ब्लॉगसेतु

भोपाल के बड़ी ताल के एक तरफ श्यामला हिल्स है तो दूसरी तरफ पुराना भोपाल। पुराना भोपाल मतलब शहर का मुस्लिम बहुल इलाका। भोजताल के किनारे वीआईपी रोड पर एक कलात्मक मस्जिद नजर आती है। इस मस्जिद का नाम लाल इमली मस्जिद है। इस मसजिद की इमारत लाल जरूर है पर इसे लाल इमली मसजि...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH MASJID
भोपाल का राजकीय संग्रहालय देखने के बाद मानव संग्रहालय चल पड़ा। यह जनजातीय संग्रहालय से आधे किलोमीटर दूर है। मानव संग्रहालय दूसरी बार आया हूं। यहां पर भोपाल दर्शन कराने वाली एक अनूठी बस दिखाई देती है। इसमें बैठ कर धीमी गति के सफर में भोपाल दर्शन का आनंद लिया जा सकता...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH WATER
मध्य प्रदेश का राजकीय संग्रहालय - भोपाल के श्यामला हिल्स इलाके में ही जनजातीय संग्रहालय के बगल में मध्य प्रदेश का राजकीय संग्रहालय है। इस विशाल संग्रहालय में भी खास तौर पर मूर्तियों का बड़ा संग्रह है। पर सबसे चौंकाने वाली चीज यहां देखी जा सकती है 25 लाख साल पु...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH
अपना देश रहन सहन के मामले में कितना अनूठा है। भिन्न भाषा भिन्न देश- भारत अपना एक देश। पर देश के रहन सहन के भिन्नता को देखना और समझना हो तो मध्य प्रदेश के जनजातीय संग्रहालय में पहुंचिए।मध्य प्रदेश का ये जन जातीय संग्रहालय, भोपाल के श्यामला हिल्स इलाके में स्थित है,...
 पोस्ट लेवल : MADHYA PRADESH
कई साल बाद दिल्ली से भोपाल की राह पर हूं। इस बार एक शादी का न्योता आया है। शादी भोपाल में है इसलिए जाने से इनकार नहीं कर सका। क्योंकि इसी बहाने भोपाल जाने का मौका मिल रहा है। मेरा आरक्षण हरिद्वार एलटीटी सुपर फास्ट एक्सप्रेस ट्रेन में है। यह ट्रेन निजामुद्दीन स्टेशन...
 पोस्ट लेवल : RAIL MADHYA PRADESH
दिल्ली में बीआरटी कारीडोर को लेकर खूब हो हल्ला हुआ था एक मार्ग पर लागू हुई पर वह सफल नहीं हो सकी। पर अहमदाबाद में ये खूब सफल है। महाराष्ट्र के पुणे शहर में भी बीआरटी सफल है।  बीआरटी मतलब बस रैपिड ट्रांसपोर्ट।अहमदाबाद शहर में मनपा द्वारा बीआरटीएस को संचालित&nbs...
 पोस्ट लेवल : TRAVEL Gujrat
अहमदाबाद के जिस कालूपुरा इलाके में हम ठहरे हैं वहां पर पतंगों का थोक बाजार है। आपको तो पता होगा कि अहमदाबाद पतंगबाजी के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। दीपावली खत्म होने के बाद गुजराती लोग पतंगबाजी में खो जाते हैं। ये सिलसिला दो महीने तक चलता रहता है। जनवरी में यहा...
 पोस्ट लेवल : Gujrat
आटो से अहमदाबाद की सड़कों पर चलते हुए पता चलता है कि हम कोचरब से गुजर रहे हैं। मुझे कुछ याद आता है। मैंने बापू पर पुस्तकें पढ़ते हुए ये जाना था कि कोचरब वही जगह है जहां पर साबरमती से पहले बापू ने आश्रम बनाया था। आप चाहें तो कोचरब आश्रम को अंदर जाकर घूम सकते हैं। यह...
 पोस्ट लेवल : Gujrat GANDHI
सरखेज रोजा के पास ही हमें हमारे आटो वाले हजरत ख्वाजा शेर अली बाबा की दरगाह दिखाने ले जाते हैं। वह चिश्ती परंपरा के सूफी संत थे। मुख्य सड़क पर इन महान सूफी संत की दरगाह है। इस दरगाह पर हमेशा स्थानीय लोगों की भीड़ होती है। बड़ी संख्या में लोग मन्नत मांगने पहुंचते हैं...
 पोस्ट लेवल : MASJID Gujrat
लोथल से वापस लौटते समय में हमें बागोदरा में बर्ड सेंक्चुरी का पथ संकेतक नजर आता है। बगोदरा से 28 किलोमीटर की दूरी पर नाल सरोवर बर्ड सेंक्चुरी है जो गुजरात का प्रसिद्ध वेटलैंड है। यहां खास तौर पर दिसंबर से फरवरी के बीच जाकर घूमा जा सकता है। यहां पर बर्ड वाचिंग और बो...
 पोस्ट लेवल : MASJID Gujrat