ब्लॉगसेतु

सरदार वल्लभ भाई पटेल आज धन्य हुए. आख़िर जिस विचारधारा के वो विरोधी रहे, उस विचारधारा के वंशज भी उनकी मूर्ति के उद्घाटन के बाद लहालोट हो रहे हैं. मूर्ति भी कोई ऐसी वैसी नहीं, 182 मीटर यानि दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति. अहमदाबाद से 200 किलोमीटर की दूरी पर स्थित इस&nbsp...
जीना इसी का नाम है...सेल्फी युग में किसी मरीज या गरीब को केला, अमरूद तक देते हुए अपनी फोटो फेसबुक पेज पर डाल दी जाती है, खुद को धर्मात्मा दिखाने के लिए, ऐसे में राजस्थान के शिशुरोग विशेषज्ञ डॉ रामेशवर प्रसाद यादव ने जो किया, उसके लिए उन्हें सैल्यूट ...जो उन्होंने क...
इसे कहते हैं डबल स्टैंडर्ड...केरल के सबरीमाला के अयप्पा मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर सुप्रीम कोर्ट की अनुमति के बावजूद बीजेपी इसका विरोध कर रही है...'बीजेपी के शाह' कह रहे हैं कि कोर्ट ऐसे फैसले सुनाए कि जिनका पालन हो सके... फोटो साभार...द हिन्दूकेरल में लेफ...
अमृतसर दशहरा हादसे में जिन्होंने अपनों को खोया, वो भरपाई किसी जांच, किसी मुआवजे से पूरी नहीं होगी. लेकिन अपने अंदर झांक कर हम ये तो सोच ही सकते हैं कि परंपराओं के नाम पर ऐसे खतरे हम कब तक मोल लेते रहेंगे?अमृतसर में दशहरे पर जो हादसा हुआ, वो हर किसी को अंदर तक हिला...
आभार: अक्षिता मोंगा (Arre.co.in)क्या #MeToo के साथ भी वैसा ही होने वाला है जैसे कि विदेश से आयातित कैम्पेनों के साथ अतीत में होता रहा है. किस-किस ने क्या-क्या कहा?  किस-किस के खिलाफ कहा? पलटवार में क्या-क्या कहा गया?  एक्शन-रीएक्श...
2011  स्वामी निगमानंद2018  स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद (प्रोफेसर जी डी अग्रवाल)मैली गंगा की धारा को अविरल और निर्मल देखने के लिए दोनों ने प्राणों की आहुति दे दी...ऐसा करने से पहले दोनों ने आमरण अनशन किया...जो देश के कथित कर्णधार हैं, उनके कानों पर जूं तक नही...
महंगे LPG  सिलेंडर को दोबारा भरवाने के लिए पैसे कहां से लाएं  गरीब? धूल फांक रहे हैं कनेक्शन, माताएं-बहनें लकड़ी और गोबर के उपलों पर खाना बनाने को मजबूरफोटो आभार- अरविंद गुप्ता/HTप्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (PMUY)  को मोदी सरकार की ‘क्रांतिकारी योजना...
क्रिकेटर से नेता बने इमरान ख़ान को पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बने जुम्मा जुम्मा दो हफ्ते ही हुए हैं...लेकिन वहां कुछ घटनाएं ऐसी हुई हैं जिन्हें लेकर नई नवेली सरकार आलोचनाओं के घेरे में हैं...मीडिया में भी इन घटनाओं को जमकर तूल दिया जा रहा है...वहां के टीवी चैनलों पर...
कभी किसी ने सोचा कि हमारे देश से अंग्रेज़ राज चला गया, वायसराय चले गए...लेकिन जो लाट साहब वाली व्यवस्था उनके वक्त लागू थी वो कई मामलों में आज़ादी के 72वें साल में भी देश में जारी है...क्यों आज भी तमाम कलेक्टर जिलों में महलनुमा सरकारी कोठियों में नौकर-चाकरों के हुजू...
AMU में 'जिन्ना'...यानी माहौल को चार्ज करने का पूरा मसाला...बस वही सब सुना जाएगा जिसे सुनने के मकसद से अलीगढ़ के बीजेपी सांसद सतीश गौतम ने AMU के VC को चिट्ठी लिखी कि यूनिवर्सिटी में जिन्ना की तस्वीर क्यों लगी है?...अब कोई तथ्य बताने की कोशिश करेगा तो उसे ‘देशद्रोह...