ब्लॉगसेतु

.facebook-responsive { overflow:hidden; padding-bottom:56.25%; position:relative; height:0; } .facebook-responsive iframe { left:0; top:0; height:100%; width:100%; position:absolute; } सारांश सागर द्वारा प्रकाशित किय...
 पोस्ट लेवल : अन्य Raju Shrivastav
अरे रे अरे ये क्या हुआ - Are Re Are Ye Kya Huaमूल गीत तो फिल्म दिल तो पागल है के लिएसंगीतकार उतम सिंह जी के निर्देशन में उदित नारायण व लता जी ने गाया है !गीत आनंद बक्षी जी का लिखा हुआ है ।अरे रे अरे ये क्या हुआ, मैने ना ये जानाअरेरे अरे बन जाए ना, कहीं कोई अफ़साना...
किसी की मुस्कराहटो पे हो निसार - नितिन मुकेश | Gyansagar ( ज्ञानसागर ) सारांश सागर द्वारा प्रकाशित किया गया अनुभव को सारांश में बताकर स्वयं प्रेरित होकर सबको प्रेरित करना चाहता हूँ !             
 पोस्ट लेवल : अन्य वायरल वीडियो
किशोर दा की आवाज में वायरल होता ये वीडियो अवश्य देखे ! सोनू निगम , श्रेया घोसल और संजय लीला भंसाली ने किया जमकर तारीफ !! लोगो ने भी इसके गाने को खूब पसंद किया ! सारांश सागर द्वारा प्रकाशित किया गया अनुभव को सारांश में बताकर स्वयं प्रेरित होकर सबको प्रेरित...
 पोस्ट लेवल : अन्य वायरल वीडियो
छोटे- छोटे बच्चो में ऐसा हुनर देख कर ❤ दिल खुद ब खुद खुश हो जाता है ! सोविअल मीडिया पर इस बच्ची का ये सुरीला गाना बड़ी तेजी से वायरल हो रहा है ! इसे जो भी देख रहा है , बिना शेयर किये बिना नहीं रुक पा रहा है ! आप भी देखिये और आनंद लीजिये !
 पोस्ट लेवल : अन्य वायरल वीडियो
आज के समय में वंश बढ़ाने , समाज में अपने परिवार के अंश को जिम्मेदारी देने व् कई उद्देश्यों के साथ विवाह की महत्वता ऋषि मुनियों ने बतलाई है और हमारे पूर्वजो ने भी इसके कई फायदे बतलाये है ! कई तपस्वी का मानना है कि गृहस्थ आश्रम से बढ़कर कोई तप भी नही !! इसीलिए समाज में...
आज तमाम नेता और समाज सेवा के नाम पर प्रचार करने वाले कुछ लोग शौक और लोकप्रियता के लिए झाड़ू उठाते फिर रहे है ! जो अपने घर में झाड़ू,पोछा नही कर सकते वो अब स्वच्छता का ज्ञान पेल रहे है ! इस अभियान को फ़ैलाने का उद्देश्य तो सकारात्मक था पर इस अभियान के नाम पर वोट बैंक ब...
पढ़ ले भाई, अब वक़्त हो गयारोयेगा फिर नही तो कहेगा ये क्यों,क्या और कब हो गया ?बन्द कर दे ये आलसपना,नही तो हो जायेगा मजबूरनिकल जायेगी सारी तेरी हेकड़ी और रोयेगा भरपूरकितने सपने संजो के तुझ को तेरे अभिभावक पढ़ातेउन सपनो को तुम अपने अय्याशियों से यूँ ही कुचलते जातेयाद आए...
नाम - कुशमा गोसाईं.., 10 साल का बेटा - रामू गोसाईं..,चारों थैलों का वजन 105 किलो.. आज दोपहर करीब 3:00 बजे जब मैं "गुलधर" रेलवे स्टेशन पर उतरा तो सहसा कानों में एक आवाज सुनाई दी--"भैया ई थैला उठवा दीजिए तो "।  पीछे मुड़कर देखा तो लगभग 30 साल की एक महिला खड़ी थ...
एक मनोरंजक कविता - कॉलेज का माहौल | Gyansagar ( ज्ञानसागर )कॉलेज में शुरू के दिनों के बाद का अनुभव को कविता में प्रस्तुत करने की छोटी कोशिश की हैकॉलेज का माहौल है ऐसा,नही सोचा था कभी मैंने जैसाहोती है पढ़ाई यहां दिन भर,नही लगता मेरा जी मनआता मजा जब आते गणित के सर,लग...