ब्लॉगसेतु

लखनऊ के कैसरबाग डिपो पहुंच गया हूं। यहां से मुझे गोंडा की बस लेनी है। वैसे तो गोंडा ट्रेन से भी जा सकता था। पर सुबह सात बजे कोई ट्रेन नहीं है। इसलिए बस से यात्रा करने को तय किया। वैसे तो मुझे गोंडा से आगे बलरामपुर जाना है। कैसरबाग डिपो से एक बस सीधे बलरामपुर भी जा...
 पोस्ट लेवल : UTTAR PRADESH WATER
यूं तो मैं गाजियाबाद में रहता हूं पर गाजियाबाद रेलवे स्टेशन से ट्रेन पकड़ने का मौका कम ही मिलता है। पर इस बार हमारी लखनऊ जाने वाली ट्रेन गाजियाबाद से है। नई दिल्ली लखनऊ एसी एक्सप्रेस रात को 12.05 बजे गाजियाबाद स्टेशन पर मिलती है। मैं 20 मिनट पहले गाजियाबाद रेलवे स्...
 पोस्ट लेवल : UTTAR PRADESH RAIL
जयपुर से वापसी की राह पर हूं,  पर इस बार बस से नहीं बल्कि रेलगाड़ी से। सुबह सुबह जयपुर रेलवे स्टेशन पर पहुंच गया हूं। रेलवे स्टेशन को रंग रोगन कर सुंदर बनाने का काम जारी है। रेलवे स्टेशन परिसर में मीटर गेज का एक पुराना लोकोमोटिव दिखाई देता है। हालांकि इस ल...
 पोस्ट लेवल : RAJSTHAN RAIL
जयपुर के सिटी पैलेस और बड़ी चौपड़ के आसपास राजस्थानी प्रिंट वाले कपड़ों की असंख्य दुकाने हैं। जयपुर और आसपास के इलाके ब्लॉक प्रिंटिंग वाले कपड़े बेडशीट, चादरे, बंधेज आदि के लिए जाने जाते हैं। पर इन सबके बीच आपने जयपुरी रजाई की चर्चा भी खूब सुनी होगी।जयपुरी रजाई काफ...
 पोस्ट लेवल : RAJSTHAN
जयपुर के सिटी पैलेस से निकल आमेर की राह पकड़ ली है। आमेर जाने के लिए दिन भर सिटी बसें मिल जाती हैं। शहर से बाहर निकलने के बाद जलमहल से आगे चलने पर कोई 10 किलोमीटर बाद आमेर के किले पर पहुंचा जा सकता है। आमेर से पहले कनक घाटी आती है। यहां से एक रास्ता नाहरगढ़ किले के...
 पोस्ट लेवल : RAJSTHAN WATER
आभानेरी से चांद बावड़ी देखने के बाद लौट रहा हूं। बावड़ी के बाहर गन्ने का जूस पीया। पर वापस जाने के लिए कोई वाहन नहीं मिला। फिर एक बाइक वाले सज्जन ने लिफ्ट दे दी। गूलर तक पहुंच गया। गूलर से सिकंदरा एक जीप में। जीप पूरी भर गई थी तो छह किलोमीटर का सफर पीछे लटकर खड़े ह...
 पोस्ट लेवल : RAJSTHAN
आभानेरी रोमांचक चांद बावड़ी के अलावा हर्षत माता के मंदिर के लिए भी प्रसिद्ध है। बावड़ी के ठीक पहले माता का प्राचीन मंदिर स्थित है। पहले श्रद्धालु बावड़ी में स्नान करने के बाद माता के दर्शन किया करते थे। आभानेरी गांव स्थित हर्षत माता मंदिर का निर्माण चौहान वंशीय राज...
 पोस्ट लेवल : TEMPLE RAJSTHAN
आपको पता दुनिया की सबसे बड़ी बावड़ी कहां है। नहीं तो हमारे साथ चलिए। राजस्थान के दौसा जिले में एक गांव है आभानेरी। आभानेरी जाने के लिए हम जयपुर से चल पड़े हैं दौसा। यह सड़क जयपुर से आगरा की ओर जा रही है। दौसा से आगे सिकंदरा कस्बे में मैं उतर गया। सिकंदरा से आटो रिक...
 पोस्ट लेवल : RAJSTHAN WATER
अगर आप उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में हैं और रेलवे स्टेशन पहुंचे हैं तो देहरादून रेलवे स्टेशन के बाहर उल्टी तरफ देखिए। आरक्षण भवन के प्रवेश द्वार पर आपको एक छोटा सा लोकोमोटिव मुस्कुराता हुआ नजर आएगा। यह लोकोमोटिव टॉय ट्रेन दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे का है।किसी जमा...
 पोस्ट लेवल : RAIL UTTRAKHAND
टपकेश्वर महादेव के दर्शन करके मैं शहर में लौट आया हूं। अब हमारी मंजिल है सहस्त्रधारा। देहरादून के बाहरी इलाके में स्थित है सहस्त्रधारा। यहां जाने के लिए सिटी बसें लैंसडाउन चौक के आसपास से मिलती हैं। एक बस में बैठ कर मैं सहस्त्रधारा की तरफ चल पड़ा। बस नगर के कई आवास...
 पोस्ट लेवल : UTTRAKHAND WATER