ब्लॉगसेतु

हाँ! मैं बुरी हूँ *******मैं बुरी हूँ   कुछ लोगों के लिए बुरी हूँ   वे कहते हैं-   मैं सदियों से मान्य रीति-रिवाजों का पालन नहीं करती   मैं अपनी सोच से दुनिया समझती हूँ   अपनी मनमर्ज़ी करती हूँ, बड़ी ज़िद्दी हू...
हथेली गरम-गरम ******* रात हो मतवाली-सी   सपने पके नरम-नरम   सुबह हो प्यारी-सी   दिन हो रेशम-रेशम   मन में चाहे ढेरों संशय   रस्ता दिखे सुगम-सुगम   सुख-दुःख दोनों जीवन है   मन समझे सहज-स...
 पोस्ट लेवल : स्वप्न जीवन प्रेम
बेअख्तियार हूँ *******1.बेअख्तियार हूँ *** भावनाएँ और संवेदनाएँ   अपनी राह से भटक चुकी हैं   अब शब्दों में पनाह नहीं लेती   आँखों में घर कर चुकी है   कभी बदली बन तैरती है   कभी बारिश बन बरसती है ...
 पोस्ट लेवल : 8 क्षणिका
पापा ******* ख़ुशियों में रफ़्तार है इक   सारे ग़म चलते रहे   तुम्हारे जाने के बाद भी   यह दुनिया चलती रही और हम चलते रहे   जीवन का बहुत लम्बा सफ़र तय कर चुके   एक उम्र में कई सदियों का सफ़र कर चुके  &nbs...
 पोस्ट लेवल : कविता पुण्यतिथि पापा
प्यारी नदियाँ ******* 1. नद से मिली   भोरे-भोरे किरणें   छटा निराली।   2. गंगा पवित्र   नहीं होती अपवित्र   भले हो मैली।   3. नदी की सीख -   हर क्षण बहना   नहीं...
पखेरू (8 हाइकु) ******* 1. नील गगन   पुकारता रहता -   पाखी, तू आ जा!   2. उड़ती फिरूँ   हवाओं संग झूमूँ   बन पखेरू।   3. कतरे पंख   पर नहीं हारूँगी,   फिर...
योग ******* जीवन जीना सरल बहुत   अगर समझ लें लोग   करें सदा मनोयोग से   हर दिन थोड़ा योग।   हजारों सालों की विद्या   क्यों लगती अब ढोंग   आओ करें मिलकर सभी   पुनर्जीवित ये योग।  &nb...
 पोस्ट लेवल : योग चिन्तन जीवन
ओ पापा! ******* ओ पापा!   तुम गए   साथ ले गए   मेरा आत्मबल   और छोड़ गए मेरे लिए   कँटीले-पथरीले रास्ते   जिसपर चलकर   मेरा पाँव ही नहीं मन भी   छिलता रहा।   तुम्हार...
 पोस्ट लेवल : पितृ दिवस पापा
एक गुलमोहर का इन्तिज़ार है ******* उम्र के सारे वसंत वार दिए   रेगिस्तान में फूल खिला दिए   जद्दोजहद चलती रही एक अदद घर की   रिश्तों को सँवारने की   हर डग पर चाँदनी बिखराने की   हर कण में सूरज उगाने की&nbsp...
 पोस्ट लेवल : व्यथा स्त्री
स्मृति में तुम (11 हाइकु)*******1. स्मृति में तुम   जैसे फैला आकाश   सुवासित मैं।   2. क्षणिक प्रेम   देता बड़ा आघात   रोता है मन।   3. अधूरी चाह   भटकता है मन   नहीं...
 पोस्ट लेवल : व्यथा हाइकु प्रेम