ब्लॉगसेतु

अनुराधा चौहान का ब्लॉगमेरे मन के भाव प्यार की तलाशरिया उदास बैठी सोच रही थी,कि वो कैसी किस्मत लेकर पैदा हुई है जब भी किसी से प्यार मिलने लगता वो ही उससे दूर हो जाता है।रिया का जन्म संयुक्त परिवार में हुआ था दादा-दादी चाचा-चाची माँ-पापा हँसता खेलता परिवार था।रि...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
वंदना गुप्ता का ब्लॉग ज़ख्म…जो फूलों ने दिये  तुम्हारा स्वागत है ***************1 तुम   कहती  हो  " जीना है मुझे "मैं कहती हूँ ………… क्यों ?आखिर क्यों आना चाहती हो दुनिया में ? क्या मिलेगा तुम्हे जीकर ?बचपन से ह...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
रोहिताश घोड़ेला का ब्लॉग रोहितास घोड़ेला  कायाकल्पजब 'यह' क्रूर या निर्दयी है तब उन लोगों ने किनारा किया जिन्होंने मेरे शानदार दिनों में अपना भरण पोषण करवाया छोटी छोटी चीजों के लिए मोहताज़ रहे  इनको जरा भी नहीं तरसाया।तरस आये मुझ परये चाहत भी नहीं...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
 अनीता लागुरी"अनु" के ब्लॉग से मिलिए,Search ResultsWeb resultsअनु की दुनिया : भावों का सफ़रबहीखाता मेरे जीवन का..!!Search Resultsक स्त्री समेटती हैं,अपने आँचल की गाँठ में, परिवार की सुख शांति, और समझौतों से भरी हुई अंतहीन तालिका.ख़ुद के उसके दुखो...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
आँचल पांडेय और उनका ब्लॉगआत्म रंजन  मृत्यु तुम स्वयं अप्सरा हो - आत्म रंजन  कोई यदि पूछे कि मृत्यु क्या है तो हम  कहेंगे जीवन का अंत है मृत्यु। जीवन सुंदर है तो मृत्यु भयंकर है,जीवन दयालु है तो मृत्यु क्रूर है। पर क्या वास्तव में जीवन जैसी...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
आज है लवली गोस्वामी का ब्लॉग The Three Graces  दुनिया का शब्दकोश. - The Three Graces  जहाँ मैं पली – बढ़ी उन मनुष्यों में अहंकार का आदिवास थाइतनी उथली थी उनकी गागर कि बात - बात में छलक जाती थीकमज़ोर फिनाइल पी लेतेबहादुर तलवार - लाठी लेकर दूसर...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
प्रस्तुत है विश्वमोहन जी का ब्लॉगVISHWAMOHAN UWAACH विश्वमोहन उवाचदीदी के भाई जी - vishwamohan uwaach विश्वमोहन ...  'बड़े मामा' चले गए. 'दीदी (हम माँ को दीदी ही कहते थे) के भाई जी'  चले गए. रात उतर  चुकी थी. चतुर्दशी का चाँद पूरनमासी की चौखट पर...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
पल्लवी सक्सेना और उनका ब्लॉगSearch ResultsWeb resultsमेरे अनुभव (Mere Anubhav)मेरे अनुभव (Mere Anubhav): मृत होती संवेदनाएं आज बहुत दिनों बाद एक मित्र के कहने पर कुछ लिख रही हूँ। अन्यथा अब कभी कुछ लिखने का मन नहीं होता। लिखो भी तो क्या लिखो। कहने वाले कहते है अरे य...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
नूपुर शांडिल्य और उनका ब्लॉग नमस्ते namaste  कैलेंडरसुबह से ही गहरे बादल घिरे हुए थे. सायली झटपट काम निबटा कर जल्दी घर जाना चाहती थी. इधर कुछ दिनों से झुटपुटा होने से पहले घर पहुँचने की कोशिश रहती थी उसकी. उसकी खोली तक पहुँचने के रास्ते में एक चाय की...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन
वर्ष का आखिरी महीना हमारे आगे है और मैं हूँ आपके समक्ष भिन्न भिन्न ब्लॉगस की रचनाओं के वार्षिक अवलोकन के साथ।  निःसंदेह, पसन्द मेरी,दृष्टिकोण मेरा  ... जिसे चाहिए आपका साथ।  तो परेशानियों में घिरी ज़िन्दगी से जब जब वक़्त मिलेगा, मैं उपस्थित ह...
 पोस्ट लेवल : 2019 का वार्षिक अवलोकन