ब्लॉगसेतु

 मैं तेरी सोन चिरैया......................... ओ मैया मेरी, मैं तेरी सोन चिरैया छोड़कर तेरा अँँगना उड़ जाऊंगी फुर्र से कहींले बांध दें तागा  मेरे पैरों पर फिर ना जाऊँँगी कहीं तेरे मनुहार से बाबा के लाड - प्यार सेगिर कर उठती रह...
मुँह अँधेरे वह चल पड़ती हैअपनी चाँगरी में डाले जूठे बर्तनों के जोड़ेऔर सर पर रखती है एक माटी की हाँडीऔर उठा लेती है जोजो साबुन की एक छोटी-सी टिकियाजो वहीं कहीं कोने में फेंक दी जाती हैऔर नंगे पाँव ही निकल पड़ती है पोखर की ओरहुर्र... हुर्र....हुर्र....मर सैने पे...
उस  धुँए में कुछ पक रहा था शायद कुछ सपने..! कुछ रोटी के कुछ खीर के,या शायद दाल मास के, गीली लकड़ियाँ भी सुलग रही थीउस माटी के हाँडी के संग..!वो हाँडी ही जाने,क्या समाया था उसमें,पर लकड़ी के पीढ़े पर बैठा छोटूबुनने लगा था सपने हजार,अम्मा की आँखों मे...
                               चित्र गूगल से                                  ..........  &nbsp...
                                चित्र : गूगल से                       
                                चित्र: गूगल से                                       ...
                                       बिट्टू                               
                                      .......दूर निकल आई हूँ, सब कुछ छोड़ करअब दुआएं बद्दुआऐं मेरा पीछा नहीं करतीलेकिन ना जाने फिर भी क्यूँऐ ज़िंदगी तेरी हर बात से डर लगता...