ब्लॉगसेतु

    कल जब ऑफिस से घर के लिये निकले तो सूरज अपने शाम के चरम पर था, जैसे कोई दिया बुझने से पहले जमकर लौ देता है, जैसे कि सप्ताहांत के दो दिनों में सूरज अपने न निकलने का मलाल निकाल रहे हों, या फिर बादलों से खुद को छिपाने का बदला ले रहे हों। घर पहुँचे त...
अतिथि ब्लॉग पोस्ट – राजीव कोहली    सोच थिएटर ग्रुप को शुरू करने के पीछे बस एक ही मकसद था, इस समाज में एक सकारात्मक बदलाव लाना और इसके लिए नाटक से अच्छा और कोई माध्यम नहीं हो सकता। खास तौर पर नुक्कड़ नाटक। बस इसी उम्मीद के साथ हम कुछ लोगों ने इस थि...
    जब भी मोबाईल पर हम नेट सर्फिग करते हैं, हमेशा ही 3 जी हो या 2 जी हो हम हमेशा ही गरियाते रहते हैं, पर आजकल कुछ अच्छे ब्राउजर भी उपलब्ध हैं जैसे कि यूसीब्राउजर(UCBrowser) जिनसे हम डाटा और नेटवर्क की कम रफ्तार होने पर भी हम अपने सारे कार्य कर सकते...
    कल गुड़गाँव में केवल दो घंटे की बरसात हुई जिसका असर यह हुआ कि गुड़गाँव जो कि सायबरसिटी के नाम से उत्तर में जाना जाता है, जाम में फँस गया। सायबर सिटी के नाम से केवल मशहूर है - गुड़गाँव, पर सुविधाओं के नाम पर कुछ भी नहीं है, अच्छा पब्लिक ट्रांसपोर...
    बचपन हमेशा ही हर किसी के लिये अनूठा होता है और हमेशा ही हम अपना बचपन हम भूल जाते हैं, वही बचपन हम हमारे बच्चों में हमेशा ही ढ़ूँढ़ते हैं। चाहते हैं कि हम अपने बच्चे के बचपन को उसके साथ वापस से जियें, कुछ बातों की हमेशा ही हमें अपने पालकों से शिक...
    दुनिया में जब तक आप किसी पर विश्वास न करें तब तक किसी भी कार्य का संपादन होना मुश्किल ही नहीं वरन नामुमकिन है, सारे कार्य खुद नहीं कर सकते और मानवीय मन अपनी बातों को किसी को बताने के लिये हमेशा ही उद्यत रहता है। हर किसी को अपने मन और दिल की बात ब...
    आज से ठीक पाँच वर्ष पूर्व हमने अपने पाँच वर्ष पूर्ण होने पर यह पोस्ट लिखी थी और अब हमें ब्लागिंग में दस वर्ष पूरे हो गये हैं, इस दौरान लगभग 1100 पोस्टों का आँकड़ा हम छूने वाले हैं, और बहुत उससे कहीं ज्यादा प्रतिक्रियाएँ मिली हैं। ब्लॉगिंग जब शुर...
पढ़ाई में सब कुछ करना पड़ता है, जब सरकारी विद्यालय में पढ़ते थे तब हमारे विषय में यह भी था कि प्राचार्य महोदय को बीमारी का कारण अवकाश के लिये पत्र लिखो। हम वाकई तभी पत्र लिखना सीखे थे और लगता था कि संप्रेषण का कितना अच्छा माध्यम है, पर कभी यह समझ नहीं आता था कि हम...
बच्चों के लिये निबंध -प्रदूषण आज की दुनिया की एक गंभीर समस्या है। प्रकृति और पर्यावरण के प्रेमियों के लिये यह भारी चिंता का विषय बन गया है। इसकी चपेट में मानव-समुदाय ही नहीं, समस्त जीव-समुदाय आ गया है। इसके दुष्प्रभाव चारों ओर दिखाई दे रहे हैं।प्रदूषण का शाब्दिक अ...
    घर से फरमाइश थी कि ऑफिस से आते समय आइसक्रीम लेते आना, तो कल हम थोड़ी से देर हो गई, वैसे शाम को साढ़े छ: तक घर पहुँच जाते हैं पर कल साढ़े नौ बज गये। हम हमेशा जिस साईकिल रेहड़ी वाले से आइसक्रीम लेते हैं, उसके पास पहुँचे और बात करने लगे, कहा कि दो...