ब्लॉगसेतु

निरंजन  वेलणकर
245
रुकी रुकी थी ज़िंदगीझट से चल पड़ीहुई खुशी से दोस्तीमज़ा ले ले हर घड़ीएक पल में सब कुछ मिल गयासामने मंज़िल खड़ी......उसके सिवा कुछ याद नहींउसके सिवा कोई बात नहींउन ज़ुल्फो की छवो मेंउन गहरी निगाहों मेंउन क़ातिल अदाओं मेंहुआ हुआ हुआ मैं मस्तउसका नशा मै क्या कहूँ..हर लम...
Manisha Sharma
317
आरक्षण अभी और कई तरीकों से लागू होगाजिस तरह से सरकार अपने खर्चे कम न करके जनता पर और बोझा डालने के लिये नये नये कर (टैक्स) लगाने के तरीके ढूंढ़ती रहता है उसी तरह से राजनैतिक पार्टियां और नेता लोग अपना वोट बैंक बनाने के लिये नये नये वर्गों को आरक्षण का रास्ता दिखाता...
 पोस्ट लेवल : अनुभव आरक्षण सरकार
Lokendra Singh
103
- लोकेन्द्र सिंह -'ट्रेन के सफर में एक बेहद खास बात है, जिसे हमें अपने असल जीवन में भी चरितार्थ करना चाहिए- ट्रेन में जाति का कोई भेद नहीं। सामान्य डिब्बे में तो धन का भी कोई भेद नहीं। सीट खाली है तो हम झट से उस पर बैठ जाते हैं, यह सोचे बिना कि जिससे सटकर बैठना है...
अनंत विजय
55
पिछले दिनों जब फिल्म ‘मुल्क’ का विज्ञापन छपा तो उसमें लिखा था कि 45 फीसदी गैर-मुसलमान उस वक्त असहज हो जाते हैं जब उनके पड़ोस में कोई मुसलमान परिवार रहने आता है। इसी विज्ञापन में छोटे अक्षरों में यह भी लिखा गया था कि ये निष्कर्ष राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण पर आधारित है।...
 पोस्ट लेवल : मुल्क अनुभव सिन्हा
Lokendra Singh
103
मार्क्स और लेनिन को पढ़ने वाला, लिख-गा रहा है नर्मदा के गीतधूनी-पानी में उदासीन संत रामदास जी महाराज के साथ लोकेन्द्र सिंह  ऐसा  कहा जाता है- 'जो जवानी में कम्युनिस्ट न हो, समझो उसके पास दिल नहीं और जो बुढ़ापे तक कम्युनिस्ट रह जाए, समझो उसके पास...
अर्चना चावजी
71
व्हाट्स एप पर नए नंबर से Hiii  के बाद एक प्रश्न और आगे दो टेक्स्ट मेसेज तीन फ़ोटो मेसेज और अंत में फिर वही प्रश्न...टेक्स्ट मेसेज में पहले का अंश - परखो तो कोई अपना नहीं समझो तो कोई पराया नहींGood morningदूसरे का अंश -सुख दुख तो अतिथि हैं बारी बारी से आएंगे चले...
 पोस्ट लेवल : अनुभव
Manisha Sharma
317
पिछले दिनों हम एक पहाड़ी पर्यटन स्थल पर परिवार सहित घूमने गये हुये थे। वहां के मुख्य बाजार में घूमते घूमते एक जगह पर हमने देखा कि एक व्यक्ति ने सपेरे वाली बीन बजानी शुरु कर दी और लोगों का मनोरंजन करने लगा। लोग बाग खुश होकर खुद ही कुछ न कुछ रुपये पैसे उसके आगे रखने...
 पोस्ट लेवल : पर्यटन संगीत अनुभव लोग
निरंजन  वेलणकर
245
p { margin-bottom: 0.25cm; line-height: 120%; }a:link { } लिनक्स (Linux) इस प्रकार की ऑपरेटिंग सिस्टम उबंटू (UBUNTU) साथ तीन साल पूरे हुए! हम में से अधिकतर लोग लैपटॉप या डेस्कटॉप पे विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग करते होंगे| मोबाईल पर आज कल एंड्रॉईड ऑपरेटिंग सि...
जन्मेजय तिवारी
449
                      शाम को पार्क में टहलते हुए शुक्ला जी मिल गए । आज रोज की तरह उनकी चाल में वह तेजी नहीं थी । सामना होते ही मैंने पूछा, ‘क्या बात है मान्यवर, आप तो जैसे पैसेन्जर ट्रे...
केवल राम
319
मनुष्य चेतना का प्रतिबिम्ब है और यही इसकी वास्तविक पहचान है. वैसे अगर चेतना के इस दायरे को मनुष्य से बाहर की दुनिया पर भी लागू किया जाए तो किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए. जब हम इस बात को स्वीकारते हैं कि इस सृष्टि के कण-कण में इसे रचने वाली चेतना समाई है तो सभी...