ब्लॉगसेतु

रक्त-पिपासासुलग रहा मानवीय मूल्यों का गठजोड़लो पैदा हो रहे हैं रक्तबीजों-सेरक्त-पिपासायुक्त मानव चारों ओरकर लो संरचना पूरी पृथ्वी कीहर देश दहलीज़ पर बैठा हैरक्त-पिपासायुक्त मानव चारों ओरपरिवर्तन ने रचा ऐसा खेलसुंदर सुकोमल मन में बस गयादुनियाभर का बैरकरना नहीं चाहता...
....... उसकी क्या गलती थीउसने तो तिरंगा पकड़ रखा थाआखिरी गोली जब सीने में जा धंसी जमीन पर वो चित् पड़ा था रह रह कर हलक़ सेकुछ चीखे बेलौस लड़ रही थी चेहरे में उभरते दर्द के निशां और हाथों में उसके सीने से बहता खून भरा था क्या गलती थी उसक...
कब तक दबाओगे चीख़ों कोकब तक दफ़्न करोगे हमें त&...
अरे चुप..क्या आप भी ना...!!किसने कहा.. मैं रोई हुँ...बिलकुल नहीं....ये तो एक बर्फ का शिला है।जो अंदर कहीं सालों सेरिस्ता आ रहा है..!!जो अक्सर आँखों में कमपर दिल की गहराईयों में..ज्यादा पनीला है..!                   ...
*************************जंगल के बीचोबीच,पत्थरों की ओट मेंउग आया थ&...
....…......... एक बस्ती में एक चीख उभरी थी, श्रेणी थी डर... उ&#2360...
(........ इससे पहले कि ठंड खत्म हो जाए एक कविता ठंड पर &#2350...
  चित्र गूगल से साभारमरुस्थल चीत्कार उठाप्रसव वेदना से कराह उठा धूल-धूसरित रेतीली मरूभूमि मेंनागफनी का पौधाढीठ बन उग उठाथा उसका सफ़र बड़ा कठिनबादलों ने रहम न दिखाया न उसे कोई उर्वरक मिला ज़मीं से नमी का सहारा न मिला फिर भी ढी...
चित्र और जानकारी गूगल से( यह तस्वीर हॉलीवुड के बहुत ही प्रसिद्ध अभिनेता आर्नोल्ड श्वार्जनेगर की है, वह अपने समय के बहुत ही प्रसिद्ध फिल्म अभिनेता और बॉडीबिल्डर रहे हैं, उनके पीछे जो होटल है उसके सामने यह जो सिल्वर  की  विशाल मूर्ति लगी है, ये इनकी खुद की...