ब्लॉगसेतु

लुंबिनी में माया देवी का मंदिर और भगवान बुद्ध की जन्मस्थली देखकर वापस लौट रहा हूं। मन में अदभुत शांति और संतोष की अनुभूति है। पर आपको पता है सातवीं सदी तक प्रमुख स्थल रहा लुंबिनी बाद में लोगों की नजरों से ओझल हो गया था। लुंबिनी की खोज 1898 में डाक्टर एलाएस एनंटन फु...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA NEPAL
दुनिया भर से लोग आएंगे - शाक्यमुनि गौतम बुद्ध ने कहा था, हे आनंद, जब मैं नहीं रहूंगा। मेरे साथ आस्था रखने वाले लोग विश्वास, उत्सुकता और भक्तिभाव के साथ यहां आएंगे। लुंबिनी वह स्थल जहां मेरा जन्म हुआ, आध्यात्मिक भाव और शांति का अन्यतम स्थल बनेगा। यह उस समय का स...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA NEPAL
शाम के छह बजे हैं और मैं एक बार होटल से निकल कर अपनी साइकिल लेकर माया देवी मंदिर की ओर चल पड़ा हूं। इस मंदिर का प्रवेश गेट नंबर 4 से है। गेट से करीब एक किलोमीटर अंदर जाने के बाद हरे भरे विशाल परिसर में मायादेवी का मंदिर है। काफी लोग मंदिर की ओर पैदल भी जा रहे हैं।...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA WORLD HERITAGE SITE NEPAL
लुंबिनी में अलग अलग देशों के बौद्ध मठ मंदिर वन क्षेत्र के बीच में बने नहर के पूर्व और पश्चिमी किनारे पर बने हैं। अब मैं नहर के पश्चिमी तट पर बने मंदिरों को देखने निकल पड़ा हूं। पर इस भीषण गर्मी में बार बार पानी और जूस का सहारा लेना पड़ रहा है, ताकि कड़ी धूम में साइ...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA NEPAL
लुंबिनी वन क्षेत्र में मैं साइकिल से गेट नंबर 4 से प्रवेश कर गया हूं। दोनों तरफ हरे भरे जंगल हैं। साल के लंबे वृक्ष के बीच से गुजरते हुए जून के महीने में भीषण गर्मी के बीच राहत का एहसास हो रहा है। आगे नन्ही सी नदी तलार का पुल आया। लुंबिनी के इस वन क्षेत्र में कई पक...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA NEPAL
सिद्धार्थ यातायात की मिनी बस में बैठकर मैं लुंबिनी के लिए चल पड़ा हूं। नेपाल में इन सभी जगह पर भारतीय मुद्रा चलती है। इसलिए मैंने एनसी यानी नेपाली करेंसी नहीं ली है। एक भारतीय रुपया 1.60 नेपाली रुपये के बराबर है। इसी तरह से आप हर जगह भारतीय करेंसी भी भुगतान कर सकते...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA NEPAL
पिपरहवा स्मारक देखने के बाद आगे निकल पड़ा हूं। यहां मौजूद भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के स्टाफ ने बताया कि आप आगे जाकर गनवरिया के प्राचीन स्मारक भी देख लें। सड़क पर लगे मार्ग संकेतक में दो प्रमुख बौद्ध स्थलों की दूरी यहां से लिखी गई है। कुशीनगर 147 किलोमीटर और श्रावस...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA UTTAR PRADESH NEPAL
पिपरहवा में कपिलवस्तु के पुरातन स्थल पर पहुंच गया हूं। मई 2019 से ही यहां प्रवेश के लिए 25 रुपये का टिकट निर्धारित कर दिया है। यह प्रवेश टिकट की दर भारत और सभी बिमस्टेक सदस्यों देशों के नागरिकों के लिए है। अन्य विदेशी नागरिकों के लिए प्रवेश टिकट 300 रुपये का है। इस...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA UTTAR PRADESH NEPAL
सुबह पांच बजे जगकर स्नान करके तैयार हो गया हूं। अपने लॉज से रेलवे स्टेशन जाकर वहां लगे ऑटो वालों से पिपरहवा चलने की बात करता हूं। एक आटो वाले ने कहा आपको कपिलवस्तु का बौद्ध स्तूप देखना है तो आटो बुक कर लें। उनसे 400 रुपये में बात हुई। सभी साइट दिखाने के बाद वे हमें...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA UTTAR PRADESH NEPAL
देवी पाटन मंदिर से चलकर मैं वापस रेलवे स्टेशन आ गया हूं। तुलसीपुर से अब मुझे नौगढ़ जाना है। नौगढ़ मतलब जिला सिद्धार्थनगर का मुख्यालय। लखनऊ से गोंडा, बलरामपुर तुलसीपुर का सफर मैंने बसों से किया था, पर आगे की यात्रा रेलगाड़ी से होनी है। पर रेलगाड़ी रात को 8.15 बजे आए...
 पोस्ट लेवल : UTTAR PRADESH TRAVEL