ब्लॉगसेतु

चर्चा मंच की चर्चाकारा श्रीमती राधातिवारी जी के पूज्य पिता श्री भोलादत्त पाण्डेय जी काजोधपुर में लम्बी बीमारी के बाददेहावसान हो गया है।मंच दुःख की इस घड़ी मेंश्रीमती राधातिवारी जी के साथ सहभागी हैऔर अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि समर्पित करता है।बिना आपके है द...
अपनी बालकृति"हँसता गाता बचपन" सेतख्ती और स्लेटसिसक-सिसक कर स्लेट जी रही,तख्ती ने दम तोड़ दिया है।सुन्दर लेख-सुलेख नहीं है,कलम टाट का छोड़ दिया है।। दादी कहती एक कहानी,बीत गई सभ्यता पुरानी।लकड़ी की पाटी होती थी,बची न उसकी कोई निशानी। फाउण्टेन-पेन गायब हैं,...
मित्रों!आज हिन्दी वर्णमाला की अन्तिम कड़ी में प्रस्तुत हैंऊष्म और संयुक्ताक्षरसबसे पहले देखिए..--“ष”“ष” से बन जाता षटकोण!षड्दर्शन, षड्दृष्टिकोण! षट्-विद्याओं को धारणकर,बन जाओ अर्जुन और द्रोण!!-- “श”“श” से शंकर हैं भगवान!शम्भू जी ह...
"व्यञ्जनावली-अन्तस्थ"--“य”“य” से यति वो ही कहलाते!जो नित यज्ञ-हवन करवाते!वातावरण शुद्ध हो जाता,कष्ट-क्लेश इससे मिट जाते!--“र” “र” से रसना को लो जान!रथ को हाँक रहे भगवान!खट्टा, मीठा और चरपरा,सबकी है इसको पहचान!--“ल” “ल” से लड्डू और लंगू...
“व्यञ्जनावली-पवर्ग”  -- "प""प" से पर्वत और पतंग!पत्थर हैं पहाड़ के अंग!मानो तो ये महादेव हैं,बहुत निराले इनके ढंग!!-- "फ" फ से फल गुण का भण्डार!फल सबसे अच्छा आहार! फ से बन जाता फव्वारा,फव्वारे की ऊँची धार!!-- "ब" "ब" से बरगद...
"त""त" से तकली और तलवार!बच्चों को तख्ती से प्यार!तरु का अर्थ पेड़ होता है,तरुवर जीवन का आधार!!”थ”"थ" से थन, थरमस बन जाता!थम से जन जीवन थम जाता!थाम रहा थम जगत-नियन्ता,सबका रक्षक एक विधाता!!"द"द से दवा-दवात-दया है!दंगल में बलवान नया है!कभी नही वो वापिस आया,जो दुनिया...
"हिन्दी व्यञ्जनावली-टवर्ग" --"ट""ट" से टहनी और टमाटर!अंग्रेजी भाषा है टर-टर!हिन्दी वैज्ञानिक भाषा है,सम्बोधन में होता आदर!! --"ठ""ठ" से ठेंगा और ठठेरा!दुनिया में ठलुओं का डेरा!ठग लोगों को बहकाता है,तोड़ डालना इसका घेरा!! --"ड""ड" से बनता डम्बल-डण्डा!...
 पोस्ट लेवल : व्यञ्जनावली-टवर्ग
"च""च" से चन्दा-चम्मच-चमचम!चरखा सूत कातता हरदम!सरदी, गरमी और वर्षा का,बदल-बदल कर आता मौसम!!"छ""छ" से छतरी सदा लगाओ!छत पर मत तुम पतंग उड़ाओ!छम-छम बारिश जब आती हो,झट इसके नीचे छिप जाओ!!"ज""ज" से जड़ और लिखो जहाज!सागर पार करो तुम आज!पानी पर सरपट चलता जो,उस जहाज पर हमक...
 पोस्ट लेवल : व्यञ्जनावली "चवर्ग”
♥ व्यञ्जनावली-कवर्ग ♥"क""क" से कलम हाथ में लेकर!लिख सकते हैं कमल-कबूतर!!"क" पहला व्यञ्जन हिन्दी का,भूल न जाना इसे मित्रवर!!--"ख""ख" से खम्बा और खलिहान!खेत जोतता श्रमिक किसान!!"ख" से खरहा और खरगोश,झाड़ी जिसका विमल वितान!!--"ग""ग" से गङ्गा, गहरी धारा!ग...
 पोस्ट लेवल : व्यञ्जनावली "कवर्ग”
मित्रों...!गर्मी अपने पूरे यौवन पर है।ऐसे में मेरी यह बालरचना आपको जरूर सुकून देगी!पिकनिक करने का मन आया!मोटर में सबको बैठाया!!पहुँच गये जब नदी किनारे!खरबूजे के खेत निहारे!!ककड़ी, खीरा और तरबूजे!कच्चे-पक्के थे खरबूजे!!प्राची, किट्टू और प्रांजल!करते थ...