ब्लॉगसेतु

सभी हिंदी ब्लॉगर्स को नमस्कार। बेटी बांसुरी स्वराज पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) अब इस दुनिया में नहीं रहीं। अचानक दिल का दौरा पड़ने की वजह से मंगलवार की देर रात वह इस दुनिया को छोड़कर चली गईं। 67 साल की बीजेपी नेता सुषमा स्वराज का पूरे...
सभी हिंदी ब्लॉगर्स को नमस्कार। राजेन्द्र सिंह (अंग्रेज़ी: Rajendra Singh, जन्म- 6 अगस्त, 1959, बागपत ज़िला, उत्तर प्रदेश) भारत के प्रसिद्ध पर्यावरण कार्यकर्ता हैं। वे जल संरक्षण के क्षेत्र में कार्य करने के लिए प्रसिद्ध हैं। राजस्थान का अलवर ज़िला शुरू से एक स...
सभी हिंदी ब्लॉगर्स को नमस्कार। केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर से धारा 370 (Article 370) हटाने का ऐलान कर दिया. इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर को मिला विशेष राज्य का दर्जा भी खत्म हो गया. वहीं सरकार ने जम्मू-कश्मीर को दो हिस्सों में बांटने का ऐलान भी किया. इसके अनुसार...
प्रिय ब्लॉगर मित्रों,प्रणाम |बहुत पुरानी बात है, एक सेठ के पास एक व्यक्ति काम करता था । सेठ उस व्यक्ति पर बहुत विश्वास करता था जो भी जरुरी काम हो वह सेठ हमेशा उसी व्यक्ति से कहता था।वो व्यक्ति भगवान का बहुत बड़ा भक्त था । वह सदा भगवान के चिंतन, भजन, कीर्तन, स्मरण त...
सभी हिंदी ब्लॉगर्स को नमस्कार। मैथिलीशरण गुप्त (अंग्रेज़ी: Maithili Sharan Gupt, जन्म- 3 अगस्त, 1886, झाँसी; मृत्यु- 12 दिसंबर, 1964, झाँसी) खड़ी बोली के प्रथम महत्वपूर्ण कवि थे। महावीर प्रसाद द्विवेदी की प्रेरणा से आपने खड़ी बोली को अपनी रचनाओं का माध्यम बनाय...
सभी हिंदी ब्लॉगर्स को मेरा सादर नमस्कार।पिंगली वेंकैया (अंग्रेज़ी: Pingali Venkayya, जन्म: 2 अगस्त, 1876, आन्ध्र प्रदेश; मृत्यु: 4 जुलाई, 1963) भारत के राष्ट्रीय ध्वज 'तिरंगा' के अभिकल्पक थे। वे भारत के सच्चे देशभक्त, महान् स्वतंत्रता सेनानी एवं कृषि वैज्ञानिक भी थ...
सभी हिंदी ब्लॉगर्स को मेरा सादर नमस्कार।पुरुषोत्तम दास टंडन (अंग्रेज़ी: Purushottam Das Tandon, जन्म- 1 अगस्त, 1882, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 1 जुलाई, 1962) आधुनिक भारत के प्रमुख स्वाधीनता सेनानियों में से एक थे। वे 'राजर्षि' के नाम से भी विख्यात थे। उन्होंन...
ब्लॉग बुलिटेन-ब्लॉग रत्न सम्मान प्रतियोगिता 2019 का अड़तीसवां दिन, समापन दिन है।  यूँ तो यह 24 जुलाई को खत्म होना था, परन्तु, पहली बार को ध्यान में रखते हुए प्रोत्साहन के तौर पर हमने इसे 31 तक कर दिया।मृत्यु दंड | डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी - लघुकथा दुनिया&n...
दिशादिशा जिन्दगी की, दिशा बन्दगी की, दिशा सपनों की, दिशा अपनों की, दिशा विचारों की, दिशा आचारों की, दिशा मंजिल को पाने की, दिशा बस चलते जाने की....मिलिए दीपाली तिवारी से - उदासीhttps://deepali-disha.blogspot.com/2019/05/blog-post.html?m=1 मत छोड़ तू उम्मीद...
रेणु  रचनात्मकता के छोटे से प्रयास के रूप में ब्लॉग लेखन | मूलतः पढना ही सर्वोपरि |चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा ----- कविता - क्षितिज  चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा भला ! कैसे पहुँच पाऊँगी मैं ? पर ''इक रोज मिलूंगी तुमसे  ''कह जी को बहला...