ब्लॉगसेतु

कुछ सवाल   *******1.कुछ सवाल ठहर जाते हैं मन मेंमाकूल जवाब मालूम है मगर कहने की हिमाकत नहीं होतीकुछ सवालों को सवाल ही रहने देना उचित है...
धरोहर   *******   मेरी धरोहरों में कई ऐसी चीज़ें हैं   जो मुझे बयान करती हैं   मेरी पहचान करती हैं   कुछ पुस्तकें जिनमें लेखकों के हस्ताक्षर   और मेरे लिए कुछ संदेश है   कुछ यादगार कपड़े जिसे मैं...
महज़ नाम  *******   कभी लगता था कि किसी के आँचल में   हर वेदना मिट जाती है   मगर भाव बदल जाते हैं   जब संवेदना मिट जाती है   न किसी प्यार का ना अधिकार का नाम है   माँ संबंध नहीं   महज पुकार क...
 पोस्ट लेवल : रिश्ता माँ संतान समाज
रेगिस्तान  *******   आँखें अब रेगिस्तान बन गई हैं   यहाँ अब न सपने उगते हैं न बारिश होती है   धूलभरी आँधियाँ चल रही हैं   रेत पे गढ़े वे सारे हर्फ मिट गए हैं   जिन्हें सदियों पहले   किसी ऋषि ने लिख दि...
 पोस्ट लेवल : रेगिस्तान
दिवाली (दिवाली पर 7 हाइकु)   *******   1.   सुख समृद्धि   हर घर पहुँचे   दीये कहते।   2.   मन से देता   सकारात्मक ऊर्जा   माटी का दीया।   3.   दीयों क...
 पोस्ट लेवल : हाइकु दिवाली
दंगा...   *******   किसी ने कहा ये हिन्दु मरा   कोई कहे ये मुसलमान था   अपने-अपने दड़बे में कैद   बँटा सारा हिन्दुस्तान था !   थरथराते जिस्मों के टुकड़े  मगर जिह्वा पे रहीम-ओ-राम था   क...
चाँद (चाँद पर 10 हाइकु)   *******   1.   बिछ जो गई   रोशनी की चादर   चाँद है खुश।   2.   सबका प्यारा   कई रिश्तों में दिखा   दुलारा चाँद।   3.   सह न सका&n...
 पोस्ट लेवल : हाइकु चाँद
रिश्ते(10 हाइकु)  *******   1.   कौन समझे   मन की संवेदना   रिश्ते जो टूटे।   2.   नहीं अपना   कौन किससे कहे   मन की व्यथा।   3.   दीमक लगी   अंदर से...
 पोस्ट लेवल : हाइकु रिश्ते
जीवन की गंध   *******  यहाँ भी कोई नहीं   वहाँ भी कोई नहीं  नितान्त अकेले तय करना है  तमाम राहों को पार करना है,  पाप और पुण्य, सुख और दुख  मन की अवस्था, तन की व्यवस्था  समझना ही होगा  सँभालना ही होगा  &nb...
 पोस्ट लेवल : क्षणिका चिन्तन
जादुई नगरी   *******   तुम प्रेम नगर के राजा हो   मैं परी देश की हूँ रानी   पँखों पर तुम्हें बिठा कर मैं   ले जाऊँ सपनो की नगरी।   मन चाहे तोड़ो जितना   फूलों की है मीलों क्यारी   कभी श...
 पोस्ट लेवल : प्रेम