ब्लॉगसेतु

anup sethi
280
विष्‍णु खरे : अधूरी रह गई एक बातचीत, रमेश राजहंस के घर विष्‍णु खरे : जब मैं उन्‍हें विजय कुमार जी के घर ले गया विष्‍णु खरे : विजय कुमार जी के साथ हमारे घर परविष्‍णु खरे : काल और अवधि के दरमियान की प्रति विष्‍णु खरे: पाठान्‍तर की प्रतिलिखते कुछ बन नही...
anup sethi
280
                      कागज पर पेंसिल से रेखांकन : मुदित अर्ध शती पर मुक्‍तिबोध को याद करते हुए काल-प्रस्‍तर पर प्रहार मुक्तिबोध की छेनी से ही किया जा सकता है ह...
anup sethi
280
मैं बचपन में गांव में था तो स्कूल की कोई याद नहीं है, कब लगता था कब छूटता था। बस आना जाना भर याद है। रास्ते में एक खड्ड पड़ती थी। जंगल था। झाड़ियां थीं। उनमें फल होते थे। जंगली बेर होते थे। यही सब याद है। घर में ट्रक के टायर से निकाले हुए रबड़ के सख्त चक्के को 'गड्...
 पोस्ट लेवल : टिप्पणी अंतर्नाद
anup sethi
280
रात दो बजे का वक्त है। पंजाब का एक खदबदाता हुआ शहर - लुधियाना। कहते हैं लुधियाना के लोग विदेश जा बसे हैं। यह एनआरआइयों का शहर है। चमक दमक और ठसक को देखकर लगता है वाकयी यह एनआरआइयों का ही शहर है। लेकिन जितने गए हैं उतने ही रह भी तो गए हैं। तभी तो गमकता है शहर। ये ख...
 पोस्ट लेवल : अंतर्नाद
anup sethi
280
जमाना बदलता है तो उसकी चाल ढाल भी बदलती है। रंग ढंग भी बदलते हैं। क्या चाल ढाल और रंग ढंग से ही जमाने की पहचान होती है? पूरे तौर पर न होती हो, नब्ज तो पकड़ में आ ही जाती है। बाबू की पहचान हुआ करती थी कमीज, धोती या पाजामा, जूता और टोपी। टटपूंजिया बाबू होगा तो सब्जी...
 पोस्ट लेवल : अंतर्नाद