ब्लॉगसेतु

भौंहें वक्र-कमान न करलक्ष्यहीन संधान न कर ओछी हरक़त करके बन्देदुनिया को हैरान न कर दीन-धर्म पर करके दंगेईश्वर का अपमान न कर मन पर काबू करले प्यारेदिल को बेईमान न कर जल-जंगल से ही जीवन हैदोहन और कटान न कर जो जनता को आहत करदेऐसे कभी बयान न कर...
गौरय्या का नीड़, चील-कौओं ने हथियाया हैहलो-हाय का पाठ हमारे बच्चों को सिखलाया हैजाल बिछाया अपना छीनी है, हिन्दी की बिन्दी भीअपने घर में हुई परायी, अपनी भाषा हिन्दी भीखोटे सिक्के से लोगों के मन को बहलाया हैहिन्दीभाषा से हमने, भारत स्वाधीन कराया थाहिन्दी में भ...
सज्जनता का हो गया, दिन में सूरज अस्त।शठ करते हठयोग को, होकर कुण्ठाग्रस्त।।--नित्य-नियम से था दिया, जिनको भी गुण-ज्ञान।वो चोरी में लिप्त हो, बन बैठे शैतान।।--भूल गये कर्तव्य को, पण्डित और इमाम।पका-पकाया खा रहे, सारे नमक हराम।।--रोज बदलते जा रहे, चोला और जबान।...
 पोस्ट लेवल : दोहे एला और लवंग
गाँधी और पटेल ने, जहाँ लिया अवतार।मोदी का गुजरात ने, दिया हमें उपहार।।--देवताओं से कम नहीं, होता है देवेन्द्र।सौ सालों के बाद में, पैदा हुआ नरेन्द्र।।--साधारण परिवार का, किया चमन गुलजार।मोह छोड़ संसार का, त्याग दिया घर-बार।।--युगों-युगों के बाद में, लेते जन्म...
हो जायेंगे पाक के, अब तो टुकड़े पाँच।झूठ हमेशा हारता, और जीतता साँच।।-- पीओके बन जायगा, भारत का फिर अंग।होंगें तब कशमीर के, बन्धु-बान्धव संग।।-- सोच-समझकर फैसला, करती है सरकार।पूरे ही कशमीर पर, होगा अब अधिकार।।-- झेलेंगे अब हम नहीं, सीमा पर आतंक।ध...
रटे-रटाये शब्द हैं, घिसे-पिटे हैं वाक्य।अँगरेजी करने लगी, हिन्दी का शालाक्य।।--कहने को स्वतन्त्र हैं, लेकिन स्व स्वर्गीय।देवनागरी रह गयी, पुस्तक में पठनीय।।--अँगरेजी की कैद में, हिन्दी है परतन्त्र।अपनी भाषा के लिए, तरस रहा जनतन्त्र।।--बिगड़ गयी है वर...
सबके अपने ढंग हैं, सबके अलग रिवाज।श्राद्ध पक्ष में कीजिए, विधि-विधान से काज।।--श्रद्धा से ही कीजिए, निज पुरुखों को याद।श्रद्धा ही तो श्राद्ध की, होती है बुनियाद।।--मात-पिता को मत कभी, देना तुम सन्ताप।पितृपक्ष में कीजिए, वन्दन-पूजा-जाप।।--जिनके पुण्य-प्रताप...
भाषा के आकाश पर, बादल हैं घनघोर।अँगरेजी भी है लचर, हिन्दी भी कमजोर।। --अँगरेजी का हो रहा, भारत में परित्राण।नौकरशाहों के चले. निज भाषा पर बाण।। --शब्दों का अम्बार है, लेकिन है उलझाव।आते मस्तक में नहीं, अब तो नूतन भाव।।-- लिखता कविता-दो...
आदिदेव के नाम से, करना सब शुभ-कार्य।गणपति की पूजा करो, कहते धर्माचार्य।।--भर देता नवऊर्जा, चतुर्दशी का पर्व।गणपति के त्यौहार पर, भक्तों को है गर्व।।--हुआ चतुर्थी से शुरू, गणपति जी का पर्व।हर्षित होते दस दिवस, सुर-नर, मुनि गन्धर्व।।--वन्दन-पूजन से किय...
मित्रों!13 सितम्बर को मेरे ज्येष्ठ पुत्र नितिन का जन्मदिन है।शुभकामनास्वरूप प्रस्तुत हैं मेरे कुछ उद्गार...!जीवन के क्रीड़ांगन में, तुम बनकर रहो विजेता।जन्मदिवस की बेला पर, आशीष तुम्हें मैं देता।--आदर्शों की नींव हमेशा, अपने बच्चों में ड...