ब्लॉगसेतु

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) में 28-29 सितंबर की रात को सर्जिकल स्ट्राइक्स पर हमारे देश की ओर से आधिकारिक तौर पर जो जानकारी दी गई, उस पर यकीन नहीं  करने की कोई वजह नहीं है. पीओके में आतंकवादियों के 6 ठिकाने ध्वस्त किए गए और ‘डबल डिजिट’ में आतंकवादी मारे गए....
आतंकियों को अपनी जमीन पर घुसपैठ करने से रोकने का भारत को पूरा अधिकार है. इसी अधिकार के तहत 28-29 सितंबर की रात को भारतीय सेना ने LOC को पार कर सर्जिकल स्ट्राइक्स में 6 आतंकी ठिकानों को नेस्तनाबूद कर दिया. अब सवाल है इसके बाद क्या? क्या पाकिस्तान बदले में कोई कार्रव...
 पोस्ट लेवल : LoC Surgical Strike IndoPak War जंग एलओसी
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पर सोमवार को पूरी दुनिया की नजरें टिकी थीं कि वे संयुक्त राष्ट्र महासभा के 71वें अधिवेशन में क्या बोलती हैं. खास तौर पर आतंकवाद को लेकर. इसी मंच से कुछ दिन पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अपने भाषण में जिस तरह कश्मीर का मुद्दा...
समाजवाद बबुआ धीरे धीरे आई,समाजवाद उनके धीरे धीरे आई,हाथी से आई, घोड़ा से आई,अँगरेजी बाजा बजाई,नोटवा से आई,बोटवा से आई...गोरख पाण्डेय ने 1978 में ये कविता लिखी थी तो मुलायम सिंह यादव  39 साल के थे. तब तक वो उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री भी बन गए थे. विधायक तो ख...
उरी आर्मी बेस पर आतंकी हमले के बाद भारत-पाकिस्तान रिश्तों में तनाव चरम पर है. ऐसे में हर किसी को इंतजार था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान को क्या संदेश देते हैं. हमले के एक हफ़्ता बीतने के बाद प्रधानमंत्री कोझीकोड में बीजेपी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में ब...
सोशल नेटवर्किंग साइट्स को ही सब कुछ मान लेने वालों को एक फिल्म ज़रूर देखनी चाहिए- ‘वेटिंग’…अनु मेनन की डायरेक्ट की ये फिल्म इस साल मई में रिलीज हुई थी...इस फिल्म में नसीरूद्दीन शाह और कल्कि केकला की मुख्य भूमिकाएं थीं...अधेड़ शिव (नसीर) और युवा तारा (कल्कि), दोनो...
वो सिर पर लाश ढो रहा था,और पूरा भारत सो रहा था...वो कौन?  किसकी लाश? वो दाना मांझी और लाश उसकी पत्नी अमांग की...ओडिशा के भूख के लिए अभिशप्त कालाहांडी ज़िले के भवानीपटना गांव के रहने वाले दाना मांझी की ये तस्वीर...पत्नी की लाश सिर पर...साथ चलती बिलखती 12 साल क...
दोस्तों, एक सज्जन मेरे पीछे हाथ धोकर पड़ गए थे कि मैं केंद्र की मौजूदा सरकार की बहुत आलोचना करता हूं...इसके लिए उन्होंने और उनके चेले चपाटों ने मुझे बहुत अपशब्द भी कहे...यहां तक कि मेरी पोस्ट पर कॉमेंट करने वाले मेरे कुछ सम्मानित मित्रों को भी नहीं बख्शा गया..आ...
आज जिस तरह का दौर है, उसमें कोई दूसरे की सुनने को तैयार नहीं है...राजनीति, धर्म, जाति से बंधी अपनी विचारधाराएं हैं, जिनमें आलोचना सुनने का किसी के पास संयम नहीं है...सब अपने मठाधीशों के पीछे हैं...मठाधीशों के अपने हित हैं, स्वार्थ है...ऐसे में इनसानियत, मेल-मोहब्बत...
ओमरान दाकनीश अब ठीक है...3 साल के मासूम के ज़ख्मों को साफ कर अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है...लेकिन ओमरान के साथ खेलने वाला उसका 10 साल का भाई अली दाकनीश अब इस दुनिया में नहीं रहा...शनिवार को उसकी अस्पताल में मौत हो गई...ओमरान के साथ उसके माता-पिता, एक भाई और...