ब्लॉगसेतु

                                                       "अंतिम गंतव्य,बाक़ी"स्वतंत्र भारत हो गया केवल स्मृतियाँ बाक़ी ...
                                                                "भावनायें बनकर" गिर गईं भावनायें बनक...
                                                      एक सलाम 'अमर शहीदों' के नाम उगते सूर्य की किरणों जैसा दृढ़ निश...
                                                                           ...
                                                   "गिर जायेंगे,ये ढेर बन" "गिर जायेंगे,ये ढेर बन"इन आँसुओं से सींच दूँ मैं ह...
                                                 "जाति-धर्म का ध्वज" 'लेख'   सर्वप्रथम मैं कहना चाहूँगा,हम मात्र इंसान हैं,न कि कि...
                                                 "हाँ,मैं मन हूँ" "हाँ,मैं मन हूँ" हाँ मैं मन हूँ मानव का करतल हूँ ...
                                                   "तैरतीं ख़्वाहिशें" भाग 'पाँच'  "तैरतीं ख़्वाहिशें"आज़ मैं फिर सपनें देखता हू...
                                              "तैरतीं ख़्वाहिशें" भाग 'चार' "तैरतीं ख़्वाहिशें"कई रातें काटीं हैं,मैखानों में पीते-पीते मुक़्क़म...
                                                                           ...