अधजल गगरी छलकत जाये प्राणप्रिये......कैसे  –  कैसे   मंजर    आये   प्राणप्रियेअपने    सारे    हुये   पराये   प्राणप्रिये |सच्चे  की  किस्मत  में  तम...