ब्लॉगसेतु

अब तक जितना भी लिखा है कहानी, कविता, लेख, आलेख उन सभी को धीरे- धीरे ब्लॉग पर एक जगह एकत्र करने का प्रयास है। इसी संदर्भ में पढ़िए मेरी दूसरी प्रकाशित कहानी ' अधूरा प्रण' समलैंगिकता के विषय को आधार बनाकर लिखी गई यह मेरी पहली कहानी थी। दूसरी कहानी (इसी विषय पर केंद्रि...
दुःख सुख का ये संगम है... मेरा गम कितना कम है... लोगों का ग़म देखा तो... पास से गुजर रहे ऑटो रिक्शा में यह गाना बज रहा था और मैं मद्धिम-मद्धिम कदमों से पैरों को जानबूझ कर आगे पटकते हुए सी न जाने किस रास्तों पर चली जा रही थी । यूँ अपने पिता की तीन बेटियों में मैं बीच...
कास्ट – अक्षय कुमार , परिणीती चोपड़ा , राकेश चतुर्वेदी निर्देशन – अनुराग सिंह गीत – तनिष्क बागची , अर्को प्रवो मुख़र्जी , चिरंतन भट्ट अक्षय कुमार आज जिस केसरी में नजर आए हैं । उस फिल्म से जुड़ा एक रोचक तथ्य यह भी है कि इस नाम की तीन फ़िल्में रिलीज की जाती या फिर उनमें...
                           चूड़ियों वाले हाथों ने जब जब उड़ने की कोशिश की है जमाने ने उन्हें हमेशा रोकने की नाकाम कोशिशें की। सही कहते हैं किसी काम को मेहनत और लग्न से किया जाए तो सफलता आपके कदम अव...
फिल्म -कलंकनिर्माता - करन जौहर, साजिद नाडियावाला स्टार कास्ट - माधुरी दीक्षित , सोनाक्षी सिन्हा , संजय दत्त , वरुण धवन , आलिया भट्ट , आदित्य रॉय कपूर अभी तक मैंने दो फिल्मों के प्री रिव्यू किए हैं और दोनों ही फ़िल्में सुपरहिट या ब्लॉकबस्टर जो भी कहें हिट र...
किताब - ऐसी-वैसी औरत विधा - कहानी संग्रह लेखिका - अंकिता जैन प्रकाशक - हिंद युग्ममूल्य -115 रुपए समीक्षक - तेजस पूनिया आप साहित्य पढ़ते हों। उसमें भी यदि आपकी रुचि हिंदी साहित्य की कहानियाँ, उपन्यास पढ़ने में हो तो मैं आपसेबेझिझक और खुल कर कहूँगा ‘ऐसी-वैसी औरत’ अंकित...
 किताब – अनुपमा गांगुली का चौथा प्यारविधा – कहानी संग्रह लेखिका – विजय श्री तनवीर मूल्य - 115 प्रकाशन - हिंदी युग्म समीक्षक – तेजस पूनियाहिंदी साहित्य में नई वाली हिंदी के नाम से मुकाम बना रहे आज के लेखकों में प्रेम सबसे महत्वपूर्ण और केन्द्रीय बिंदु बनकर उभरा...
किताब - रिस्क एट इश्क लेखिका - इरा टाकप्रकाशक - भारत पुस्तक भंडार विधा - प्रेमपरक उपन्यास छपा हुआ मूल्य - 295समीक्षक - तेजस पूनिया प्रेम को लेकर आदिकाल और मध्यकाल से ही लेखन चलता आ रहा है। इस संसार में प्रेम ही ऐसी चीज है जो कभी मिटाई नहीं जा सक...
हिंदी साहित्य जगत में एक समय के बाद कविताएँ लिखना लगभग खत्म सा हो गया था। या यों कहें कि कविताएँ तो लिखी जाती रहीं मगर स्तरीय लेखन का उनमें अभाव था। साहित्यकार अब न तो दरबारी कवि थे और न ही उन्हें किसी तरह का पारिश्रमिक या मानदेय मिल पा रहा था। अपवाद स्वरूप जिन्हें...
किताब - आई लव यू लेखक - कुलदीप राघव प्रकाशक - रेड ग्रैब बुक्स मूल्य - 125 रुपए विधा - प्रेमपरक उपन्यास समीक्षक - तेजस पूनियाअव्वल तो मुझे प्रेम कहानियाँ पसंद नहीं लेकिन फिर भी प्रेम पर आधारित कई कहानियाँ और फिल्में देखीं हैं। पसंद न आने का...