ब्लॉगसेतु

यशी फिल्म्स प्रा.लि. के बैनर तले बनी फिल्म 'माँ तुझे सलाम' यह भोजपुरी फ़िल्म देश भक्ति फ़िल्म के साथ सामाजिक सन्देश देने वाली फिल्म हैं ऐसी फिल्म बनने से हिंदू मुस्लिम में एकता का संचार होता है। फ़िल्म में जबरदस्त एक्शन देखने को मिलेगा हम कह सकते हैं ये फ़िल्म कर्मशियल...
जियारवा करे धुकुर धुकुर यह दुल्हिन गंगा पार के का दूसरा हिट सांग हैं इस गाने को आवाज खेसारीलाल यादव और प्रियंका सिंग ने दिया हैं गाने के बोल आजाद सिंह ने लिखे हैं।यह गाना एक दिन में 2.3 लाख लोगो मे देखा जो फ़िल्म के लिए बहुत ही अच्छी बात हैं और इसका प्रभाव फ़िल्म भी...
मरद अभी बच्चा बा, आइटम सॉन्ग दुल्हिन गंगा पार के इस फ़िल्म का यह गाना यूट्यूब पर 100 मिलियन से अधिक पर देखा जा चुका हैं गाने में आम्रपाली दुबे और खेसारी लाल यादव मुख्य भूमिका में हैं गीत को खेसारी लाल यादव और प्रियंका सिंह में आवाज दिया हैं गीत को पवन पांडे और संगीत...
दुल्हिन गंगा पार के यह फ़िल्म एक पारिवारिक फ़िल्म हैं जिसे हम साथ में बैठ कर देख सकते हैं ये फ़िल्म यशी म्यूजिक के ऑफिशयल अकाउंट पर अपलोड किया गया हैं। फ़िल्म के निर्देशक और लेखक असलम शेख की निर्देशन में बनी फिल्म दुल्हिन गंगा पार  फ़िल्म में भोजपुरिया संस्कार देखन...
यह डमरू फ़िल्म का दूसरा सुपर डुपर हिट गाना हैं "तर तर पसीना " छूटता ये गाना डमरू फ़िल्म को काफी लोकप्रिय बनता हैं ये गाना जिस तरीके से फिल्माया हैं कोई भी बिना थिरके नही रह सकता हैं । गाने को स्वर दिया हैं खेसारीलाल यादव और ममता उपाध्याय ने और गाने को म्यूजिक फ़िल्म क...
भोजपुरी फ़िल्म देश के साथ - साथ विदेशो में भी लोकप्रियता प्राप्त कर चुकी हैं इस प्रकार इन फिल्मों ने देश  ही नही विदेशो में भी भोजपुरी को प्रोत्साहित किया हैं । आज देश में मनोरजन का सर्वाधिक प्रालित साधन भोजपुरी फ़िल्म बन चुकी हैं देश के हर कोने में भोजपुरी फ़िल्...
फ़िल्म का पहला गाना "मौसम सुहाना आ गईल " में  खेसारी लाल यादव खेतो में लहलहाते हुए फसलो के साथ और कहीं आम के पेड़ की डाली पर बैठ कर गाना गाते नजर आ रहे हैं इस गाने में गांव के खेत - खलिहान और खेतों की हरियाली को बहुत अच्छे तरह से दिखया गया हैं यह गाना फ़िल्म को ब...
भोजपुरी सिनेमा की शुरुआत 1960 के दशक में भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद ने बालीबुड अभिनेता नाजीर हुसैन से मुलाकात की और उन्होंने भोजपुरी में एक फ़िल्म बनाने के लिए कहा , नाजीर हुसैन ने सन 1963 में पहली भोजपुरी फ़िल्म गंगा मैया तोहे पीयरी चढाईबो रिलीज हुई...
प्राप्त-व्हाट्सएप्पदिल के टूटने पर भी हंसना शायद जिंदादिली इसी को कहते हैं ,ठोकर लगने पर भी मंजिल तक भटकना शायद तलाश इसी को कहते हैं, किसी को चाह कर भी ना पाना शायद  चाहत इसी को कहते हैं,टूटे खंडहर में बिना तेल के दीए जलाना शायद उम्मीद किसी को कहते हैं, ...