ब्लॉगसेतु

क्या चीन को हराया नही जा सकता ?? क्या माओ(Mao tse tung) के चीन को आजतक किसीने धूल नही चखायी ???  १९६७ मी हुये भारत-चीन युद्ध (India China Battle 1967) पर हमने एक लेख लिखा था, इस लेख पर बने युट्युब एपिसोड को आपने काफी प्यार दिया ये एपिसोड को आपने इतना सराह...
साल्हेर किले कि लडाई और प्रतापराव गुजरतराई के दुसरे युद्ध के बाद भारत मे बाहरी(मुस्लीम) राजकर्ताओ ने अपनी सत्ता की शुरवात की थी | इसके बाद खुले मैदानमें लड़ी गयी ज्यादातर लड़ाईयो स्थानिक राजा हारे गए | पर समय हर वक्त एकजैसा नही होता...! साल था १६७२, महाराष्ट्र मे छत्...
Vaishnavastra(वैष्णव अस्त्र) - Fastest Weapon Of Lord Vishnu [Hindi] Vaishnavastra(वैष्णव अस्त्र) - Fastest Weapon Of Lord Vishnu [Hindi] | महाभारत के युद्धमें हमें अनेको अनोखे और महाशक्तिशाली अस्त्र और शस्त्रों के वर्णन दिखाई देते हे | इन अस्त्रों के वर्णन से...
(रुद्रास्त्र और माहेश्वरास्त्र - शिवजी के महाघातक अस्त्र | Rudrastra - Maheshwarashtra Weapons) भगवान शिव के दैवी अस्रो का जब भी जिक्र होता हे तब पशुपतास्र(Pashupatastr) का नाम आता हे, और शस्त्रो मे त्रिशूल के बारे मे चर्चा होती हे. लेकिन बहोतसे लोगो को भगवान...
(26 जनवरी को क्यो मनाया जाता हे गणतंत्र दिवस? History Of Indian Republic Day - 26 January)२६ जनवरी...!! जब भारत अपना ७० वा गणतंत्र दिवस यानी republic दिवस मनायेगा... पर बहोतसे लोगो को गणतंत्र, गणतंत्र दिवस या अनेक विषयो के बारेमे आजभी पता नही हे. हमारा गणतंत्र दिवस...
भीमा कोरेगाव की लड़ाई - Battle Of Koregaon Bhima! पिछले साल की शुरवात थोड़ी सी अशांतता से हुयी थी, कोरेगाव भीमा इस अशांतता का केंद्र हे... आज हम बात करेंगे दुसरे एंग्लो-मराठा युद्ध(3rd Anglo Maratha War) और कोरेगाव की लड़ाई(Battle Of Bhima Koregaon) के बारे में जिसने...
(इंद्रजीत और लक्ष्मण का अंतिम युद्ध)! रामायण का एक महान वीर, जो रावण कि तरफ से लडा था... और अगर वो मारा न जाता तो शायद रामायण के युद्ध का परिणाम कुछ अलग हो सकता था, जिसे इंद्रसे जितने कारन इन्द्रजीत कहा जाता था... नाम था रावणपुत्र मेघनाद !! आजके article मे हम बात क...
राम रावण अंतिम युद्ध(Ram Ravana Finale Battle)राम रावण अंतिम युद्ध(Ram Ravana Finale Battle)! महाभारत इन्सान को धर्म-अधर्म के फेरे मे उलझा देती हे. और हम समझ ही नही पाते की धर्म क्या हे और अधर्म क्या हे. पर रामायण उस निर्मल जल की तरह हे जो हमे सिर्फ नैतिकता और...
साल था १६४५, पुणे से नजदीक लगभग ५००० फिट ऊंचाईपर रायरेश्वर का स्वयंभू शिवलिंग हे. उस दिन कुछ १५-१६ साल के लड़के रायरेश्वर के दर्शन लेने आये थे. उन्होंने रायरेश्वर को साक्षी मानकर कसम खाई .... वो कसम थी हिन्दू राष्ट्र निर्माण की .... हिन्दवी स्वराज्य के निर्माण कि .....
१७६१... पानीपत में भयानक नरसंहार चल रहा था, विश्वासराव के मारे जाने से युद्ध का स्वरुप ही बदल गया था.. मराठे हार रहे थे... युद्ध की परिस्थितियों को देख कर एक ३०-३१ साल का नौजवान घायल हालत में अपनी बची सेना और प्रतिशोध कि अग्नी के साथ अपने राज्य की तरफ निकल पडा...उस...