ब्लॉगसेतु

आज बात करते हैं एक ही ब्लॉग  न दैन्यं न पलायनम् में प्रकाशित आयुर्वेद श्रृंखला की। वाग्भट्ट की पुस्तक के आधार पर आयुर्वेद के ज्ञान को हम सब से साझा किया है श्री प्रवीण पाण्डेय जी ने।  न ब्लॉग परिचय का मोहताज है न ब्लॉगर। यह श्रृंखला अत्यंत रोचक होने...
महिलाओं का शोषण, भारत में आज से नहीं, अनादिकाल से हो रहा है... तथ्यों को तोड़ मरोड़कर राम कथा को नारी वादी दृष्टिकोण से देखने और राम के चरित्र पर उंगली उठाने के कारण यह पोस्ट मुझे अच्छी नहीं लगी। मैने इशारा किया तो मेरे कमेंट को पूर्वाग्रह मान लिया गया। अब आगे...
आज बात करते हैं एक बेहूदा, मूर्खतापूर्ण आलेख की जिसे अभी तक मेरे सहित 16 ब्लॉगरों ने गूगल में और न जाने कितनो ने फेसबुक और ट्यूटर में शेयर किया। एक को छोड़कर इस ब्लॉग पर आये सभी कमेंट बताते हैं कि आलेख बहुत बढ़िया है। एक विद्वान ब्लॉगर डा0 श्याम गुप्त जी ने इस पोस्...
बलात्कार! बलात्कार! बलात्कार! अखबार, चीखता है बार-बार! लेकिन समूचा ब्लॉग जगत..फेसबुक हिल गया इस बार। जहाँ जाओ वहीं आक्रोश देखने को मिला। पढ़ते-पढ़ते कभी मनुष्य होने पर शक तो कभी शर्मिंदगी का एहसास इस कदर प्रभावी होने लगा कि लगा दिमाग की नसें फट जायेंगी। कितना पढ़ा...
(1) न दैन्यं न पलायनम्....यह प्रवीण पाण्डेय जी का ब्लॉग है। जानता हूँ, इससे सभी परिचित हैं। मैं बस भूमिका के लिए बता रहा हूँ। पिछले दिनो इस ब्लॉग पर एक पोस्ट आई.. पढ़ते-पढ़ते लिखना सीखो। शीर्षक पढ़कर तो ऐसा लगा कि यह बच्चों को कोई उपदेश देने वाली पोस्ट है लेकि...
 पोस्ट लेवल : चर्चा
(1) My dreams 'n' Expressions....  अनुलता जी ने अपने इस ब्लॉग पर ढलते सूरज का जो शब्द चित्र खींचा है उसकी टक्कर दे पाना अच्छे-अच्छे छायाकारों के बस का नहीं।  इस कविता को पढ़कर मुझसे न रहा गया, लिख ही आया ...बड़ी प्यारी कविता है। कभी शाम की ऐसी तस्वीर खींच...
 पोस्ट लेवल : चर्चा
मैने कल अभी एक नया ब्लॉग बनाया आज यह दूसरा!  आप भी कहेंगे.. पगला गया है! लेकिन यह अनायास बन गया । अब बन गया तो बन गया।  हुआ यह कि कल चित्रों का एक ब्लॉग बनाया..चित्रों का आनंद।  कुछ देर बाद संतोष जी का फोन आया.."अरे! सब गड़बड़ा दिये पाण्डेय जी!! आपके...
 पोस्ट लेवल : मेरा कमेंट