ब्लॉगसेतु

तुम तो जिगरी यार हो ==================दोस्त बनकर आये हो तो मित्रवत तुम दिल रहो गर कभी मायूस हूँ मैंहाल तो पूछा करो ..?-------------------------------पथ भटक जाऊं अगर मैं हो अहम या कुछ गुरुर डांटकर तुम राह लाना (मित्र है क्या ........?)याद रखना तुम जरूर--------------...
 पोस्ट लेवल : mitrata dost bhramar5 yaar
सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाःप्रथम अन्तराष्ट्रीय  योग दिवस पर व् पितृ दिवाद परहार्दिक शुभ कामनाएं |आशा
आओ माँ मै पुनः चिढाऊं==========================मन कहता मै पुनः शिशु बनमाँ के आँचल खेलूँकल्पवृक्ष सम माँ ममता संगगोदी खेले प्रेम का सागर पी लूँ======================मुझे निहारे मुझे दुलारेतुतला गाये शिशु बन जाएहो आनंदित हर सुख पायेमाँ को मेरी ‘आँच ‘ न आये—————————-म...
 पोस्ट लेवल : prem maa mamta bhramar5 janani
दीपावली के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभ कामनाएं \आशा |
मान्यवर,दिनांक 18-19 अक्टूबर को खटीमा (उत्तराखण्ड) में बाल साहित्य संस्थान द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय बाल साहित्य सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है।जिसमें एक सत्र बाल साहित्य लिखने वाले ब्लॉगर्स का रखा गया है।हिन्दी में बाल साहित्य का सृजन करने वाले इसमें प्रतिभाग...
 पोस्ट लेवल : सूचना
उड़े पखेरू पंख फैला पक्षी सा मन उड़ता |खिलती धूप दमकता चेहरा प्यारा लगता |आशा सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः
सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाःजल में घुली चीनी की तरह कभी एक रस ना हो पाए साथ साथ न चल पाए तब कैसे देदूं नाम कोई  ऐसे अनाम रिश्ते को |जल में मिठास आ जाती है चीनी के चंद कणों से होती है हकीकत दिखावा नहीं पर स्थिति विपरीत यहाँ रिश्ता बहुत सुदृढ़ दीखता...
 माँ की ममता पुत्र पर ,बेटी देख रिसाय | तेरा कैसा न्याय प्रभू,कुछ भी समझ न आय || यहाँ वहाँ क्या देखते ,जीवन छूटा जाय | प्रभु सुमिरन करते रहो ,अंत भला हो जाय || जीव न जादू की छड़ी,छूते ही कुम्हलाय | कठिन डगर पार करके ,फल तुरतही मिल जाय || जल अथाह समुन्दर...
( photo with thanks from google/net)प्रिय मित्रों नारियों के प्रति दिन प्रतिदिन बढ़ता अत्याचार मन को बहुत बोझिल करता है जरुरत है बहुत सख्त और सजग होने की , बच्चों में संस्कार भरना बहुत जरुरी हैं उन्हें अनुशासन से कदापि वंचित नहीं करना है बेटा हो या बेटी उन के आचार व...
 पोस्ट लेवल : anyay samaj dard bhramar5 naari