ब्लॉगसेतु

लाइव देख कर टीवी पे, चिद्दू जी की जंगदांत दबा क&#...
भाग रे चिद्दू भाग, भाग लंका में लग गई आग,लंका मे&...
राज पाट का मोह त्यागजब बबुआ फारेन भागेदरबारी सब जमा हुएमाता की शरण में भागेबोले माता ये बबुआ तो बैंकाक जा भागेकर अनाथ कर हमको जाते ना पीछे ना कोई आगेमाता बोलीं ना घबराओहमरी शरण में आ जाओहम ऐसा मार्ग दिखायेंगेसबके दिल पर छा जाएंगेअब वंश वाद को चूर करेंगेंसत्ता से उन...
एक दिखे अधीर रंजनकरिन वो सुबह सुबह मंजनफिर लोक सभा में बैठ गएफूफा जैसे वो ऐंठ गएबोले हमको ये बतलाओविस्तार से हमको समझाओतुम बीजेपी के भटके नरकुछ किरण इधर भी बिखराओहम सत्तर साल से बोल रहेये जहर सदा से घोल रहेहम काले काले देसी हैंमालिक गोरे परदेसी हैंतुम काहे मासले सा...
अबकी मोदी पहिने सूटपैर चढ़ा के चम चम बूटलिया चारटर प्लेनकरे वो अमरीका स्कूटट्रम्प भये वेरी हैपीपहनी पतलून तथा नैपीजेल लगाया बालों मेंक्रीम लगा कर गालों मेंअगवानी में खड़े झुकेहाथ में पकड़े हुए बुकेजैसे ही मोदी आयाडॉनल्ड क्वाक क्वाक मुस्कायाउसके नारंगी गालों मेंगोल्डन...
हुए खान गम्भीर बैठ कर झेलम जी के तीरबहाएं अखियन से वो नीर ना दूध मिला ना खीरहाथ से जा फिसला कश्मीरकहिन ये मोदी फिर से खेल गयाफिर बीच बजरिया ठेल गयाअमरीका भी हो आयेहम हुंआ भी नैन बहा आयेचच्चा सैम को पटा लिहे थेसाइड में अपनी सटा लिहे थेउनहूँ से भी ये ना काँ...
पहिन पठानी सूट खान जी अमरीका को लपकेइकनॉमी में सफर किया और ट्रंप गोद जा टपकेट्रंप गोद जा टपके बोले भारत को समझाओहमको ना इग्नोर करे तुम ऐसा प्रेशर बनाओदहशतगर्दों गोद लिए हम दरवाजा खटकाते हैंपीठ में छूरा भोंक सकें हम हरदम ये ललचाते हैंओसामा को बना के जीजा घर घर बन्दू...
घाटी में हम दखल करेंगे, बोले अंकल ट्रंपऊँघ रहे थे मोदी जी, झटके से कर गए जम्पझटके से कर गए जम्प, कहिन ये गोरा बोले झूठझूठ बोलता इस डर से, पाक ना जाये रूठपाक ना जाये रूठ वही है सच्चा मीत कहायजितना भी हम जुतिया लें, वो हर दम पूँछ हिलाय
यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत ....रज्जू भाई ने पर्यावरण सप्ताह के बारे में अखबारों में लेख लिखे. शहर भर में बैनर लगवा कर प्रचार किया. जालियाँवालाबाग़ में भी तैयारियाँ जोर शोर से चल रही थीं. ए.सी. टेंट लगा, गुकाने बनीं, झूले लगे, कार पार्क तैयार हुआ. और फिर प...
सरफ़रोश .हमारी तैयारियाँ जोर शोर से चलने लगीं. रज्जू भाई ने शहर के तमाम अखबारों को खबर कर दी कि पर्यावरण दिवस बड़े जोर शोर से मनाया जायेगा. अखबार वालों को वहाँ आने का निमंत्रण भी दिया. इसका नतीजा यह हुआ कि रोज ही अखबार में हमारे सम्मेलन के बारे में खबरें छपने लगीं....