ब्लॉगसेतु

 "स्वतंत्रता के सही मायनें"                                                                 &nb...
                                                    "तूँ है एक अनुपम तस्वीर" 'नारी'  चिरस्थाई जीवन वट "नारी" चिरस्थाई जी...
                                                                           ...
                                                                          ...
                                   "अभिव्यक्ति"(अनमोल मानस की प्रेरणा से)       "अभिव्यक्ति"विचारों की अभिव्यक्ति अपनी स्वतंत्रता रखती है। कहने क...
                                                                   "सूनें वीरानों में कभी-...
                                                    "मेरी हताशा"    "मेरी हताशा"  मेरी हताशा ....दिल को जलाती ...
                 "माँ के इस रुसवाई का"(बदलते दौर में माँ-बेटी का रिश्ता)  बदलते दौर में माँ-बेटी का रिश्ता रातों को मैं जागा करती कुछ पल तुझे सुलाने को पेट में आग लगी है मे्रे रोटी तुझे खिला...
                                                      "बस एक काम चाहिए"  बस एक काम चाहिए भूखे पेट को,आराम चाहिए&nbs...
                                                  "मेरे आज़ाद शेर" भाग 'चार'   चमकीली रूह क़ो ,जमीं पे न गिरने दो उड़ जायें...