ब्लॉगसेतु

कई बार महानगरों की तुलना में मध्यम आबादी वाले शहर कुछ नई चीजें शुरू करते हैं जो खूब सफल हो जाती हैं। जैसे भोपाल शहर में सिटी बसों में टिकट बुकिंग के लिए मोबाइल एप शुरू किया गया है। युवा पीढ़ी के लोग इस एप का इस्तेमाल खूब कर रहे हैं। आप गूगल के प्ले स्टोर से चलो नाम...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH
सीहोर में दिलीप भाई के परिवार से विदा लेकर भोपाल के लिए निकल पड़ा हूं। सुबह सुबह उनके घर सुस्वादु नास्ता करने को मिला। अपने गांव घर की याद आ गई। सीहोर से भोपाल के बीच शेयरिंग एंबेस्डर कारें चलती हैं। हालांकि एंबेस्डर कार का उत्पादन तो कई साल पहले बंद हो चुका है। पर...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH
सीहोर का रिश्ता स्वतंत्रता आंदोलन के दमकते इतिहास से है। यहां हम चैन सिंह की छतरी पर पहुंचे हैं। चैन सिंह कौन थे। चैन सिंह भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास के भूले बिसरे शहीद हैं। उनकी याद में सीहोर में उनकी छतरी बनाई गई है पर सीहोर के लोगों को भी उनके बारे में ज...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH
देश भर में गणपति के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है सीहोर का चिंतामण गणेश मंदिर। कहते हैं यहां के गणेश जी जल्दी सुनते हैं। आपकी चिंता दूर करते हैं और मुरादें पूरी करते हैं। देश के बड़े बड़े उद्योगपति और राजनेता यहां गणेश जी के दर्शन करने और उनका आशीर्वाद लेने आते हैं...
 पोस्ट लेवल : TEMPLE MADHYA PRADESH
भोजपुर से भोपाल की राह आसान है। यहां से हमें शेयरिंग आटो रिक्शा मिल गया जिसने हमें मंडीदीप के पास होशंगाबाद हाईवे पर उतार दिया। रास्ते में देख पा रहा हूं कि भोजपुर मंदिर वाली सड़क पर भी नई नई आवासीय कालोनियां बन रही हैं। भोपाल शहर का यहां तक विस्तार हो रहा है।अब हम...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH
आशापुरी से चलकर मैं भोजपुर पहुंच गया हूं। वैसे ज्यादातर लोग भोजपुर भोपाल से आते हैं। भोपाल से भोजपुर आने के लिए बस और आटो की नियमित सेवा है। यह मंडीदीप से काफी निकट है। भोपाल शहर का विस्तार धीरे धीरे भोजपुर तक होता जा रहा है। भोजपुर के शिवमंदिर में सालों भर हर रोज...
 पोस्ट लेवल : TEMPLE MADHYA PRADESH
भीम बेटका से निकलकर हाईवे पर आ गया हूं। कोई बस नहीं मिल रही है। थोड़ी देर में ओबेदुल्लागंज तक जाने वाला एक आटोरिक्शा मिल गया। ओबेदुल्लागंज बाजार में पहुंचने पर भूख लग गई है। एक होटल में खाने के लिए पहुंचा। साठ रुपये में भरपेट भोजन। रोटी, चावल, दाल सब्जी की थाली।&nb...
 पोस्ट लेवल : TEMPLE MADHYA PRADESH
हम पहुंच गए विश्व विरासत स्थल भीम बेटका के प्रवेश द्वार पर। यहां पर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षेण के सुरक्षा गार्ड लगे हुए हैं। यहां पर हमें एक गाइड भी मिलते हैं जो कुछ सौ रुपये लेकर हमें भीम बेटका दिखाने की बात करते हैं। पर उनकी कोई खास जरूरत नहीं है। यहां पर सभी गुफ...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH WORLD HERITAGE SITE
एक दिन पहले की अपेक्षा भोपाल में आज ठंड बढ़ गई है। फरवरी के महीने में इतनी ठंड भोपाल में कभी नहीं पड़ी। सुबह सुबह मैं भीम बेटका के लिए निकल पड़ा हूं। होटल से चेकआउट कर दिया है। हमने रेलवे स्टेशन के पास के बस स्टैंड से इटारसी जाने वाली बस ली है। भीम बेटका  भोपा...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH WORLD HERITAGE SITE
जब 1999 में भोपाल जाना हुआ था तो सुबह के नास्ते में वहां पर पोहा मिल रहा था दो रुपये में । वहां नास्ते में आपको अब भी पोहा मिल जाएगा पर अब उसके लिए आपको 10 रुपये चुकाने होंगे। वैसे तो पोहा इंदौर का लोकप्रिय नास्ता है, पर इंदौर से नजदीक होने के कारण भोपाल की सड़कों...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH GOOD FOOD