ब्लॉगसेतु

ज्योति  देहलीवाल
0
फेंगशुई चीनी वास्तुशास्त्र है, जो चीन की धार्मिक किताब ‘टोयो’ पर आधारित ज्ञान है। चीन में फेंग का अर्थ होता है ‘वायु’ और शुई का अर्थ है ‘जल’ अर्थात फेंगशुई का मतलब होता है ‘जलवायु’। दुनिया के अनेक देशों में फेंगशुई का जाल फैला हुआ है। वास्तव में फेंगशुई का वास...
ज्योति  देहलीवाल
0
राजस्थानी समाज के लोग सावन (Sawan) महीने के कृष्ण पक्ष की पंचमी को नाग पंचमी (Naag Panchmi) मनाते है, तो महाराष्ट्रीयन लोग सावन महीने की शुक्ल पक्ष की पंचमी को नाग पंचमी मनाते है। सदियों से नागपंचमी के दिन सांपों को दूध पिलाने की परंपरा चली आ रही है। मान्यता है कि...
ज्योति  देहलीवाल
0
मेरे घर पर एक परिचिता आई हुई थी। उसने मुझ से कहा, ''ज्योति, तुम मटके पर लोटा औंधा क्यों रखती हो? मटके पर लोटा औंधा नहीं रखना चाहिए। लोटे में थोड़ा सा ही सही लेकिन पानी जरुर रखना चाहिए। नहीं तो अपशकुन होता हैं!'' ''मटके पर लोटा हम अपनी सुविधानुसार कैसे भी रखे, उ...
ज्योति  देहलीवाल
0
गुजरात के मशहूर स्वामीनारायण संप्रदाय के एक मंदिर के स्वामी कृष्णनस्वरुप दास ने पिछले दिनों एक प्रवचन के दौरान कहा कि, यदि महिलाएं मासिक धर्म के दौरान खाना बनाएंगी तो अगले जन्म में वह श्वान पैदा होगी। सोच और समझ का दुर्भाग्य यहीं खत्म नहीं होता तो इसी संस्थान द्वार...
ज्योति  देहलीवाल
0
शिल्पा का दस वर्षिय बेटा सुहास आंगण में खेल रहा था। उसने बेटे से कहा, ''तुम आंगण में खेल रहे हो...गैया आई तो ख्याल रख कर मुझे आवाज़ लगा देना...मुझे गैया को रोटी देनी हैं।'' इतना कह कर वो अपने काम करने लग गई। थोड़ी देर बाद ही सुहास की आवाज़ आई, ''मम्मी, गैया आ ग...
ज्योति  देहलीवाल
0
आज मेरे बेटे प्रतिक का पहला जन्मदिन था। तंदुरुस्त, गोल-मटोल, प्यारा सा प्रतिक सभी के आकर्षण का केंद्र बना हुआ था। सभी लोग उसकी तारीफ कर रहे थे। मिसेस चांडक प्रतिक की मासुमियम, उसकी तुतलाती हुई मीठी बोली और खूबसूरती के गुणगान करने लगी, ''बहुत प्यारा बच्चा हैं। टी.व्...
ज्योति  देहलीवाल
0
क्या आपको पूर्ण विश्वास हैं कि शुभ मुहूर्त में किए गए कार्य हमेशा शुभ ही होते हैं? शुभ मुहूर्त में शुरु किए गए कार्यों से ही पूर्ण सफलता संभव हो सकती हैं? नई गाड़ी खरीदनी हो, भुमिपूजन करना हो, गृह प्रवेश करना हो या अन्य कोई मांगलिक कार्य हो...प्राय: ये सभी कार्य लोग...
ज्योति  देहलीवाल
0
क्या आप ऋषि पंचमी का व्रत करती हैं? यदि हां, तो व्रत करने से पहले यह लेख ज़रुर पढ़िए...! कोई भी व्रत करने के पिछे मुख्य कारण होता व्रत करने वाले इंसान के मन की श्रद्धा एवं आस्था और उस परिवार की आज तक वो व्रत करने की परिपाठी। वैज्ञानिक कारण जैसे शरीर स्वस्थ रहने...
ज्योति  देहलीवाल
0
                          मैंने कल रात को निश्चय किया था कि मैं आज सर के बाल जरुर धोऊंगी ( सर नहाउंगी)। इसलिए मैंने बालों में तेल भी लगाया था। लेकिन सुबह-सुबह 5 बजे ही एक फोन आया कि हमारें परिचित...
ज्योति  देहलीवाल
0
मैं ट्रैन से तुमसर से नागपुर जा रही थी। बगल वाली सीट पर एक दंपति अपने दो बच्चों (लड़का लगभग 14-15 साल का एवं लड़की लगभग 12-13 साल की ) के साथ सफर कर रहे थे। कन्हान नदी आने के पहले ही उन महोदय ने अपने दोनों बच्चों को एक-एक सिक्का दिया और कहा कि "नदी आ रही है, सिक...