ियों-लाइटों से,दीपक नहीं जलाओगे तो,दीपक बिना दिवाली कैसी.....लड़ियां-लाइटे खरीद कर, जगमग हुआ तुम्हारा ही   घर, दीपों से मिटता द...
दुनिया भर की  दृष्टिबाधित आबादी का  बहुत बड़ा हिस्सा हमारे देश भारत में निवास करता है | दृष्टिबाधित आबादी की आँखे है उनके हाथो से सटी रहने वाली वह सफ़ेद छड़ीजो उन्हे पथ दिखाती है।   हर साल  15 अक्टूबर का दिन इस दृष्टिबाधित आबादी के लिए सबसे अ...
जब टूटता  हैं,  पती पत्नी का पावन रिशता,तब रोती है मेंहदी,क्योंकि उसने ही,इनके जीवन में प्रेम के रंग भरे थे......मेंहदी  चाहती है, सब में प्यार बढ़े,केवल   प्रेम हो,कोई आपस में न लड़े,किसी के घर न टूटे,किसी से बच्चे न छूटें.....&n...
केवल 2018 की जगह अब,2019 हुआ  है,बताओ, क्या कुछ और बदलेगा?इस नव-वर्ष में.....जहां सुरक्षित नहीं,  4 वर्ष की बेटी भी सुनाई देती हैं अभी भी, चीखें निरभया, गुडिया की,क्या बेटियां भय मुक्त निकल पाएगी बाहर?इस नव-वर्ष में.....क्या नव-विवाहिताएं घरों में सुरक्षि...
मेरे पासनहीं थी आंखे,पर उन दोनों के पास ही आंखे थी......एक की आंखों नेमेरी बुझी हुई आंखे देखी...छोड़ दिया मझधार में मुझे.....एक की आंखों नेबुझी हुई आंखों में भी अपने लिये प्यार देखा,.... कहा, मेरी आंखे हैं तुम्हारे लिये.....मेरी बुझी हुई  आंखों ने भी...
हे जन-नायक अटल जी,तुम्हारी शकसियत अनुपम थी।तुम   स्तंभ बनकर खड़े रहे,सत्य-पथ पर अड़े रहे,भारत को विश्व-शक्ति बनाया,पाक कोमुंह के बल गिराया।निज संस्कृति पर  अभिमान था,धर्म-सभ्यता पर मान था।तुम तो  जन-जन के प्यारे थे,मां भारती के आंख के तारे थे।तु...
[मेरी इस कविता में एक शहीद की बेटी के भावों को प्रकट करने का प्रयास किया गया है....}जब तुम  पापा!आये थे घरतिरंगे में लिपटकरतब मैं बहुत रोई थी....शायद तब मैंबहुत छोटी थी,बताया गया था मुझे,तुम मर चुके हो....मुझे याद है पापा!कहा था जाते हुए तुमनेमैं दिवाली पर आऊं...
ये भीख मांग रहे बच्चे,किस धर्म के हैं?इनकी जात क्या है?न हिंदू को इस से मतलब,न मुस्लमान को.......कारखानों या ढाबों  पर,काम कर रहे बच्चों सेनहीं पूछते उनका मजहब। कोई नहीं पहचानता,ये उनकी जात, मजहब के  हैं....जब एक बेटी काजबरन बाल-विवाह होता है,साथ देते हैं...
दो दिन पहले  यानी 9 अप्रैल 2018  शाम 3:15 बजे हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के नूरपुर में मलकवाल के निकट चुवाड़ी मार्ग पर भयानक हादसा हुआ बजीर राम सिंह पठानिया मेमोरियल स्कूल की   बस करीब 200 फीट गहरी खाई में जा गिरी। हादसे में27 बच्चों समे...
एक प्रश्नवो बेटीईश्वर से पूछती है,क्यों भेजा गयामुझे उस गर्भ में,जहां मेरी नहींबेटे की चाह थी....एक प्रश्नवो बेटी उस  मां से पूछती है,"तुम तो मां  होक्या तुम भीआज न बचाओगी मुझेइन  जालिमों  से?.....""एक प्रश्नवो बेटीउस पिता से पूछती है,"क्यो...