ब्लॉगसेतु

शिखा वार्ष्णेय के भुक्खड़ घाट Bhukkhad Ghat पर जाना बेहद ज़रूरी है  ... क्योंकि भूखे पेट भजन ना होये !और पेट भरने के लिए चटक मटक तो होना ही चाहिए।  इसी चोखे स्वाद के लिए कह रही हूँ, इस घाट पर पधारो -बिना दाल और तेल का मेदू वड़ासामग्री -3 ब्रे...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
मीना शर्मा का ब्लॉग   प्रतिध्वनि  https://rwmeena.blogspot.com/काश - प्रतिध्वनिकाश !"माँ, नदी देखने चलोगी ?"मेरे बीस वर्ष के बेटे ने ये सवाल किया तो लगा सचमुच वह बड़ा हो गया है । वह अच्छी तरह जानता है मुझे नदी देखना कितना अच्छा लगता है।बारिश के म...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
श्वेता सिन्हा का ब्लॉग मन के पाखीसृष्टिप्रसूति-विभाग केभीतर-बाहरसाधारण-सा दृष्टिगोचरअसाधारण संसारपीड़ा में कराहतेअनगिनत भावों सेबनते-बिगड़ते,चेहरों की भीड़ऊहापोह में बीतता प्रत्येक क्षणतरस-तरह की मशीनों केगंभीर स्वर से बोझिलवातावरण में फैली स्पिरिट,फिनाइल की गंधस...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
स्वप्न मेरे दिगंबर नासवा जी के स्वप्न https://swapnmere.blogspot.com/ घर मेरा टूटा हुआ सन्दूक है ...घर मेरा टूटा हुआ सन्दूक हैहर पुरानी चीज़ से अनुबन्ध है     पर घड़ी से ख़ास ही सम्बन्ध हैरूई के तकिये, रज़ाई, चादरें   खेस है जिसमें के माँ...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
गगन शर्मा का ब्लॉग  कुछ अलग साhttp://kuchhalagsa.blogspot.com/अपने इतिहास को जानना भी जरुरी हैबहुत खेद हुआ जब हल्दीघाटी के बारे में एक दसवीं के छात्र ने अनभिज्ञता दर्शाई ! हल्दीघाटी तो एक मिसाल भर है। ऐसी  शौर्य, साहस , निडरता, देशप्रेम की याद दिलाने वाल...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
  सुधा देवरानी और उनकी  nayisochhttps://eknayisochblog.blogspot.com/क्रोध आता नहीं , बुलाया जाता हैकितनी आसानी से कह देते हैं न हम कि क्या करें गुस्सा आ गया था ...  गुस्से में कह दिया....                &...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
नील परमार का ब्लॉगSearch ResultsWeb resultsतिश्नगीदुख की सूचनाभौतिकी का एक स्थापित सत्य हैकि प्रकाश की गति अद्वितीय हैसूर्य से धरती की दूरी नाप लेता है प्रकाश मिनटों मेंऔर बादल गरजने की ध्वनि से भी पहलेदिख जाती है हमे कड़कती हुई बिजलीफिर भीऐसा कितना कुछ हैजो है हमार...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
रेणु का ब्लॉगSearch ResultsWeb resultsमीमांसा --नहीं भूलती वो माँ --सस्मरणबात जनवरी  1992 की है जब मैं अपनी  बुआ जी  के यहाँ अम्बाला कैंट गई  हुई थी | उन दिनों   मेरे फूफाजी , जो मर्चेंट नेवी  में काम करते थे   ,  भी घर आये ह...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
कामिनी सिन्हा का ब्लॉगSearch ResultsWeb resultsमेरी नज़र से - Blogger.com" भाग्य विधाता "- कौन ??  " मनुष्य अपने भाग्य का निर्माता स्वयं हैं " बचपन से ही ये सदवाक्य  सुनती आ रही हूँ। कभी किताबो के माध्यम से तो कभी अपने बुजुर्गो  और ज्ञानीजनों के मुख...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
  उषा किरण का  ताना बाना  http://ushascreation.blogspot.com/"सभ्य औरतें”चुप रहोख़ामोश रहोसभ्य औरतें चुप रहती हैंकुलीन स्त्रियाँ लड़ती नहींभले घर की औरतें शिकायत नहीं करतींसहनशीलता ही औरत का गहनाऔर वे गहने पहन रही हैं ,निभा रही हैं दोनों कुलों क...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन